पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Radaur News Insurer Submits Survey Report Of 3100 Acres Of Crop In Radar Block

बीमा कंपनी ने रादौर ब्लॉक में 3100 एकड़ फसल का सर्वे कर रिपोर्ट भेजी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गत दिनों क्षेत्र में हुई भारी बरसात व ओलावृष्टि के कारण किसानों की खराब हुई धान की फसल की रिर्पोट बीमा कंपनी द्वारा तैयार कर दी गई है। बीमा कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर दीपेंद्र सिंह ने बताया कि ब्लॉक रादौर के अंतर्गत 80 गांव आते हैं। इन 80 गांवों में कंपनी के पास 902 एप्लीकेशन आईं थीं। इस पर 6 कर्मचारियों की टीम बना खराबे का सर्वे कराया गया। टीम में एडीओ को भी शामिल किया गया था। सर्वे के दौरान एरिया में 3100 एकड़ भूमि में खड़ी धान के खराबे की रिर्पोट तैयार की गई है। रिर्पोट तैयार करने के बाद आगामी कार्रवाई के लिए उसे चंडीगढ़ हेड ऑफिस व बीमा कंपनी के उच्चाधिकारियों के पास भेजा गया है। जल्द ही किसानों को खराबे का मुआवजा दिया जाएगा।

दो से ढाई माह में किसानों किसानों के खाते में आएगी मुआवजा राशि: प्रोजेक्ट ऑफिसर दीपेंद्र सिंह का कहना है कि किसानों को मुआवजा देने के लिए बीमा कंपनी को सेंटर व स्टेट सरकार की ओर से सब्सिडी राशि प्रदान की जाती है। कंपनी के पास सब्सिडी राशि के आने के बाद किसानों को मुआवजा राशि देने का प्रोसेस शुरू होता है। इसलिए इसमें समय लगता है। आगामी दो से ढाई माह में किसानों के खाते में मुआवजा राशि डाल दी जाएगी।

बीमा कंपनी ने किसानों से प्रति एकड़ लिया प्रीमियम
खंड रादौर में सरकार की ओर से किसानों की फसलों का बीमा करने का जिम्मा यूनिवर्सल सोम-टू कंपनी को दिया गया है। बीमा कंपनी द्वारा धान की फसल के प्रति एकड़ 594 रुपए, मक्के के 335.89 रुपए, बाजरा 291.35 रुपए व कपास के 582.75 रुपए प्रीमियम के तौर पर काटे गए है। किसान की अगर पूरे एकड़ की फसल खराब है तो उसे 29750 रुपए का मुआवजा बीमा कंपनी द्वारा दिया जाएगा। वहीं अगर नुकसान कम है तो उसकी परसेंटेज निकाल किसान को मुआवजा राशि दी जाती है।

खबरें और भी हैं...