दाे साल पहले हुए जानलेवा हमले के गवाह जगबीर सिंह पर बाइक सवार दो नकाबपोशों ने चलाई गोली, घायल

Ambala News - भास्कर न्यूज | अम्बाला/ मुलाना नारायणगढ़ में काेर्ट में चल रहे केसाें के गवाहाें काे गाेली मारने की घटनाएं हाे...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:20 AM IST
Ambala News - haryana news two masked bikers shot dead on jagbir singh39s assault on jagbir singh
भास्कर न्यूज | अम्बाला/ मुलाना

नारायणगढ़ में काेर्ट में चल रहे केसाें के गवाहाें काे गाेली मारने की घटनाएं हाे चुकी हैं। अब शुक्रवार रात मुलाना के कांसापुर गांव में दाे साल पहले हुए जानलेवा हमले के गवाह जगबीर सिंह पर बाइक सवार दाे नकाबपोश युवकों ने गाेली दाग दी। युवक माैके से फरार हाे गए। गंभीर रूप से घायल गंभीर काे एमएम अस्पताल में एडमिट करवाया गया। पुलिस ने माैके से 32 बाेर पिस्ताैल का खाेल बरामद किया है। मुलाना पुलिस ने कांसापुर के गुरप्रीत सिंह की शिकायत पर तीन लाेगाें के खिलाफ मामला दर्ज किया। उधर, नारायणगढ़ में युवक की मौत के बाद दो गवाहों की हत्या को पुलिस प्रशासन की िवफलता माना था। आयोग ने महुआखेड़ी हत्याकांड में संज्ञान लेते हुए गृह विभाग के अतिरिक्त सचिव और डीजीपी को नोटिस भेजा था। आयोग ने मृतक के परिवार के आश्रिताें को मुआवजा देने बारे भी तलब किया था।

दाेस्त के साथ स्कूल के पास बैठा था जगबीर ताे किया हमला| पुलिस काे नरेंद्र सिंह ने बताया कि शुक्रवार रात को करीब साढ़े 9 बजे वह व उसका दोस्त जगबीर सिंह उर्फ काला सरकारी स्कूल के पास बैठे थे। तभी वहां एक पल्सर बाइक पर दो लड़के सड़क पर चक्कर काट रहे थे। उन्हाेंने अपना मुंह लपेटा हुआ था। जब वह दोनों घर जाने लगे तो उसके दोस्त जगबीर सिंह ने दोनों बाइक सवार युवकों काे रुकने का इशारा किया तो बाइक के पीछे बैठे युवक ने जगबीर पर एकदम फायर कर दिया। अाराेपी माैके से फरार हाे गए। बाइक पर दिल्ली का नंबर अंकित था जिसे वह पढ़ नहीं पाए। गोली जगबीर के बाएं कंधे में लगी। पुलिस ने गांव रूकड़ी निवासी मलकीत सिंह, अमरजीत सिंह उर्फ काला वा कुलदीप सिंह उर्फ संजू के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

गवाही देने पर अंजाम भुगतने की दी धमकी

वारदात में घायल जगबीर सिंह का कहना था कि विशाल दत्ता वाले मामले में वह मुख्य गवाह था और यही कारण है कि अमरजीत निवासी रूकड़ी उसे लगातार धमकी देता आ रहा था। उन्होंने बताया कि दो महीने पहले कोर्ट में उसकी गवाही थी, तब भी अमरजीत ने उसे गवाही देने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। इस वारदात में अमरजीत सहित अन्य का ही हाथ है। घायल जगबीर सिंह ने कांसापुर गांव के भी दो युवकों पर उसकी रेकी करने का आरोप लगाया। दोनों युवक अमरजीत के कहने पर उसकी रेकी करते हैं।

भास्कर न्यूज | अम्बाला/ मुलाना

नारायणगढ़ में काेर्ट में चल रहे केसाें के गवाहाें काे गाेली मारने की घटनाएं हाे चुकी हैं। अब शुक्रवार रात मुलाना के कांसापुर गांव में दाे साल पहले हुए जानलेवा हमले के गवाह जगबीर सिंह पर बाइक सवार दाे नकाबपोश युवकों ने गाेली दाग दी। युवक माैके से फरार हाे गए। गंभीर रूप से घायल गंभीर काे एमएम अस्पताल में एडमिट करवाया गया। पुलिस ने माैके से 32 बाेर पिस्ताैल का खाेल बरामद किया है। मुलाना पुलिस ने कांसापुर के गुरप्रीत सिंह की शिकायत पर तीन लाेगाें के खिलाफ मामला दर्ज किया। उधर, नारायणगढ़ में युवक की मौत के बाद दो गवाहों की हत्या को पुलिस प्रशासन की िवफलता माना था। आयोग ने महुआखेड़ी हत्याकांड में संज्ञान लेते हुए गृह विभाग के अतिरिक्त सचिव और डीजीपी को नोटिस भेजा था। आयोग ने मृतक के परिवार के आश्रिताें को मुआवजा देने बारे भी तलब किया था।

दाेस्त के साथ स्कूल के पास बैठा था जगबीर ताे किया हमला| पुलिस काे नरेंद्र सिंह ने बताया कि शुक्रवार रात को करीब साढ़े 9 बजे वह व उसका दोस्त जगबीर सिंह उर्फ काला सरकारी स्कूल के पास बैठे थे। तभी वहां एक पल्सर बाइक पर दो लड़के सड़क पर चक्कर काट रहे थे। उन्हाेंने अपना मुंह लपेटा हुआ था। जब वह दोनों घर जाने लगे तो उसके दोस्त जगबीर सिंह ने दोनों बाइक सवार युवकों काे रुकने का इशारा किया तो बाइक के पीछे बैठे युवक ने जगबीर पर एकदम फायर कर दिया। अाराेपी माैके से फरार हाे गए। बाइक पर दिल्ली का नंबर अंकित था जिसे वह पढ़ नहीं पाए। गोली जगबीर के बाएं कंधे में लगी। पुलिस ने गांव रूकड़ी निवासी मलकीत सिंह, अमरजीत सिंह उर्फ काला वा कुलदीप सिंह उर्फ संजू के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

रंजिशन किया गया हमला

जानकारी देता मुलाना के एमएम अस्पताल में दाखिल घायल जगबीर।


भास्कर न्यूज | अम्बाला/ मुलाना

नारायणगढ़ में काेर्ट में चल रहे केसाें के गवाहाें काे गाेली मारने की घटनाएं हाे चुकी हैं। अब शुक्रवार रात मुलाना के कांसापुर गांव में दाे साल पहले हुए जानलेवा हमले के गवाह जगबीर सिंह पर बाइक सवार दाे नकाबपोश युवकों ने गाेली दाग दी। युवक माैके से फरार हाे गए। गंभीर रूप से घायल गंभीर काे एमएम अस्पताल में एडमिट करवाया गया। पुलिस ने माैके से 32 बाेर पिस्ताैल का खाेल बरामद किया है। मुलाना पुलिस ने कांसापुर के गुरप्रीत सिंह की शिकायत पर तीन लाेगाें के खिलाफ मामला दर्ज किया। उधर, नारायणगढ़ में युवक की मौत के बाद दो गवाहों की हत्या को पुलिस प्रशासन की िवफलता माना था। आयोग ने महुआखेड़ी हत्याकांड में संज्ञान लेते हुए गृह विभाग के अतिरिक्त सचिव और डीजीपी को नोटिस भेजा था। आयोग ने मृतक के परिवार के आश्रिताें को मुआवजा देने बारे भी तलब किया था।

दाेस्त के साथ स्कूल के पास बैठा था जगबीर ताे किया हमला| पुलिस काे नरेंद्र सिंह ने बताया कि शुक्रवार रात को करीब साढ़े 9 बजे वह व उसका दोस्त जगबीर सिंह उर्फ काला सरकारी स्कूल के पास बैठे थे। तभी वहां एक पल्सर बाइक पर दो लड़के सड़क पर चक्कर काट रहे थे। उन्हाेंने अपना मुंह लपेटा हुआ था। जब वह दोनों घर जाने लगे तो उसके दोस्त जगबीर सिंह ने दोनों बाइक सवार युवकों काे रुकने का इशारा किया तो बाइक के पीछे बैठे युवक ने जगबीर पर एकदम फायर कर दिया। अाराेपी माैके से फरार हाे गए। बाइक पर दिल्ली का नंबर अंकित था जिसे वह पढ़ नहीं पाए। गोली जगबीर के बाएं कंधे में लगी। पुलिस ने गांव रूकड़ी निवासी मलकीत सिंह, अमरजीत सिंह उर्फ काला वा कुलदीप सिंह उर्फ संजू के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

भतीजे के जन्मदिन के बाद मारपीट पर हुआ था विवाद

8 अगस्त 2017 को रूकड़ी गांव निवासी विशाल दत्ता के भतीजे का जन्मदिन था। रात को करीब साढ़े 11 बजे विशाल अपने दोस्तों को घर के बाहर तक छोड़ने के लिए आया था। इतने में ही रूकड़ी गांव का ही मलकीत सिंह बुलेट बाइक पर सवार होकर वहां पहुंचा और विशाल के साथ गाली-गलौज करने लगा था। तभी मलकीत ने अपने 4 अन्य साथियों के साथ जहां विशाल दत्ता के ऊपर तलवार से हमला कर दिया था वहीं विशाल की मासी सोमवती पर भी हमला बोल दिया था। वारदात को अंजाम देने के बाद मलकीत साथियों के साथ फरार हो गया था। इस घटना का जैसे ही विशाल को भाई ललित को पता चला तो वह भाई को देखने के लिए अस्पताल जाने लगा था। रास्ते में घात लगाकर बैठे इन हमलावरों ने ललित पर भी तलवार से हमला कर दिया था। ललित की बाजू पर चोट आई। जिस समय यह वारदात हुई, उस समय विशाल का ताऊ का बेटा राजीव दत्ता घर में सो रहा था। तभी घर के लोगों ने उसे विशाल पर हमले की जानकारी दी थी। राजीव घर से निकला तो रास्ते में हमलावरों ने उसे घेर कर जानलेवा हमला कर दिया था। हमलावरों ने राजीव पर तेजधार हथियारों से कई हमला किए थे और राजीव को मरा समझ कर हमलावर मौके से फरार हो गए थे। इस मामले में घायल जगबीर सिंह मुख्य गवाह है।

एक लाख के इनाम का सहारा लेकर मेंटल तक पहुंचेगी पुलिस

नारायणगढ़ | मोहित मेंटल पर एक लाख का इनाम घोषित करने के बाद पुलिस को उम्मीद है कि वह उसे जल्द गिरफ्तार कर लेगी। पुलिस ने मोहित मेंटल की सूचना देने वाले का नाम व पता गुप्त रखने की बात कही है। पुलिस का दावा है कि इस बार मोहित गिरफ्तारी से बच नहीं पाएगा। पूर्णचंद हत्याकांड के आरोपी पर बेशक पुलिस ने एक लाख रुपए का इनाम रख दिया है लेकिन 11 दिन बीत जाने के बाद आरोपी पकड़ा नहीं जा सका। 25 साल की उम्र में तीन हत्याओं में शामिल मोहित मेंटल पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ है। देखा जाए तो यह एक ऐसा अपराधी है जिसकी इच्छा काेई डॉन या राजनेता बनने की दिखाई नहीं देती। बल्कि इसका निशाना सिर्फ गवाह हैं। कहीं न कहीं यह बात उसके दिमाग में घर कर गई है कि गवाहों को रास्ते से हटाकर वह बच जाएगा। बीती 2 जुलाई को पूर्णचंद की हत्या करने के बाद वह फरार हो गया।

सुरक्षा से संतुष्ट लेकिन खौफ में गवाह और परिवार: गवाहों और पीड़ित परिवारों की सुरक्षा को लेकर पुलिस अब कोई रिस्क लेना नहीं चाहती है। इसके चलते पूर्णचंद के परिवार की सुरक्षा में पुलिस कोई कसर नहीं छोड़ रही है। इसके अलावा रणधीर हत्याकांड के गवाह मनीष, शमशेर व सुरेश को भी गनमैन दिए गए हैं। यही नहीं, 13 मई 2018 से लगातार पुलिस रणधीर सिंह के परिवार की सुरक्षा का जिम्मा भी उठा रही है। पूर्णचंद के परिजनों का कहना है कि वह सुरक्षा के लिहाज से संतुष्ट हैं लेकिन मोहित मेंटल का जल्द पकड़ा जाना भी जरूरी है।

पूर्णचंद हत्याकांड

अगस्त 2017 में रूकड़ी में हुई एक वारदात में मुख्य गवाह है जगबीर, उसी रंजिश के तहत किया हमला


X
Ambala News - haryana news two masked bikers shot dead on jagbir singh39s assault on jagbir singh
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना