• Hindi News
  • Haryana
  • Yamunanagar
  • Yamunanagar अवैध खनन से किसानों की जमीन यमुना में समा गई कागजों में जमींदार, हकीकत में करनी पड़ रही मजदूरी
विज्ञापन

अवैध खनन से किसानों की जमीन यमुना में समा गई कागजों में जमींदार, हकीकत में करनी पड़ रही मजदूरी

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 03:31 AM IST

Yamunanagar News - भास्कर न्यूज | यमुनानगर/जठलाना गांव संधाला के कलीराम। राजस्व रिकॉर्ड में वह 10 एकड़ जमीन के मालिक हैं। हकीकत में...

Yamunanagar - अवैध खनन से किसानों की जमीन यमुना में समा गई कागजों में जमींदार, हकीकत में करनी पड़ रही मजदूरी
  • comment
भास्कर न्यूज | यमुनानगर/जठलाना

गांव संधाला के कलीराम। राजस्व रिकॉर्ड में वह 10 एकड़ जमीन के मालिक हैं। हकीकत में उनके पास एक इंच भी जमीन नहीं। यमुना में अवैध खनन की वजह से नदी की क्रीक बदली और जमीन पानी में समा गई। कलीराम बताते हैं कि कुछ जमीन तो 2013 में बाढ़ के कारण समा गई थी। जो बची थी वह इस बार फसल समेत बह गई। किसान के मुताबिक उनकी जमीन के आसपास रेत ठेकेदारों ने अवैध खनन किया। इस बारे छह बार खनन विभाग, प्रशासन और सीएम विंडो पर शिकायत की। कोई कार्रवाई नहीं हुई। पांच बेटियां व दो बेटे। आज पूरा परिवार मजदूरी कर घर का खर्च चला रहे हैं।

सिर्फ कली राम नहीं बहुत से किसानों की एेसी कहानी है। यमुना में अवैध तरीके से माइनिंग के कारण भूमि कटाव के चलते फसलें व जमीन गवां चुके किसान बुधवार को गुमथला अनाज मंडी में महापंचायत करेंगे। मंगलवार को गांवों में ढोल बजाकर मुनादी करवाई। किसानों का कहना है कि प्रशासन को बातचीत के जरिए मामला सुलझाने के लिए दो दिन का अल्टीमेटम दिया गया था, कोई सुध नहीं ली गई। अब उन्होंने झंडा व डंडा दोनों उठा लिए हैं। वरयाम सिंह, राजकुमार, अमीलाल, अनिल कुमार, रमेश, सलिंद्र, राजेंद्र, विनोद कुमार, जितेंद्र का कहना है कि महापंचायत में सभी किसान यमुना का पवित्र जल हाथ में लेकर शपथ लेंगे कि वह न डरेंगे न पीछे हटेंगे। किसानों द्वारा होने वाली इस महापंचायत को लेकर खुफिया तंत्र भी इस तरह की जानकारी बटोरने में लगा रहा।

जठलाना | यमुना नदी में अधिक गहराई तक हुए खनन के कारण नदी में समाती धान की फसल। फोटो : भास्कर

जमींदार से अब मजदूर बनने की मजबूरी




बाढ़ से बही फसल, फैक्ट्री में काम करना पड़ रहा



X
Yamunanagar - अवैध खनन से किसानों की जमीन यमुना में समा गई कागजों में जमींदार, हकीकत में करनी पड़ रही मजदूरी
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन