पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Yamunanagar News The Broken Relationships Due To Small Disputes The People Engaged In The Police Station And The Court The Commission Said Our Efforts To Reconstruct The Families

छोटे-छोटे विवादों के चलते टूट रहे रिश्ते, लोग थानों व कचहरी में लगा रहे चक्कर, आयोग बोला-परिवारों को दोबारा मिलाना ही हमारा प्रयास

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
छोटे-छोटे विवादों के चलते बड़े-बड़े रिश्ते टूट रहे हैं। परिवार पल भर में बिखर रहे हैं। इसके बाद वे कभी पुलिस थानों के तो कभी कचहरी के चक्कर लगा रहे हैं। वहां से भी उन्हें न्याय नहीं मिल रहा है। वीरवार को महिला आयोग के सामने इसी तरह के मामले आए। लघु सचिवालय में 31 मामलों की सुनवाई के लिए पहुंची महिला आयोग चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन और नम्रता गौड़ ने कहा कि हमारा प्रयास है कि छोट-छोटे विवादों के चलते टूट रहे परिवारों को बचाया जाए। सुनवाई के दौरान सामने आया कि शादी के कुछ दिन बाद ही दंपती के बीच विवाद हो रहे हैं और तलाक तक बात आ रही है। दोनों परिवारों के बीच तलवारें खिची हैं। कई मामलों में तो परिवार के लोग ही दंपती के बीच दरार की वजह बन रहे हैं। एक मामला ऐसा आया कि बुजुर्ग भाई ने अपनी बुजुर्ग बहन के हिस्से की जमीन बेचकर उससे 16 लाख रुपए की ठगी कर ली। वहीं पैसे मांगे तो मारपीट की। वहीं एक केस आया कि महिला को दस साल बाद घर से यह कहकर निकाल दिया कि उसका की छवि ठीक नहीं है। उसके बच्चों को भी नहीं दिया गया। जबकि महिला का कहना है कि यह बात कहीं कोई साबित कर दे कि उसके किसी से गलत संबंध हैं।

पुलिस ने कई मामलों में समझौता रिपोर्ट पेश की, आयोग ने नहीं मानी:

आयोग के सामने पुलिस ने कई मामलों में दोनों पक्षों में समझौता होने की रिपोर्ट पेश की, लेकिन आयोग चेयरपर्सन ने उनकी बात नहीं मानी। कुछ मामलों में आरोपी या पीड़त पक्ष बुलाया गया तो कुछ में शिकायतकर्ता पक्ष से फोन पर एसएचओ ने बात कराई। तब जाकर आयोग चेयरपर्सनन संतुष्ट हुई।

महिला ने कहा-पति पीटता है, पुलिस उसे लेकर आई तो चाय पीते हुए पहुंचा आयोग के सामने
कीर्ति नगर निवासी महिला ने आयोग में शिकायत दी है कि उसका पति उसके साथ मारपीट करता है। उसके साथ अभद्र व्यवहार करता है। आयोग ने महिला के पति को बुलाने को कहा। पुलिस ने उसे तलाश कर लेकर आई। जैसे ही वह आया तो उसने सीधे चाय का गिलास हाथ में उठा लिया। वह चाय का गिलास लेकर ही आयोग चेयरपर्सन के सामने पहुंच गया। आयोग चेयरपर्सन ने उसे लताड़ लगाई तो वह गिलास बाहर फेंक कर आया। सामने आया कि उसने शराब पी हुई थी। आयोग चेयरपर्स ने तुरंत उसे मीटिंग हाल से बाहर निकालकर केस दर्ज करने को कहा। इस पर पुलिस उसे अपने साथ ले गई।

75 साल की उम्र में भाई बहन में जमीन बनी विवाद
आयोग को 75 वर्षीय हरदेव कौर ने शिकायत भेजी थी। उनका आरोप था कि उसका भाई उसके हिस्से की जमीन बेच गया और उसके 16 लाख रुपए हड़प लिए। महिला का आरोप था कि उसके भाई ने उसे कहा था कि वह उसकी यहां पर जमीन बेच कहीं और दिला देगा। न तो उसने कहीं और उसे जमीन दिलाई और न ही 16 लाख रुपए दिए। उसे घर से भी निकाल दिया। उसके साथ मारपीट की। हालांकि पुलिस उसके भाई पर पहले केस दर्ज कर चुकी है। आयोग ने अब दोबारा कार्रवाई की सिफारिश की है।

कई मामलों में दोनों पक्षों के बीच हुई तूं-तूं मैं-मैं
सुनवाई के दौरान कई मामलों में दोनों पक्षों के बीच तूं-तूं मैं-मैं हुई। आयोग के सामने मोहाली निवासी एक बुजुर्ग महिला ने शिकायत दी थी कि उसकी पुत्रवधु ने महिला थाने के बाहर उनके साथ मारपीट की। वह अपनी पुत्रवधु से बहुत परेशान आ चुकी है। इस दौरान दोनों पक्षों के बीच काफी देर तक बहस हुई। वहीं एक और मामला आया। इसमें पति ने आरोप लगाया कि उसकी प|ी के अवैध संबंध हैं। इस मामले में भी पुलिस को बीच-बचाव कराना पड़ा।

महिला आयोग ने दोबारा जांच की सिफारिश की थी

नहीं मिली शिकायत पेटिका की चाबी 20 मिनट बाद ताला तोड़ा तो मिली खाली
नहीं मिली शिकायत पेटिका की चाबी 20 मिनट बाद ताला तोड़ा तो मिली खाली
सिविल अस्पताल में जच्चा-बच्चा से जानकारी लेतीं महिला आयोग चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन, नम्रता गौड़ व अन्य।

सिविल अस्पताल में जच्चा-बच्चा से जानकारी लेतीं महिला आयोग चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन, नम्रता गौड़ व अन्य।

यमुनानगर |जब महिला आयोग की टीम ने सिविल अस्पताल में फर्स्ट फ्लोर पर अंदर लगी शिकायत पेटिका जांचने लगी, तब किसी को पेटिका की चाबी तक नहीं मिली। करीब 20 मिनट के बाद पेचकस से पेटिका का ताला तोड़ खोला गया। हालांकि उसके अंदर शिकायत नहीं मिली। टीम ने निर्देश दिए कि शिकायत पेटिका मुख्य गेट पर लगाएं। टीम ने अस्पताल में अधिकारियों से पूरी बिल्डिंग में हो रही सीलन की वजह भी पूछी और इसे दूर करने के निर्देश दिए। माैके पर टीम में चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन, सदस्य नम्रता गौड़ चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विजय दहिया माैजूद रहे। टीम ने लेबर रूम व एसएनसीयू वार्ड का निरीक्षण किया अाैर वहां दाखिल मरीजों व उनके अभिभावकों से अस्पताल की सुविधाओं बारे जानकारी ली। टीम ने अस्पताल के महिला व पुरुष वार्ड का भी दौरा कर मरीजों से बात की।

प्रोटेक्शन ऑफिसर को नहीं दी सूचना: महिला आयोग के आने की सूचना प्रोटेक्शन आॅफिसर को नहीं थी। आते ही टीम ने प्रोटेक्शन ऑफिसर के बारे में पूछा लेकिन वे मौके पर नहीं थे। इस बारे अरविंद्रजीत कौर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उन्हें थाने से कोई सूचना नहीं दी गई।

यमुनानगर |जब महिला आयोग की टीम ने सिविल अस्पताल में फर्स्ट फ्लोर पर अंदर लगी शिकायत पेटिका जांचने लगी, तब किसी को पेटिका की चाबी तक नहीं मिली। करीब 20 मिनट के बाद पेचकस से पेटिका का ताला तोड़ खोला गया। हालांकि उसके अंदर शिकायत नहीं मिली। टीम ने निर्देश दिए कि शिकायत पेटिका मुख्य गेट पर लगाएं। टीम ने अस्पताल में अधिकारियों से पूरी बिल्डिंग में हो रही सीलन की वजह भी पूछी और इसे दूर करने के निर्देश दिए। माैके पर टीम में चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन, सदस्य नम्रता गौड़ चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विजय दहिया माैजूद रहे। टीम ने लेबर रूम व एसएनसीयू वार्ड का निरीक्षण किया अाैर वहां दाखिल मरीजों व उनके अभिभावकों से अस्पताल की सुविधाओं बारे जानकारी ली। टीम ने अस्पताल के महिला व पुरुष वार्ड का भी दौरा कर मरीजों से बात की।

प्रोटेक्शन ऑफिसर को नहीं दी सूचना: महिला आयोग के आने की सूचना प्रोटेक्शन आॅफिसर को नहीं थी। आते ही टीम ने प्रोटेक्शन ऑफिसर के बारे में पूछा लेकिन वे मौके पर नहीं थे। इस बारे अरविंद्रजीत कौर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उन्हें थाने से कोई सूचना नहीं दी गई।

खबरें और भी हैं...