विज्ञापन

शहीद की अंतिम इच्छा: 26 की उम्र में देश के लिए मर मिटा, अब घर आया नन्हा मेहमान तो पत्नी ने निभाया प्रॉमिस

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 12:57 PM IST

हरियाणा के अंबाला का मामला।

Terrorism, martyr Vikramajit, wife and newborn baby
  • comment

अंबाला, हरियाणा। सुख और दु:ख जिंदगी के दो पहलू हैं। अगर जिंदगी के आंचल में एक पल दु:ख आता है, तो दूसरे पल खुशियां भी मिलती हैं। आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हुए 26 साल के विक्रमजीत सिंह के घर किलकारियां गूंजी हैं। उनकी पत्नी हरप्रीत कौर ने 9 अक्टूबर को बेटे को जन्म दिया है। इसका नाम फतेह सिंह रखा गया है।

-दरअसल, इस वीर योद्धा ने पत्नी से प्रॉमिस लिया था कि अगर बेटा पैदा हो, तो उसका नाम फतेह सिंह रखा जाए। वह दुश्मनों को धूल चटाते हुए देश की रक्षा करेगा। शहीद की मां यही मानती हैं कि पोते के रूप में उनका बेटा लौट आया है। उल्लेखनीय है कि 7 अगस्त को श्रीनगर के गुरेज सेक्टर में आतंकियों से लड़ते हुए विक्रमजीत शहीद हो गए थे।
-विक्रमजीत की 15 जनवरी 2018 को यमुनानगर के गांव पीबनी की रहने वाली हरप्रीत से शादी हुई थी। विक्रमजीत सिंह ने 12वीं तक पढ़ाई के बाद 2015 में आर्मी ज्वाइन की थी। पंजाब के फिरोजपुर में पहली पोस्टिंग मिली। 2016 में श्रीनगर में तैनाती हुई थी। इनका छोटा भाई मोनू भी आर्मी में है। तेपला गांव से 300 युवा आर्मी में हैं।

X
Terrorism, martyr Vikramajit, wife and newborn baby
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें