अम्बाला / फाइल ट्रैकिंग सिस्टम से निपटाई जाएंगी गृह मंत्री के पास आने वाली शिकायतें

विज के आवास पर लगी शिकायतकर्ताओं की लाइन। विज के आवास पर लगी शिकायतकर्ताओं की लाइन।
X
विज के आवास पर लगी शिकायतकर्ताओं की लाइन।विज के आवास पर लगी शिकायतकर्ताओं की लाइन।

  • संबंधित अधिकारी व विभागों को 15 दिनों में देनी होगी स्टेट्स रिपोर्ट
  • पीड़ित को उसकी शिकायत का ऑनलाइन ही पता चल सकेगा स्टेट्स

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2019, 05:37 AM IST

अम्बाला (रमिंद्र सिंह). रोजाना गृह मंत्री अनिल विज के पास आने वाली सैकड़ों शिकायतों का निपटान ‘फाइल ट्रैकिंग सिस्टम’ के जरिए होगा। सिस्टम के जरिए विभागों व अधिकारियों की जवाबदेही पूरी तरह से तय होगी। गृह मंत्री के अम्बाला स्थित निवास या फिर चंडीगढ़ में आने वाली शिकायतों को ट्रेकिंग सिस्टम में अपलोड कर दिया जाएगा और इस सिस्टम के जरिए संबंधित अधिकारी व विभागों को 15 दिनों के अंदर अपनी स्टेट्स रिपोर्ट देनी होगी। शिकायतकर्ता को उसकी शिकायत का स्टेट्स ऑनलाइन ही पता चल सकेगा। यदि शिकायत पर कार्रवाई नहीं होती तो सीधे तौर पर संबंधित अधिकारी की जवाबदेही तय होगी। 


गृह विभाग मिलने के बाद मंत्री अनिल विज के पास आने वाले शिकायतों में इजाफा हो गया है। अम्बाला कैंट में उनके शास्त्री कालोनी स्थित आवास पर रोजाना 200 से 400 तक शिकायतें आनी आरंभ हो गई है, जिनमें 80 फीसदी शिकायतें पुलिस विभाग से ही संबंधित है। प्रदेश के अलग-अलग जिलों से फरियादी शिकायतें अपनी शिकायतें यहां लेकर पहुंच रहे हैं। मंत्री विज रोजाना सुबह 3 घंटे तक इन समस्याओं का निपटान कर रहे हैं और उन्हें मिलने वाली शिकायतों को मार्क कर कार्रवाई के लिए चंडीगढ़ एवं अलग-अलग विभागीय अधिकारियों के पास भेजा जा रहा है। अब तक इन शिकायतों को ट्रैक करने के लिए कोई सिस्टम नहीं है। इस सिस्टम से उनके घर में लगे कंप्यूटर भी जोड़े जाएंगे। एक बार शिकायत देने पर शिकायतकर्ता को आईडी नंबर भी मिलेगा जिससे वह अपनी शिकायत की स्टेट्स रिपोर्ट को चेक कर पाएगा। 

ई-मेल से कर सकेंगे शिकायत
गृह मंत्री अनिल विज तक अब ई-मेल के जरिए भी फरियादी अपनी शिकायतें पहुंचा सकेंगे। जल्द ही उनका नया ई-मेल आईडी तैयार किया जा रहा है जिसपर लोग अपनी शिकायत कर पाएंगे। शिकायतकर्ता को ई-मेल पर ही रिस्पांस दिया जाएगा। 
 

फाइल ट्रैकिंग सिस्टम को जल्द प्रभावी कर दिया जाएगा। डीजीपी को इसके लिए दिशा-निर्देश दिए हैं। ट्रैकिंग सिस्टम होने से अधिकारियों व स्टाफ की जवाबदेही तय होगी और जनता को अपनी शिकायत की स्थिति जानने के लिए सहूलियत मिलेगी। - अनिल विज, गृह मंत्री, हरियाणा

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना