अांधी के साथ आई बरसात से मंडियों में भीगा गेहूं, तौल के बाद भी मंडी में पड़ा रहता है

Sonipat News - साेमवार रात काे अांधी के साथ हल्की बरसात हुई। इससे गेहूं कटाई सीजन प्रभावित हाे गया है, वहीं मंडियों में खुले में...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 08:31 AM IST
Sonipat News - haryana news wheat weeds in mandis with rain and rain is lying in the market even after weighing
साेमवार रात काे अांधी के साथ हल्की बरसात हुई। इससे गेहूं कटाई सीजन प्रभावित हाे गया है, वहीं मंडियों में खुले में पड़ा गेहूं भीग गया। करीब 25 हजार बैग काे सोनीपत अनाज मंडी में तिरपाल से ढांपकर बचाया गया। माैसम बदलने से तापमान में गिरावट हुई है। लाेगाें काे गर्मी से राहत मिली है लेकिन किसानाें की परेशानी बढ़ गई है। किसान सकते में हैं कहीं छह महीने तक जिस गेहूं के लिए जी तोड़ मेहनत किया है उस पर बरसात पानी नहीं फेर दे। अनाज मंडी में एक ही शेड हाेने से भारी मात्रा में गेहूं बाहर रखना पड़ रहा है।

मंडियों में अभी तक करीब सवा लाख क्विंटल गेहूं की आवक हुई है। सोमवार की रात में हल्की बरसात में भी सोनीपत मंडी में जगह-जगह पानी भरा है। मार्केट कमेटी सोनीपत के अधीन स्थाई एक तो अस्थाई करीब छह सेंटर हैं, जहां पर टेंट के सहारे खरीद की जाती है। हालांकि खरीद केंद्र किसानों की सुविधा के लिए बनाया है। ताकि किसानों को दूर-दराज तक भटकना नहीं पड़े। लेकिन सुविधाओं के अभाव में किसानों को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है। मंडी में कई स्थानों पर खुले में ही गेहूं की ढेरियां बिक्री के अभाव में रखी गई थी। लेकिन रात को जब बरसात शुरू हो गई तो आढ़तियों और किसानों ने लेबर के साथ मिलकर ढेरियों को बोरियों में भरकर दुकान व शेड में जहां जगह मिली वहां पर रखा गया। इसके बावजूद प्लेटफार्म में गड्ढे होने के कारण पानी जमा हो गया और काफी गेहूं खराब हो गया। बाेरियाें पर आढ़तियों ने तिरपाल आदि ढंककर किसी तरह से बचाया। हालांकि बरसात भी नाममात्र की हुई। जिसके कारण नुकसान नहीं के बराबर हुआ है।

कृषि विभाग के अनुसार जिले में एक लाख 45 हजार हेक्टेयर जमीन पर गेहूं की खेती की जा रही है। जिसमें अब तक करीब 20 हजार हेक्टेयर में कटाई हो चुकी है। शेष फसल 99 प्रतिशत तैयार हो चुकी है। बताया जा रहा है कि 20 अप्रैल से गेहूं की आवक तेजी पकड़ेगी और 15 मई तक 90 प्रतिशत गेहूं मंडियों में पहुंच जाएगा। मार्केट कमेटी सेक्रेटरी जितेंद्र कुमार ने बताया कि मार्केट कमेटी का प्रयास है कि किसानों को किसी प्रकार की असुविधा का सामना नहीं करना पड़े। जिसके लिए हर संभव कार्य किया जा रहा है। जहां तक बरसात की बात है तिरपाल की व्यवस्था की गई है।

सोनीपत. बरसात के कारण भीग रहा है मंडी में पड़ा गेहंू।

इस बार उत्पादन ज्यादा होने की उम्मीद

कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डाॅ. अनिल सहरावत की मानें तो इस साल बंसत का महीना काफी ठंडा रहा है। जिसके कारण गेहूं के दानों की मोटाई और क्षमता में वृद्धि अधिक हुई है। जिससे उत्पादन अधिक होने की पूरी संभावना है। पिछले साल जिले में चार लाख 76 हजार 398 क्विंटल गेहूं की आवक हुई थी। इस साल यह आंकड़ा पांच लाख क्विंटल को पार कर जाएगा।

X
Sonipat News - haryana news wheat weeds in mandis with rain and rain is lying in the market even after weighing
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना