• Hindi News
  • पहली कलम से चलवाएंगे खानक पहाड़

पहली कलम से चलवाएंगे खानक पहाड़

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
तोशाम। गांव आलमपुर में नागरिक अभिनंदन समारोह को संबोधित करते सांसद दुष्यंत चौटाला।

आलमपुर में हुए अिभनंदन समारोह में बोले हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला

भास्कर न्यूज | तोशाम

एकबै करड़े होकै एक जोटा और मार द्यो, उस पाच्छै जै इनेलो की सरकार बणी तो एक कलम तैं खानक का पहाड़ चालू कर द्यांगे। यह बात हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने रविवार को आलमपुर गांव में इनेलो नेता ऋषिपाल फौगाट द्वारा आयोिजत अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए कही

उन्होंने कहा कि इनेलो सरकार ने जहां अपने कार्यकाल में रोजगार देने का काम किया वहीं कांग्रेस ने रोजगार छीना। खानक पहाड़ में भी खनन बंद होने से हजारों परिवार बेरोजगार हो गए। चौटाला ने कहा कि कांग्रेस ने षडयंत्र के तहत युवाओं को रोजगार देने वाले मसीहा उनके दादा और पिता को जेल भिजवाने का काम किया है। सांसद ने कहा कि उन्हें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। न्याय मिलेगा और प्रदेश के अगले सीएम उनके दादा ओमप्रकाश चौटाला होंगे।

युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि कांग्रेस डूबता हुआ जहाज है। इसलिए इस सरकार के नेता पार्टी छोड़ अन्य दलों में जा रहे हैं। चौटाला ने कहा कि वैसे तो सीएम कहते हैं कि विकास की दृष्टि से हरियाणा नंबर एक पर है, लेकिन इस नंबर एक हरियाणा में चलने के लिए सड़कें नहीं, पीने का पानी नहीं, पढ़ने के लिए सही शिक्षा नहीं, रहने के लिए सुरक्षित स्थान नहीं तो फिर किस बात के लिए नंबर एक है हरियाणा। अगर प्रदेश नंबर एक है तो वह लूट खसोट में, छीना झपटी, दुष्कर्म में के मामलों में है।

चौटाला ने कहा कि प्रदेश में हुड्डा ऐसे पहले सीएम हैं, जिसने प्रदेश को बांटने का काम किया। इसलिए इनेलो ही देश में एक ऐसी पार्टी है, जहां छोटे से छोटे कार्यकर्ता को मंत्रियों जैसा सम्मान दिया जाता है। जिला प्रधान सुनील लांबा ने किरण चौधरी पर निशाना साधते हुए कहा कि वे जनता के बीच आने की बजाए दिल्ली या विदेशों में रही हैं।

उन्होंने कहा कि यहां की विधायक हलके के 10 लोगों का नाम नहीं बता सकती। इस मौके पर प्रधान रविंद्र पटौदी, राजेंद्र जैन, महेंद्र गोकलपुरा, पूर्व प्रधान अनूप बागनवाला, कुलदीप मनसरबास, राजेश भारद्वाज, जोगेंद्र मलिक, जोगेंद्र बागनवाला, जितेंद्र भारद्वाज, सतबीर खानक, ठेकेदार संदीप दुहन, हरीश तोशामिया, सुरेश बागनवालिया, नरेंद्र भाकर, बिजेंद्र साग