• Hindi News
  • Rajya
  • Haryana
  • Yamunanagar
  • Yamunanagar News haryana news nine of the 19 drains polluting the water of the yamuna canal was carried out strictly by the ngt officials of 3 departments

यमुना नहर के पानी को प्रदूषित कर रही 19 नालों की गंदगी एनजीटी की सख्ती से हरकत में आए 3 विभागों के अधिकारी

Yamunanagar News - नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की सख्ती के बाद शुक्रवार को नगर निगम, सिंचाई व जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारी हरकत...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:55 AM IST
Yamunanagar News - haryana news nine of the 19 drains polluting the water of the yamuna canal was carried out strictly by the ngt officials of 3 departments
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की सख्ती के बाद शुक्रवार को नगर निगम, सिंचाई व जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारी हरकत में दिखे। एनजीटी ने तीनों विभागों के अधिकारियों को पश्चिमी यमुना नहर में गिर रहे शहर के गंदे नालों को बंद करने के लिए मास्टरप्लान बनाने के आदेश दिए हैं। निगम की ओर से एनजीटी को एक प्लान दिया था, लेकिन उसे खारिज कर दिया गया। नए प्लान के लिए शुक्रवार को तीनों विभागों के अधिकारियों ने नहर में जा रहे नालों का मुआयना किया। इसके बाद नालों को बंद करने के लिए पूरी रिपोर्ट तैयार की जाएगी।

इस समय 19 छोटे-बड़े नालों के जरिए यमुना नहर का पानी प्रदूषित हो रहा है। इनमें नौ गांव भी शामिल है जिनका गंदा पानी सीधे नहर में बह रहा है। इन गांवों में दादूपुर, किशनपुरा, दादूपुर, खारवन, फतेहगढ़, बुड़िया (दयालगढ़) अमादलपुर, नया गांव व परवालों का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से निकल रहे पानी से भी यमुना का पानी मैला हो रहा है। नगर निगम एरिया की दड़बा माजरी, आजाद नगर (मुंडा माजरा), खालसा कॉलेज, पुराना हमीदा, सीवरेज पंप हाउस के पास से निकल रहे नाले की गंदगी भी नहर में बह रही है। इसी तरह शहर की सीवरेज लाइन, कांजनू, पताशगढ़ का नाला व रादौर के सीवरेज का डिस्पोजल भी नहर में हो रहा है। इन सभी नालों का शुक्रवार को सिंचाई विभाग के एक्सईएन हरिदेव कांबोज, नगर निगम के एक्सईएन आनंद स्वरूप, प्रमोद कुमार, आरएस धीमान, एमई रमेश धीमान तथा जनस्वास्थ्य विभाग के भी जूनियर इंजीनियर्स ने मुआयना किया।

हमीदा हैड के पास यमुना नहर में नाले की बहती गंदगी।

पहले कमिश्नर ने दी सख्त हिदायत

जांच से पहले नगर निगम की कमिश्रर पूजा चांवरिया ने तीनों विभागों के अधिकारियों की मीटिंग ली थी। कमिश्नर साफ कहा कि एनजीटी के आदेशों पर ठोस कार्रवाई होगी। नहर में गिर रहे सभी गंदे नालों को बंद दिया जाएगा। उन्होंने निगम की इंजीनियरिंग ब्रांच के अधिकारियों से साफ कहा कि इस मामले में किसी तरह की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। इसके लिए जल्द अधिकारियों को मास्टर प्लान बनाने की हिदायत दी ताकि गंदे पानी के बहाव को रोका जा सके।

एनजीटी ने लगाई थी निगम को फटकार

सालों से शहर की गंदगी नालों के जरिए पश्चिमी यमुना नहर के पानी को प्रदूषित कर रही है। दिल्ली समेत कई राज्यों में नहर का पानी पीने के लिए इस्तेमाल होता है। मामला संज्ञान में आने के बाद कुछ रोज पहले ही एनजीटी की एक टीम ने नहर का मुआयना किया था। नहर में गिरते गंदे नालों को लेकर जांच टीम ने निगम को कड़ी फटकार भी लगाई थी। साथ ही ये आदेश दिए थे कि जल्द ही इन नालों को बंद करने के लिए निगम मास्टरप्लान तैयार करे। दिल्ली में हुई मीटिंग में एनजीटी ने इस तरह के कड़े निर्देश दिए थे।

2.65 करोड़ की तैयार हो चुकी योजना

लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने से पहले नगर निगम ने शहरी एरिया के कुछ नालों का पानी रोकने के लिए 2.65 करोड़ 54 हजार रुपए की एक योजना तैयार की थी। योजना के तहत रेलवे स्टेशन से कैनाल रेस्ट हाउस तक व सहारनपुर से डिच ड्रेन तक बरसाती पानी के लिए एक चैनल बनाने की योजना थी। रेलवे स्टेशन से कैनाल रेस्ट हाउस तक चैनल के निर्माण पर 37.68 लाख रुपए व सहारनपुर से डिच ड्रेन तक 1.96 करोड़ 70 हजार रुपए का एस्टीमेट बनाया था। इसी तरह रेलवे फाटक से गांधीनगर बाईपास तक पानी की निकासी के लिए 31.19 लाख रुपए का एस्टीमेट तैयार किया गया था। योजना की मंजूरी के बाद निगम की ओर से टेंडर प्रक्रिया भी शुरु की थी, हालांकि आचार संहिता लागू होने के बाद पूरी कार्रवाई रुक गई।


X
Yamunanagar News - haryana news nine of the 19 drains polluting the water of the yamuna canal was carried out strictly by the ngt officials of 3 departments
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना