3 स्कूलों में 4 नर्सरियों में ही कोच नियुक्त कर लिए गए ट्रायल

Yamunanagar News - खिलाड़ियों की पौध तैयार करने के लिए 8 स्कूलों में 11 खेल नर्सरियां शुरू करने के लिए शिक्षा निदेशालय ने हरी झंडी दे दी...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:50 AM IST
Yamunanagar News - haryana news trials appointed in 4 nurses in 3 schools
खिलाड़ियों की पौध तैयार करने के लिए 8 स्कूलों में 11 खेल नर्सरियां शुरू करने के लिए शिक्षा निदेशालय ने हरी झंडी दे दी है। इसके लिए खेल विभाग ने 28 फरवरी तक आवेदन मांगे थे। जिस पर 8 स्कूलों ने अपने यहां 11 खेलों की नर्सरियां शुरू करने के लिए आवेदन किया। फिजिकल वेरिफिकेशन के बाद डीएसओ के भेजे प्रपोजल पर निदेशालय सहमति दे दी है। हालांकि 8 में सिर्फ 3 स्कूलों में 4 नर्सरियों में ही कोच नियुक्त कर ट्रायल हो पाए हैं। जबकि अन्य स्कूलों ने अपने यहां 7 खेल नर्सरियां शुरू करने को अपने स्तर पर कोच नियुक्त करने और ट्रायल कराने बारे विभाग को प्रतिक्रिया नहीं दी। बताया जा रहा है कि स्कूलों में कोच भर्ती के लिए आए आवेदक विभाग के तय नियमों पर खरे नहीं उतरे, जिस कारण निदेशालय से मंजूरी के बावजूद 7 नई खेलों की नर्सरियों के शुरू करने पर ब्रेक लग गया है।

बता दें कि 28 फरवरी तक मांगे आवेदनों में ज्ञानदीप विद्या मंदिर फतेहपुर ने वाॅलीबॉल (गर्ल्स), जानकीजी स्कूल मारवाकलां ने कबड्‌डी (ब्वॉयज-गर्ल्स), सेंट विवेकानंद लोटस वैली सेक्टर-18 ने फुटबॉल (ब्वॉयज), हरिओम शिवओम स्कूल रादौर ने रेसलिंग (ब्वॉयज-गर्ल्स), जीबीएस सरस्वतीनगर ने बास्केटबॉल (ब्वॉयज-गर्ल्स), राजकीय हाई स्कूल फतेहपुर ने रेसलिंग (गर्ल्स), जनता सीसे स्कूल सरस्वतीनगर ने वाॅलीबॉल (ब्वॉयज) और दिल्ली पब्लिक स्कूल भंभौली ने फुटबॉल (ब्वॉयज) नर्सरियां शुरू करने के लिए आवेदन किए। इन 8 स्कूलों की लड़के-लड़कियों की 11 खेल नर्सरियां शुरू करने बारे निदेशालय ने मंजूरी देकर 29 मई को पत्र जारी कर संबंधित स्कूलों को अपने स्तर पर कोच नियुक्त कर 25-25 खिलाड़ियों के चयन के लिए ट्रायल कराने के आदेश दिए थे। हर हाल में 30 जून तक पूरी प्रक्रिया होनी थी। गर्मियों की छुटि्टयों में कोच भर्ती व खिलाड़ियों के ट्रायल के बारे पता न चलने से आवेदन कम आए। अब डीएसओ को 15 जुलाई तक स्कूलों द्वारा अपने यहां नर्सरियों के लिए नियुक्त कोच व ट्रायल से चयनित 25-25 खिलाड़ियों की रिपोर्ट देनी है।

खेल नर्सरियों के लिए एनआईएस डिप्लोमा धारक कोच को 25 हजार व एमपीएड, डीपीएड या एमए फिजिकल एजुकेशन या एनआईएस सर्टिफिकेट या संबंधित खेल में सीनियर नेशनल लेवल खिलाड़ी को 20 हजार रुपए मासिक पर रखना था। इन्हें हर माह खेल विभाग की ओर से वेतन आएगा लेकिन इनकी नियुक्ति की प्रक्रिया स्कूलों को अपने स्तर पर करनी थी। नियमों के मुताबिक हरिओम शिवओम स्कूल रादौर ने रेसलिंग , दिल्ली पब्लिक स्कूल भंभौली ने फुटबॉल, जनता सीसे स्कूल सरस्वतीनगर ने वाॅलीबॉल के लिए कोच नियुक्त हो पाए और अब 25-25 खिलाड़ियों के चयन के लिए ट्रायल चल रहे हैं।

शुरू होने से पहले 7 खेल नर्सरियों पर लगा ब्रेक

5 स्कूलों में मंजूर 7 नर्सरियों के लिए कोच नियुक्त नहीं किए जा सक हैं। विभाग की मानें तो आवेदन करने वाले प्रशिक्षक सीनियर नेशनल लेवल पर प्रतिभागिता या डीपीएड की शर्त पर खरे नहीं उतर पा रहे हैं। नाम न बताने की शर्त पर प्रशिक्षकों ने कहा कि भर्ती में सीनियर नेशनल खेलने की शर्त बाद में शामिल की गई। डीपीएड की शर्त भी सही नहीं है, क्योंकि प्रदेश की सभी यूनिवर्सिटीज बीपीएड करवा रही हैं। दोनों कोर्स स्नातक के बाद होते हैं और दोनों को समान माना जा रहा है। ऐसे में बीपीएड पात्र को भी भर्ती के लिए योग्य माना जाए और फिर से आवेदन लिए जाएं।


X
Yamunanagar News - haryana news trials appointed in 4 nurses in 3 schools
COMMENT