27 लाख प्रॉपर्टी टैक्स चुकाने को लेकर कंफ्यूज डेढ़ करोड़ की एफडी वाला फीनिक्स क्लब

Ambala News - शहर का सबसे अमीर सेंट्रल फीनिक्स क्लब 9 साल का प्रॉपर्टी टैक्स चुकाने के लिए अब कंफ्यूजन में है। 9 वर्षों में क्लब...

Mar 02, 2020, 07:20 AM IST

शहर का सबसे अमीर सेंट्रल फीनिक्स क्लब 9 साल का प्रॉपर्टी टैक्स चुकाने के लिए अब कंफ्यूजन में है। 9 वर्षों में क्लब के 8 चेयरमैन तो मामले को आगे खिसकाते रहे, अब गेंद 9वें चेयरमैन राकेश अग्रवाल के पाले में हैं। इस बात पर सहमति नहीं हो पा रहा कि क्लब की डेढ़ करोड़ की फिक्स डिपोजिट तुड़वाकर 27.64 लाख का प्रॉपर्टी टैक्स चुकाएं या फिर क्लब के 900 सदस्यों पर 3 हजार रुपए प्रति सदस्य का भार डालकर टैक्स को बोझ हटा दें। नगर परिषद की ओर से क्लब को नोटिस और फिर रिमांइडर दिया जा चुका है। तीसरे स्टेप पर सीलिंग की कार्रवाई बचती है। क्लब की मौजूदा कार्यकारिणी का कार्यकाल इसी साल जून से पहले समाप्त हो जाएगा।

वर्ष 2010-11 में प्रॉपर्टी टैक्स महज 2.27 लाख रुपए था जोकि अब 27.64 लाख रुपए हो गया है। टैक्स नहीं देने पर बीते नौ वर्षों में 3.74 लाख तो ब्याज ही लग चुका है। दैनिक भास्कर ने क्लब के वर्तमान चेयरमैन समेत 7 पूर्व चेयरमैनों से टैक्स न चुकाए जाने पर बात की तो सभी ने अलग-अलग कारण गिनवाए। क्लब में मंडल कमिश्नर, डीसी, एसपी समेत कई अफसरों के एक्स-अॉफिसियो (पदाधिकारी) होने के कारण टैक्स न चुकाने पर भी कभी सख्त कदम नहीं उठाए। अब सरकार स्थानीय निकायों की आय बढ़ाने को लेकर सख्त है। शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज भी सख्त हैं।

पूर्व प्रधानों का तर्क- उन्हें नगर परिषद के नोटिस ही नहीं मिले



जानिए किस साल में कितना प्रॉपर्टी टैक्स और कितना जुड़ता रहा ब्याज...


वित्त वर्ष टैक्स ब्याज चेयरमैन

2010-11 227886 41019 आरएन मदान

2011-12 227886 41019 नरेश भारद्वाज

2012-13 227886 41019 जेपी अग्रवाल

(स्वर्गवास हो चुका)

2013-14 227886 41019 राजीव गोयल

2014-15 227886 41019 नरेंद्र धमीजा

2015-16 227886 41019 नरेंद्र धमीजा

2016-17 227886 41019 अजय अग्रवाल

2017-18 227886 41019 तरुण दुआ

2018-19 283202 46728 डाॅ. नीरज पराशर

2019-20 283202 --- राकेश अग्रवाल

नोट: प्रतिवर्ष टैक्स व ब्याज को मिलाकर कुल 27.64 लाख है।

चंडीगढ़ क्लब ने चुकाए थे 92 लाख : वर्ष 2018 में चंडीगढ़ क्लब ने भी 92 लाख रुपए यूटी प्रशासन को चुकाया था। क्लब की लीज एमाउंट 7 वर्षों से पेंडिंग थे। लीज डीड एवं स्टडी के बाद यह एमाउंट चुकाई गई और तक क्लब के 8 हजार सदस्यों ने यह राशि चुकाई थी।









अगर क्लब पर टैक्स बनता है तो इसे अदा करना चाहिए। मेरे कार्यकाल में हर बिल की अदायगी हुई, मगर टैक्स का नोटिस नहीं आया।
नरेंद्र धमीजा

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना