एक हजार बंदर पकड़ने की मंजूरी खत्म, एजेंसी ने रोका अभियान

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:45 AM IST

Sonipat News - नगर परिषद को डीसी से एक हजार बंदर पकड़ने की मंजूरी मिली थी। एजेंसी द्वारा एक हजार बंदर पकड़ने के बाद अभियान बंद कर...

Gohana News - haryana news end of approval of one thousand monkeys agency stopped
नगर परिषद को डीसी से एक हजार बंदर पकड़ने की मंजूरी मिली थी। एजेंसी द्वारा एक हजार बंदर पकड़ने के बाद अभियान बंद कर दिया। शहर में काफी संख्या में बंदर घूम रहे हैं। बंदर घरों के अंदर घुसकर उत्पात मचाते हैं। लोगों को भी अपना शिकार मनाते हैं। शहर के लोगों ने नगर परिषद से बंदर पकड़ने का अभियान फिर से चलाने की मांग की है।

बीते वर्ष नगर परिषद ने डीसी से मंजूरी लेकर शहर में बंदर पकड़ने का अभियान शुरू किया था। यह कार्य प्राइवेट एजेंसी को दिया हुआ था। एजेंसी के साथ हुए अनुबंध के अनुसान एजेंसी को कलेसर में बंदरों को छोड़कर आना होगा। वहां से बंदर छोड़ने की रसीद भी लेकर आनी होगी। इसके बाद भी एजेंसी को पैमेंट की जाएगी। एजेंसी ने एक हजार बंदर पकड़ने का कार्य बीते दिनों पूरा कर लिया था। इसके बाद भी शहर में बंदर घूम रहे हैं। इससे परेशान लोगों ने नगर परिषद अधिकारियों से बंदर पकड़ने का अभियान फिर से शुरू करने की मांग की है। शहर निवासी ओमप्रकाश, विजेंद्र, सुनील मलिक, विकास कुमार आदि का कहना है कि जब नगर परिषद ने बंदर पकड़ने का अभियान शुरू किया था, सभी बंदर पकड़ने चाहिए थे। कुछ बंदर पकड़ने से लोगों को कुछ राहत मिली हैं, लेकिन अभी भी काफी बंदर घूमते रहते हैं। घर का दरवाजा खुला मिलने पर कुछ बंदर घर के अंदर तक घुस जाते हैं और काफी नुकसान करके जाते हैं। इसलिए बंदर पकड़ने का अभियान शुरू किया जाए। जिससे लोगों को बंदरों से निजात मिल सके।

सिविल अस्पताल में पहुंचते हैं प्रतिदिन 25 से 30 व्यक्ति : लोगों के अनुसार यदि बंदर व कुत्ते को भगाते हैं तो वे हमला कर देते हैं। इसके बाद अस्पताल में इंजेक्शन लगवाया जाता है। सिविल अस्पताल में औसतन प्रतिदिन 25 से 30 व्यक्ति इंजेक्शन लगवाने के लिए पहुंच रहे हैं। अस्पताल में इंजेक्शन लगाने की करीब 100 रुपए फीस है। फार्मासिस्ट धर्मपाल के अनुसार अस्पताल में शहर और ग्रामीण क्षेत्र से लोग इंजेक्शन लगवाने के लिए आते हैं। कुछ गांवों से व्यक्ति इंजेक्शन लगवाने कि लिए खानपुर मेडिकल में भी पहुंचते हैं।

गोहाना. सत नगर में एक मकान पर लगा लोहे का जाल।

बंदरों से बचने को लोग लगवा रहे हैं लोहे का जाल

बंदरों के आतंक से बचने के लिए कुछ लोगों ने घरों पर लोहे के जाल लगवाए हुए हैं। लोहे का जाल घर के आगे व पीछे लगवा लिए जाते हैं। ताकि घर के अंदर बंदर घुस न सके। लोगों का कहना है कि जब बंदर आते हैं तो उनकी काफी संख्या होती है। अंदर घुसने के लिए कुछ बंदर काफी देर तक जाल पर लटके रहते हैं।

X
Gohana News - haryana news end of approval of one thousand monkeys agency stopped
COMMENT