पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sonipat News Haryana News Sushma Filled The Zeal To Feed Lotus In Sonepat Leaders Paid Tribute

सोनीपत में कमल खिलाने को सुषमा ने भरा था जोश, नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
देश की भूतपूर्व विदेश मंत्री एवं लंबे अरसे तक राजनीतिक पटल पर अपनी क्षमता के बूते चमक बिखरने के बाद श्रीचरणों में लीन हुई सुषमा स्वराज की यादें सोनीपत के नेता बयां कर रहे हैं। वर्ष 2009 का विधानसभा चुनाव और कांग्रेस सोनीपत जिला की सभी छह सीटों को एक बार फिर कब्जाने के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगा रही थी, ऐसे में सोनीपत शहरी सीट पर भाजपा की वरिष्ठ, तेज तर्रार नेत्री सुषमा स्वराज ने कार्यकर्ताओं में जोश का संचार करते हुए कमल खिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। वहीं सोनीपत में भाजपा के खाते की हरियाणा में पहली संसदीय सीट दिलाने वाले स्व. सांसद किशन सिंह सांगवान के चुनाव में भी उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी।

मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने अपने संस्मरण साझा किए। उन्होंने बताया कि सोनीपत सीट पर बाबू देवीदास ने तीन बार जीत दर्ज की थी, उसके बाद से यह सीट लगातार कांग्रेस की झोली में गई। दो बार खुद चुनाव लड़े और जीत की दहलीज तक ही पहुंचे। वर्ष 2009 के विधानसभा चुनाव में जहां कांग्रेस एक बार फिर सोनीपत की सीट जीतने की जुगत में थी तो दूसरी ओर हमने भी कमल खिलाने के लिए पूरा जोर लगाया हुआ था। आमजन के दुख-सुख में साथी बनने की बदौलत जनता का हमें भरपूर प्यार मिल रहा था। ऐसे में निर्णायक दौर में सुषमा स्वराज जी की सभा पुरानी अनाजमंडी में तय हुई। शाम के समय पहुंची सुषमा जी ने अपने ओजस्वी संबोधन से कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए अपने बूथ पर मजबूती से डटने का आह्वान किया। उनकी हौसला अफजाई का नतीजा यह रहा कि सोनीपत में जहां कांग्रेस अपनी जीत सुनिश्चित मानकर चल रही थी, वहां लंबे समय के बाद कविता जैन ने कमल खिलाने का काम किया।

सुषमा स्वराज की यादें सोनीपत के नेताओं ने बयां किया, वर्ष 2009 का विधानसभा चुनाव में सुषमा स्वराज ने जोर लगाया था

प्रदीप ने साझा किए फाेटाे

हरियाणा में भाजपा का कमल खिलाते हुए सांसद की पहली सीट दिलाने वाले स्व. किशन सिंह सांगवान के बेटे प्रदीप सांगवान ने भी सुषमा स्वराज के साथ हुई जनसभाओं की तस्वीरें साझा की। उन्होंने बताया कि सुषमा स्वराज का उनसे पारिवारिक लगाव रहा। हालांकि प्रदीप सांगवान इन दिनों कांग्रेस में हैं। उन्होंने सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देते हुए संवेदना जाहिर की।

राजीव जैन ने साझा किए विचार

राजीव जैन ने बताया कि वर्ष 1998 में दिल्ली की मुख्यमंत्री बनने के बाद सुषमा स्वराज हौज खास विधानसभा से चुनाव लड़ रहीं थीं। उनके चुनाव प्रचार के दौरान वहां चुनाव प्रभारी के तौर पर काम करने का मौका मिला। प्रखर वक्ता, स्पष्ट शब्दावली और आमजन की आवाज बन चुकी सुषमा स्वराज के सामने सफदरजंग और इसके आसपास इलाके में बड़ी संख्या में झुग्गी-झोपड़ियों में मतदाताओं से रूबरू हो रहे थे, इसी दौरान हमने उनकी पीड़ा को समझते हुए एक नारा दिया: सुषमा जी का यह ऐलान, जहां पर झुग्गी-वहां पर मकान।

लोगों के दिलों में पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज हमेशा जिंदा रहेंगी

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर हरियाणा कृषि विपणन बोर्ड की चेयरपर्सन एवं पूर्व मंत्री कृष्णा गहलावत ने उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए भगवान से उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना की। गहलावत ने कहा कि सुषमा स्वराज ने अपने कार्यकाल में काफी सराहनीय कार्य किए। देश व दुनिया के लोगों के दिलों में वे हमेशा जिंदा रहेंगी।

महिला राजनीति को दिशा देने वाली थीं सुषमा स्वराज

सोनीपत | महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि भूतपूर्व केंद्रीय मंत्री, दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री एवं हरियाणा की बेटी सुषमा स्वराज के निधन से भारतीय राजनीतिक को अपूर्णीय क्षति हुई है। उन्होंने कहा कि प्रखर वक्ता और ओजस्वी शब्दावली की धनी सुषमा स्वराज ने महिला राजनीति को दिशा दी और उनका मार्गदर्शन हमेशा हमारे लिए प्रेरणा स्त्रोत रहेगा। बुधवार को वरिष्ठ भाजपा नेत्री एवं दिग्गज राजनीतिज्ञ सुषमा स्वराज की अंतिम यात्रा में लोधी रोड विद्युत श्मशान घाट पहुंची महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि सुषमा स्वराज भारतीय राजनीति में महिलाओं की मुखरता का चेहरा था।

खबरें और भी हैं...