नगर निगम चुनाव को लेकर कैबिनेट में आएगा अध्यादेश

Sonipat News - नगर निगम चुनाव में अब और देर होनी तय हो गई है। निगम चुनाव प्रदेश के विधानसभा चुनाव के बाद होगा। चुनाव में देरी को...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:45 AM IST
Sonipat News - haryana news ordinance will come in the cabinet on municipal elections
नगर निगम चुनाव में अब और देर होनी तय हो गई है। निगम चुनाव प्रदेश के विधानसभा चुनाव के बाद होगा। चुनाव में देरी को लेेकर कोर्ट के आदेश से पूर्व प्रदेश सरकार की ओर से इस संदर्भ में नया अध्यादेश लाने की तैयारी की जा रही है। इसमें कोई निगम बनने तथा भंग होने की स्थिति में साढ़े चार साल की अवधि में भी चुनाव करवाए जा सकेंगे। सोनीपत नगर निगम को बने चार साल हाल में छह जुलाई को ही पूरे हो चुके हैं, लेकिन निगम में चुनाव को लेकर कोई विशेष तैयारी नही हैं। यहां तक कि चुनाव में देरी को लेकर कोर्ट में जारी केस का फैसला भी अब तक नहीं हो सका है। इसके अतिरिक्त हाल में कुछ गांवों के लोग फिर से निगम में शामिल होना चाहते हैं, लेकिन इस पर भी अभी फैसला नहीं हो सका है। निगम के उच्च अधिकारियों का कहना है कि राज्य सरकार से लेकर चुनाव कार्यालय मौजूदा समय में विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटा हैं। राज्य में विधानसभा चुनाव अक्टूबर में होने प्रस्तावित हैं। ऐसे में नई वोटर लिस्ट से लेकर बूथ स्तर पर तैयारियां की जा रही है।

छह महीने की देरी से बढ़कर साढ़े तीन साल तक बढ़ा समय : पूर्व में चुनाव को लेकर छह महीने का ही समय निर्धारित था, लेकिन धीरे-धीरे यह बढ़ते हुए साढ़े तीन साल तक पहुंच गया। नगर निगम गुड़गांव में चुनाव साढ़े तीन साल की अवधि के बाद करवाए गए थे।

छह जनवरी के बाद हो सकते हैं सोनीपत निगम चुनाव

एक बड़ी वजह ये भी

विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। ऐसे में इससे पहले निगम चुनाव करवाकर जनता को बार-बार चुनाव प्रक्रिया से गुजरना ठीक नहीं, वहीं सत्तासीन भाजपा सरकार भी चुनाव से ऐन मौके पहले किसी भी राजनीतिक उठापटक से बचना चाहती है। अगर पहले निगम चुनाव हुआ तो संभव है कि हर वार्ड से टिकट के कई दावेदार भाजपा से भी हाेंगे, ऐसे में अगर किसी एक तो मिला तो बाकी बगावत कर सकते हैं।

वार्ड 11 में सबसे ज्यादा, वार्ड 8 में सबसे कम वोटर

नगर निगम की ओर से जारी वोटरों की सूची में कई वार्ड काफी छोटे बनाए गए हैं तो कई वार्ड बड़े बना दिए गए है। जहां वार्ड 11 में 517 मकानों को रखा गया है और उसमें सबसे ज्यादा 15422 वोटर हैं। वहीं वार्ड 8 में केवल 98 मकानों को रखा गया है और उसमें 3495 वोटर हैं। नगर निगम के 14 वार्ड ऐसे हैं, जिनमें दस हजार से ज्यादा वोटर हैं और छह वार्ड ऐसे हैं जिनमें वोटर कम हैं। इन वोटरों को बूथ के अनुसार भी तय कर दिया है कि किस वार्ड के किस बूथ पर कितने वोटर रहेंगे। यह पूरी प्रक्रिया हो चुकी है।

चुनाव को लेकर घोषित हो गई है वोटर लिस्ट : नगर निगम प्रशासन की ओर से वार्डबंदी के बाद अब वोटर लिस्ट भी जारी कर दी गई है। इससे साफ हो गया है कि 8481 परिवारों के 2 लाख 29 हजार 177 वोटर अपने मेयर व पार्षदों को चुनेंगे। निगम क्षेत्र में पहले के मुकाबले 8481 वोटर बढ़े हैं। जहां सबसे ज्यादा वार्ड 11 में 15422 वोटर हैं, वहीं वार्ड 8 में सबसे कम 3495 वोटर हैं।

ये रही है नगर निगम को लेकर अब तक की स्थिति

छह जुलाई 2015 में सोनीपत नगर परिषद को नगर निगम बनाया था। अक्टूबर 2016 में वार्डबंदी के लिए एक कमेटी गठित की गई और जनवरी 2017 में एक एजेंसी को सर्वे का काम सौंपा गया। संबंधित एजेंसी ने काम शुरू नहीं किया तो निगम की ओर से वार्डबंदी के लिए दोबारा टेंडर किया गया था। इसके बाद 2018 में निगम की ओर से वार्डबंदी की गई थी, जिसमें 4 लाख 1 हजार 366 की आबादी पर 22 वार्ड बनाए गए थे, लेकिन इस वार्डबंदी की अधिसूचना जारी होते ही नगर निगम में शामिल किए गए 26 गांवों को बाहर निकालने की मांग को लेकर आंदोलन तेज हो गया। इसमें से 13 गांवों को निगम से बाहर कर दिया था और उसके बाद दोबारा से वार्डबंदी शुरू की गई थी। यह वार्डबंदी का काम जनवरी 2019 में पूरा कर दिया गया था और नगर निगम में दो वार्ड कम करके 20 वार्ड बनाए गए।

मेयर सीट सामान्य तो 11 वार्ड हैं आरक्षित : नगर निगम की ओर से 20 वार्ड बनाए गए हैं। इनमें से 11 वार्ड आरक्षित होंगे। उन वार्डों में बीसी कैटेगरी के 2, एससी कैटेगरी के 3 व महिला के लिए 6 वार्ड आरक्षित होंगे। इसके अलावा मेयर का पद भी यहां सामान्य श्रेणी में रखा गया है, जिससे कोई भी मेयर के लिए अपनी किस्मत आजमा सकता है।

प्रदेश सरकार करेगी चुनाव पर फैसला


वार्डबंदी और वोटर लिस्ट तैयार : राठी


X
Sonipat News - haryana news ordinance will come in the cabinet on municipal elections
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना