• Home
  • Haryana News
  • Yamunanagar
  • नारायणगढ़ में दोहरे हत्याकांड का आरोपी नेपाल भागने की तैयारी में था, ट्रेन लेट होने से यमुनानगर स्टेशन पर गिरफ्तार
--Advertisement--

नारायणगढ़ में दोहरे हत्याकांड का आरोपी नेपाल भागने की तैयारी में था, ट्रेन लेट होने से यमुनानगर स्टेशन पर गिरफ्तार

नारायणगढ़ के गांव हसनपुर में गहनों के लिए दो हत्याएं कर भाग रहे नौकर हरीश को यमुनानगर जीआरपी ने पकड़ लिया है।...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:40 AM IST
नारायणगढ़ के गांव हसनपुर में गहनों के लिए दो हत्याएं कर भाग रहे नौकर हरीश को यमुनानगर जीआरपी ने पकड़ लिया है। आरोपी स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन (अम्बाला से सहारनपुर तक) का प्लेटफार्म दो पर इंतजार कर रहा था। ट्रेन 30 मिनट लेट थी। ट्रेन आने से 20 मिनट पहले ही नारायणगढ़ पुलिस ने जीआरपी यमुनानगर से संपर्क साधकर आरोपी का हुलिया बताया था। इसी दौरान मृतकों का रिश्तेदार दुसानी निवासी हेमंत भी जीआरपी थाने पहुंच गया। जैसे ही पुलिस प्लेटफार्म नंबर दो पर पहुंची तो वह पुलिस को देख भागने लगा। जीआरपी सब इंस्पेक्टर शीशपाल और हेड कांस्टेबल राकेश ने बताया कि उसे पकड़कर थाने ले गए। सख्ती से पूछा तो सारी बात बता दी। उसके पास जो थैला था, उसकी चेकिंग की तो उसमें करीब 12 हजार रुपए नकदी और सोने-चांदी के जेवरात मिले।

यमुनानगर | आरोपी (हरी टीशर्ट में) को पकड़कर ले जाती पुलिस।

चोरी करने घुसा था, कस्सी से काटकर मार दिए

हरीश खुद को नेपाल का रहने वाला बता रहा था। वह नारायणगढ़ के गांव हसनपुर में विनोद शर्मा के घर आठ माह से नौकर था। उसने 75 वर्षीय राजबाला और उनकी पुत्रवधु सुमन की चाकू और कस्सी से काटकर हत्या कर दी थी। आरोपी ने बताया कि उसे आठ माह का वेतन नहीं दिया गया। उसने घर में चोरी की प्लानिंग बनाई। उसके प्लानिंग थी कि वह चाची (सुमन) की हत्या कर देगा और बुजुर्ग (राजबाला) को कमरे में बंद कर जाएगा। जैसे ही उसने चाकू से सुमन पर वार किया तो राजबाला भी वहां पर आ गई। उसने फिर कस्सी से दोनों को मार डाला।

हेयर कटिंग कराकर पहुंचा स्टेशन

आरोपी ने बताया कि उसने दोनों की हत्या कर कमरे में बंद कर दिया। इसके बाद नकदी और सोने-चांदी के आभूषण उठा लिया। उसने घर पर ही अपने कपड़े बदले। इसके बाद वह गांव से चल दिया। रास्ते में उसने नाई की दुकान पर हेयर कटिंग कराई और सेव बनवाई। ताकि हुलिया बदल जाए और वह पहचान में न आ सके। साढौरा से बस पकड़ कर वह यमुनानगर रेलवे स्टेशन पर आ गया। यहां पर उसने पैसेंजर ट्रेन की सहारनपुर तक की टिकट ली थी। वह नेपाल भागने की फिराक में था।