--Advertisement--

छात्र संघ चुनाव / लाठीचार्ज के विरोध में ABVP को छोड़कर दूसरे छात्र संगठनों ने चुनाव का किया बहिष्कार, बोले-नहीं होने देंगे वोटिंग



कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन करते हुए छात्र। कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन करते हुए छात्र।
कुरुक्षेत्र में उपकुलपति कार्यालय के बाहर नारेबाजी करते हुए छात्र। कुरुक्षेत्र में उपकुलपति कार्यालय के बाहर नारेबाजी करते हुए छात्र।
सिरसा में सीएम का पूतला फूंकते हुए एसएफआई क सिरसा में सीएम का पूतला फूंकते हुए एसएफआई क
रोहतक में प्रदर्शन कर रहे छात्र। रोहतक में प्रदर्शन कर रहे छात्र।
X
कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन करते हुए छात्र।कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन करते हुए छात्र।
कुरुक्षेत्र में उपकुलपति कार्यालय के बाहर नारेबाजी करते हुए छात्र।कुरुक्षेत्र में उपकुलपति कार्यालय के बाहर नारेबाजी करते हुए छात्र।
सिरसा में सीएम का पूतला फूंकते हुए एसएफआई कसिरसा में सीएम का पूतला फूंकते हुए एसएफआई क
रोहतक में प्रदर्शन कर रहे छात्र।रोहतक में प्रदर्शन कर रहे छात्र।

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 05:42 PM IST

कुरुक्षेत्र/रोहतक/सिरसा। हरियाणा में 22 साल बाद 17 अक्टूबर को होने जा रहे छात्र संघ चुनाव सरकार के गले की फांस बनते नजर आ रहे हैं। अप्रत्यक्ष चुनाव और बीते गुरुवार को रोहतक व कुरुक्षेत्र में छात्रों पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में एबीवीपी को छोड़कर दूसरे छात्र संगठनों ने चुनाव का विरोध किया है। उनका कहना है कि वे 17 अक्टूबर को किसी भी कीमत पर चुनाव नहीं होने देंगे। 

छात्र संघर्ष समिति की खुली धमकी-सरकार जितनी मर्जी पुलिस बुला ले, नहीं होने देंगे छात्र संघ चुनाव

  1. कुरुक्षेत्र में शनिवार को प्रेसवार्ता करते हुए एनएसयूआई, इनसो, एसएफआई व दूसरे छात्र संगठनों के प्रतिनिधियों ने कहा कि सरकार अप्रत्यक्ष चुनाव करवाकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) को हरियाणा के शिक्षण संस्थानों में बैठाना चाहती है। वे ऐसा नहीं होने देंगे। 
     

  2. इनसो छात्र नेता जसविंद्र खैरा ने कहा कि शुक्रवार को रोहतक व कुरुक्षेत्र में छात्रों पर हुए लाठीचार्ज की वे कड़ी निंदा करते हैं। सरकार के अप्रत्यक्ष चुनाव के विरोध में उन्होंने निर्णय लिया है कि एबीवीपी को छोड़कर कोई भी छात्र संगठन नामांकन नहीं करेगा। जिन उम्मीदवारों ने स्वतंत्र रुप से नामांकन किया है, उन्हें भी नामांकन वापिस लेने के लिए कहा गया है। 
     

  3. बता दें कि हरियाणा के कुल 293 महाविद्यालय ओर 11 विश्वविद्यालय में चुनाव होना है। इसके लिए नामांकन 12 अक्टूबर को शुरू हुआ, वहीं 13 अक्टूबर को नामांकन वापस लिए जाने हैं। 17 अक्टूबर को चुनाव है। जसविंद्र खैरा ने कहा कि 17 तारीख तक वे यूनिवर्सिटी की हर क्लास में जाकर छात्रों को वोटिंग करने के लिए कहेंगे।
     

  4. एनएसयूआई के नेता दिव्यांशु बुद्धिराजा ने कहा कि सरकार 17 अक्टूबर की तैयारी कर ले वे किसी भी हालत में चुनाव नहीं होने देंगे। खट्टर सरकार इसके लिए चाहे प्रदेश पुलिस व अन्य राज्यों की पुलिस को बुला ले। चुनाव का पूर्ण बहिष्कार किया जाएगा। 
     

  5. वहीं एसएफआई नेता शहनवाज ने कहा कि 12 अक्टूबर को छात्रों पर हुआ लाठीचार्ज सरकार की शह पर हुआ है। छात्र इस लाठीचार्ज का जवाब देंगे। कोई भी चुनाव में हिस्सा नहीं लेगा
     

कुरुक्षेत्र, एमडीयू और सीडीएलयू में छात्रों ने प्रदर्शन कर फूंका सीएम का पूतला

  1. कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में दोपहर 12 बजे छात्र स्टूडेंट होम पर जुट गए थे। बड़ी संख्या में पहुंचे छात्र पैदल मार्च निकालते हुए उपकुलपति कार्यालय तक पहुंचे। यहां लगभग 1 बजे तक छात्रों ने उपकुलपति, पुलिस और मनोहर लाल सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। उनकी मांग थी कि सरकार प्रत्यक्ष रुप से चुनाव करवाए, पुलिस को कैंपस से बाहर करके चुनाव आयोजित करे। वहीं 10 छात्रों पर दर्ज की गई एफआईआर वापिस की जाए। 
     

  2. वहीं चौधरी देवीलाल यूनिवर्सिटी में एसएफआई के बैनर तले छात्रों ने प्रदर्शन किया। छात्र राजकीय नेशनल कॉलेज के कैंपस में एकत्र हुए। जहां उन्होंने रोहतक और कुरुक्षेत्र की घटना की कड़ी निंदा की। उन्होंने सरकार का पूतला फूंका।  छात्र नेता एकम, जयवीर, किरण ने शुक्रवार को छात्रों पर किए गए लाठीचार्ज सहित बल प्रयोग की कार्रवाई पर रोष जताया। छात्र नेता पवन ने कहा कि सरकार अपने चहेतों को जीताना चाहती है। इसलिए यह सब किया जा रहा है।
     

  3. रोहतक यूनिवर्सिटी में पुलिस ने सुबह 7 बजे एनएसयूआई के नेता सुशील हुड्डा को उठा लिया। इसके विरोध में छात्रों ने अल्टीमेटम दे दिया। 12.10 बजे पुलिस ने सुशील हुड्डा को छोड़ दिया।
     

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..