अब विद्यार्थी और टीचर अपने परिणाम से रहेंगे अवगत

Sonipat News - विद्यार्थियों के परीक्षा कोई हौव्वा नहीं हो बल्कि खुद में सुधार करने की एक निरंतर प्रक्रिया हो, इसी के अंतर्गत...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:40 AM IST
Sonipat News - haryana news students and teachers will now be aware of their results
विद्यार्थियों के परीक्षा कोई हौव्वा नहीं हो बल्कि खुद में सुधार करने की एक निरंतर प्रक्रिया हो, इसी के अंतर्गत सीबीएसई ने एक और कदम उठाया है। इसके अंतर्गत छात्रों को अपनी तैयारी को परखने का मौका अब लगातार अवसर मिलेगा। इसके लिए उन्हें बाकायदा प्री-बोर्ड और मेन बोर्ड एक्जाम की तर्ज पर मॉक टेस्ट दे सकेंगे और टेस्ट के बाद उन्हें स्कोर बताया जाएगा। साथ ही उन्हें यह भी बताया जाएगा कि किस सब्जेक्ट में कमजोर रहे और किस सब्जेक्ट में उन्होंने बेहतर परफॉर्म किया। सीबीएसई ने स्कूलों को हर तीन महीने में मॉक टेस्ट कराने के निर्देश दिए हैं। जिससे छात्र जो क्लासरूम में पढ़ रहे हैं, उसका उन्हें रिस्पांस मिले। इसको लेकर स्कूलों में अगले माह से इन मॉक टेस्ट का कक्षा 10वीं और 12वीं क्लास के छात्रों के लिए आयोजन किया जाएगा। इसमें पेपर पैटर्न से लेकर स्कोरिंग का तरीका भी बिल्कुल बोर्ड एक्जाम के समान होगा। इससे बोर्ड में शामिल छात्राें का रिजल्ट सुधरेगा। इस व्यवस्था का असर सोनीपत के 79 स्कूलों में देखने को मिलेगा।

इसलिए की गई यह सब तैयारी

सीबीएसई की ओर से यह सब तैयारी बोर्ड परीक्षा में निरंतर सुधार को लेकर हैं। सीबीएसई के पिछले महीने घोषित परीक्षा परिणाम में कई स्कूलों का परिणाम स्तरीय नहीं था, जिसके बाद वहां विषयवार उन टीचरों की अलग से क्लास आयोजित की गई, जिनके विषय में विद्यार्थी परीक्षा क्लियर नहीं कर सकें। भावना कालरा ने बताया कि अब हर तीन महीने में परीक्षा होगी तो विद्यार्थियों के सामने एग्जाम का हौव्वा खत्म होगा जबकि टीचर को भी पता रहेगा कि उन्हें किस क्षेत्र क्या और सुधार करना है। सोनीपत के विभिन्न स्कूलों में इसके लिए ओपन वर्कशाप भी आयोजित की गई हैं, जिसमें भी विभिन्न स्कूलों के टीचरों ने हिस्सा लिया।

क्वेश्चन बैंक भी किए गए तैयार : सीबीएसई स्कूलों में कक्षा 10वीं और 12वीं के नए पैटर्न को लेकर क्वेश्चन बैंक तैयार किए हैं। इसे नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार तैयार किए गए हैं। इसे स्कूल ऑनलाइन बोर्ड क्वेश्चन बैंक को स्कूल की वेबसाइट पर अपलोड करेगा। इस बार बोर्ड ने दो क्वेश्चन बैंक तैयार किए हैं। इनमें एक नए पैटर्न की जानकारी के लिए, जबकि दूसरा बोर्ड परीक्षा की तैयारी के लिए होगा।

बोर्ड की कोशिश शैक्षणिक सुधार की है

बोर्ड की कोशिश शैक्षणिक सुधार है, इसके लिए पहले टीचरों की वर्कशाप तथा अब हर तीन माह में मॉक टेस्ट की योजना पर काम किया जा रहा है। यह बेहतर है, इससे विद्यार्थियों एवं टीचर दोनों को मुख्य परीक्षा से पहले खुद में सुधार के लिए काफी अवसर मिलेंगे। बोर्ड की ओर से इसमें एग्जाम पैटर्न के आधार पर और सुधार किया गया है। वीके मित्तल, अध्यक्ष, सहोदय, सोनीपत।

X
Sonipat News - haryana news students and teachers will now be aware of their results
COMMENT