• Home
  • Haryana News
  • Sonipat
  • डीसी का अश्वासन: एफआईआर के निवेदन पर ब्राह्मणों ने धरना उठाया
--Advertisement--

डीसी का अश्वासन: एफआईआर के निवेदन पर ब्राह्मणों ने धरना उठाया

एचएसएससी के परीक्षा पत्र में ब्राह्मणों पर अनुचित टिप्पणी के विरोध में गोहाना रोड स्थित हनुमान मंदिर के सामने चल...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:10 AM IST
एचएसएससी के परीक्षा पत्र में ब्राह्मणों पर अनुचित टिप्पणी के विरोध में गोहाना रोड स्थित हनुमान मंदिर के सामने चल रहा ब्राह्मण समाज का धरना गुरुवार को डीसी के आग्रह पर बंद कर दिया गया। डीसी विनय सिंह शाम करीब साढ़े चार बजे ब्राह्मणों से मिलने धरना स्थल पर पहुंचे। उन्होंने ब्राह्मणों को बताया कि एचएसएससी के चेयरमैन भारत भूषण भारती को सरकार ने सस्पेंड कर दिया है। पेपर बनाने वाली कंपनी पर जल्द ही एफआईआर दर्ज की जाएगी। आप लोगों से आग्रह है कि धरना समाप्त करें।

ब्राह्मण संघर्ष समिति के प्रेस सचिव विनोद पंडित ने बताया कि डीसी विनय सिंह ने शाम को धरना स्थल पर आकर ब्राह्मण समाज के लोगों को विश्वास दिलाया कि प्रश्न-पत्र से जुड़े तमाम लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में विभागीय चेयरमैन पर कार्रवाई हो चुकी है। उन्होंने बताया कि डीसी ने आश्वासन दिया है कि प्रश्न-पत्र तैयार करने वाले अध्यापक पर एफआईआर भी कराई जाएगी। साथ ही अध्यापक ने जिस पुस्तक से यह प्रश्न उठाया है उसके लेखक के खिलाफ भी कार्रवाई होगी। विनोद पंडित ने बताया कि शुक्रवार को जिले में आ रहे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी इस मुद्दे पर ब्राह्मण समाज से माफी मांगेंगे। उन्होंने बताया कि अगर उनकी सभी मांगें नहीं मानी जाती हैं तो 29 जून से प्रदेश स्तर पर आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।

कोर्ट परिसर के बाहर ब्राह्मण समाज के धरने में पहुंचे दीवान

सोनीपत | कोर्ट परिसर के बाहर ब्राह्मण समाज का धरना गुरुवार को भी जारी रहा। पूर्व विधायक देवराज दीवान के सुपत्र ललित दीवान व कांग्रेसी नेता सुरेश भारद्वाज धरने पर अपना समर्थन देने पहुंचे। अस्वस्थ चल रहे देवराज दीवान ने ब्राह्मण समाज के लिए संदेश दिया है कि ब्राह्मण वर्ग हमारे समाज का अति महत्वपूर्ण व अहम हिस्सा है। पूर्व सीएम हुड्डा एवं रोहतक सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने भी विश्वास दिलाया है कि ब्राह्मण समाज के साथ कोई अनदेखी नहीं होने दी जाएगी। इस अवसर पर धर्मपाल शर्मा, सुदर्शन मक्खन, अशोक अरोड़ा, मदन लाल टुटेजा, प्रेम भूटानी, मूलचंद दहिया, सुरेंद्र चोपड़ा, पीके बाली आदि मौजूद रहे।