पढ़ाई में टॉपर रहा सोनीपत परीक्षाओं में हुआ बदनाम, नकल के मामलों में प्रदेश में दूसरे स्थान पर रहा

Sonipat News - पढ़ाई के मामले में प्रदेश में अग्रणी रहा सोनीपत अब निरंतर परीक्षा के मामले में बदनाम हो रहा है। पहले जहां बाहरी...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 08:35 AM IST
Sonipat News - haryana news topper in studies second in the state in the cases of infamous imitated copies of sonepat examinations
पढ़ाई के मामले में प्रदेश में अग्रणी रहा सोनीपत अब निरंतर परीक्षा के मामले में बदनाम हो रहा है। पहले जहां बाहरी तत्वों ने पेपर लीक के मामले में सोनीपत की देशभर में किरकिरी करवाई तथा अब परीक्षा केंद्र के अंदर भी विद्यार्थी सोनीपत का नाम डूबाने का काम कर रहे हैं। क्योंकि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक इस बार नकल के मामले में सोनीपत पूरे प्रदेश में दूसरे स्थान पर रहा है। यहां 488 विद्यार्थियों को नकल करते हुए पकड़ा गया हैं और उनके खिलाफ केस भी बनाया गया है।

सोनीपत से ज्यादा केस पिछड़े क्षेत्र में शुमार मेवात के 712 है। साल 2016 में सोनीपत ने प्रदेश में पास प्रतिशत के नाम में अव्वल स्थान पर आया था। जबकि पिछले साल सिर्फ एक विद्यार्थी टॉप टेन में शामिल था। हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की परीक्षा आठ मार्च से दो अप्रैल तक संचालित की गई। जिसमें सोनीपत में 103 परीक्षा केंद्रों पर करीब 23 हजार विद्यार्थियों ने परीक्षा दी। बोर्ड की ओर से परीक्षा परिणाम 20 मई तक घोषित किए जाने की संभावना है।

आंकड़ों के मुताबिक इस बार नकल करते हुए पकड़े 488 िवद्यार्थी, केस भी बनाए

साेनीपत. परीक्षा केंद्र पर परीक्षा के दौरान नकल करवाने का प्रयास करते हुए युवा। फाइल | फोटो

विद्यार्थी क्या गुरुजी भी कम नहीं नकल कराने में

गोहाना में सोमवार को गणित के पेपर में कई परीक्षा केंद्रों के बाहर और अंदर वॉट्सएप पर पेपर आउट करवाते हुए करीब दो दर्जन शिक्षकों को रंगे हाथ पकड़ा गया। पुलिस ने मौके से कई मोबाइल फोन और किताबें जब्त कीं।

1

कुमासपुर स्थित परीक्षा केंद्र के बाहर डीईओ ने पुलिस के सहयोग से चार लड़कों को काबू किया है। एक लड़के के मोबाइल में गणित का एक कोड का पेपर आउट मिला। एक जेबीटी को सस्पेंड कर दिया।

2

शिक्षकों की राय में इस कारण हुआ बुरा हाल

प्राध्यापक वर्ग की अोर से आठवीं में बोर्ड लागू करने की मांग की

शिक्षक अजीत चंदेलिया का कहना है कि बोर्ड की ओर से कक्षा आठवीं में बोर्ड को खत्म किया हुआ है, जिस कारण विद्यार्थियों के दिलों से फेल होने का डर ही नहीं रहता। जिस कारण जब विद्यार्थी नौवीं से कक्षा दसवीं में पहुंचता है तो परीक्षा का दबाव सहन नहीं कर पाता और ऐसे में उसे नकल एक शाॅट कट नजर आता है। वहीं इसके अतिरिक्त विद्यार्थियों में बढ़ी रट्टामार प्रवृति भी विद्यार्थियों को कमजोर बना रही है। प्राध्यापक वर्ग की ओर से सरकार से आठवीं में बोर्ड लागू करने की मांग की गई है, इससे टीचरों से लेकर अभिभावकों पर भी दबाव रहेगा।

एसडीएम गन्नौर ने हेडमास्टर और मास्टर को नकल करवाते हुए पकड़ा। बड़ी के मुख्य अध्यापक रमेश कुमार, राजकीय उच्च विद्यालय बड़ी के गणित अध्यापक प्रीतम धीमान एवं एक महिला अध्यापक यहां अवैध रूप से मौजूद थे।

3

ग्रामीण क्षेत्रों में बने इस बार सबसे ज्यादा केस

शिक्षक कृष्णचंद वत्स ग्रामीण क्षेत्रों में बाहरी तत्वों पर नकल रोकने के प्रयास इस बार प्रभावी नहीं रहे हें तथा इस बार सबसे ज्यादा केस ग्रामीण क्षेत्र में ही बने हैं। इस पर शिक्षकों के साथ अभिभावकों की बड़ी भूमिका है। अगर वे विद्यार्थियों से उनकी स्टडी अपडेट लेते रहेंगे तो विद्यार्थियों का ध्यान पढ़ाई पर जाएगा।


ऐसी रही नकल की रिपोर्ट

मेवात 712

सोनीपत 488

हिसार 424

भिवानी 369

पलवल 332

जींद 283

रोहतक 241

झज्जर 214

महेंद्रगढ़ 200

पानीपत 194

करनाल 180

फरीदाबाद 164

गुड़गांव 123

चरखी दादरी 109

फतेहाबाद 93

सिरसा 80

कुरुक्षेत्र 70

कैथल 60

रेवाड़ी 57

यमुनानगर 28

अंबाला 12

पंचकूला 10

X
Sonipat News - haryana news topper in studies second in the state in the cases of infamous imitated copies of sonepat examinations
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना