• Hindi News
  • Haryana
  • Hisar
  • Hisar News accused accused of recovering rs50000 in lieu of embryonic gender check the team came under attack the accused absconded
--Advertisement--

भ्रूण लिंग जांच के एवज में Rs.50 हजार वसूलने का आरोप, टीम हरकत में आई तो आरोपी हुआ फरार

Hisar News - अग्रोहा मोड़ के पास स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापा मारा तो इसी दौरान भ्रूण लिंग जांच के नाम पर 50 हजार रुपए वसूलकर एक...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:10 AM IST
Hisar News - accused accused of recovering rs50000 in lieu of embryonic gender check the team came under attack the accused absconded
अग्रोहा मोड़ के पास स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापा मारा तो इसी दौरान भ्रूण लिंग जांच के नाम पर 50 हजार रुपए वसूलकर एक आरोपी फरार हो गया। जिसे रंगे हाथ पकड़ने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जाल भी बिछाया हुआ था। इससे पहले टीम उसे काबू कर पाती कि वह शक होने पर चुपके से निकल भागा। इसकी धरपकड़ के लिए पुलिस की मदद से तलाशी अभियान भी चलाया गया था मगर उसका सुराग नहीं लग पाया। ऐसे में विभाग की तरफ से अग्रोहा थाना में नामजद आरोपी सुधीर व अन्य लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी सहित पीसी-पीएनडीटी एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज करवाया है। हालांकि अल्ट्रासाउंड केंद्र संचालक ने मामले में संलिप्तता से इनकार किया है। ऐसे में आरोपी सुधीर की गिरफ्तारी के बाद ही मामले की सच्चाई सामने आएगी। अग्रोहा थाना प्रभारी ईश्वर का कहना है कि आरोपी को पकड़ने के लिए उसके संभावित ठिकानों पर दबिश जारी है। पुलिस को मिली शिकायत में डिप्टी सीएमओ डॉ. रतना भारती ने बताया कि कहीं से सूचना मिली थी कि सुधीर नामक व्यक्ति भ्रूण लिंग जांच करवाता है।

इसकी एवज में लोगों से हजारों रुपये वसूल रहा है। इस तरह की गैरकानूनी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए गठित डिस्ट्रिक्ट एप्रोप्रिएट कमेटी ने संज्ञान लेते हुए टीम का गठन किया था। डॉ. भारती के नेतृत्व में डॉ. टीपी शर्मा, डॉ. दीपक चौधरी, डॉ. अनिल आहुजा के साथ एक महिला को बतौर डिकोय कस्टमर तैयार किया। तब आरोपी सुधीर से संपर्क किया गया, उसने भ्रूण लिंग जांच की एवज में 50 हजार रुपए मांगे। उसने बताया कि अग्रोहा मोड़ स्थित अल्ट्रासाउंड केंद्र में जांच होगी। ऐसे में उसके कहे अनुसार टीम ने बंदोबस्त करके 50 हजार (नोटेड नोट) देकर डिकोय कस्टमर को सुधीर के पास भेज दिया था। वह डिकोय कस्टमर को उसकी ननद बनकर जोकि हेड कांस्टेबल थी, को लेकर सेंटर पहुंच गया। उसने अल्ट्रासाउंड करवाने के लिए अपनी प|ी की आधार कार्ड की आईडी का इस्तेमाल किया, ताकि फेक आईडी के जरिए वह अपने मनसूबों में कामयाब हो जाए। इसी दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम अलर्ट हुई और छापामारी के लिए आगे बढ़ी। तभी सुधीर को कुछ शक हुआ और वह मौका देखकर भाग गया। टीम ने उसे पकड़ने की कोशिश की। पुलिस को सूचना दी। उसे भी तलाशा मगर वह नहीं मिला। देर रात अग्रोहा थाना पुलिस ने डॉ. रतना भारती की शिकायत पर केस दर्ज कर लिया है।

X
Hisar News - accused accused of recovering rs50000 in lieu of embryonic gender check the team came under attack the accused absconded
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..