--Advertisement--

कुर्सी, कैंची और अलमारी चिह्न के थे कई दावेदार, ड्रा निकाल बांटे निशान

Hisar News - मेयर पद के लिए पहली बार जनता के बीच जाकर हो रहे चुनाव में 22 प्रत्याशी चुनाव मैदान में आमने-सामने उतर रहे हैं। शनिवार...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:15 AM IST
Hisar News - chair scissor and wardrobe mark were many contenders draws out distribution marks
मेयर पद के लिए पहली बार जनता के बीच जाकर हो रहे चुनाव में 22 प्रत्याशी चुनाव मैदान में आमने-सामने उतर रहे हैं। शनिवार शाम इन प्रत्याशियों को लघु सचिवालय में आरओ एएस मान ने चुनाव चिह्न वितरित किए। इसमें प्रत्याशियों में मनपसंद चिह्न को लेकर भी प्रतिस्पर्धा दिखाई दी।

मेयर पद के लिए 40 चिह्नों में कुर्सी, कैंची और अलमारी के लिए दो से अधिक उम्मीदवारों ने आवेदन किया था। इसके लिए चुनाव अधिकारियों ने ड्रा के जरिए आवंटन किया। इस दौरान सब लड़ाई कुर्सी की है जैसी बातें हास्यास्पद के तौर पर कही गई।

मेयर पद के प्रत्याशियों की संख्या अधिक होने पर गड़बड़ाया तैयारियों का गणित

हिसार | नगर निगम के चुनाव में नगर निगम ने 204 बूथों के लिए 230 कंट्रोल यूनिट व 460 बैलट यूनिट की व्यवस्था की थी। मगर मेयर पद के दावेदारों की संख्या 22 और नोटा 23वें नंबर पर होने की स्थिति में अब 204 से अधिक बैलट यूनिट मंगवानी होगी। साथ ही उनकी टेस्टिंग से लेकर आगामी प्रक्रिया को करने में भी अतिरिक्त भागदौड़ करनी होंगी। ऐसे में अब ईवीएम की संख्या बढ़ाने को लेकर अफसरों में विचार-विमर्श शुरू हो गया है। बता दें कि शहर में 204 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। इसमें प्रत्येक बूथ पर 1 कंट्रोल यूनिट व एक पार्षद और एक मेयर पद के लिए बैलेट यूनिट लगाने की तैयारी की गई। ऐसे में 204 बूथ के लिए 204 ईवीएम सहित 26 अतिरिक्त कंट्रोल यूनिट भी तैयार की गई थी।


जिला प्रशासन ने मुख्यालय से साधा संपर्क

सूत्रों की मानें तो ईवीएम को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग के मुख्यालय से संपर्क साधा गया है। नई ईवीएम मंगाने काे लेकर तैयारियां शुरू हो गई है। इस संदर्भ में अफसरों पिछले कुछ दिनों से विचार-विमर्श चल रहा है। हालांकि ईवीएम की संख्या बढ़ाने पर अभी आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है।

ईवीएम बढ़ाने के पीछे ये कारण

ईवीएम बढ़ाने के पीछे ये कारण

एक बैलेट मशीन पर 16 बटन होते हैं। 15 प्रत्याशियों के लिए प्रयोग होते हैं। इस बार नोटा का भी प्रयोग हो रहा है। ऐसे में 14 प्रत्याशियों के लिए प्रबंध थे। अब मेयर के लिए 22 प्रत्याशी मैदान में आ गए हैं। मेयर नामांकन के समय ही ईवीएम को लेकर प्रशासन की चिंता बढ़ गई थी। 24 प्रत्याशियों ने मेयर के लिए नामांकन किया था। प्रशासन मेयर पद के लिए करीब 10 प्रत्याशियों के बैठने की उम्मीद जता रहा था, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। जिनमें से एक का नामांकन रद्द हा़े गया। यानि अब 23 बचे थे अब मैदान में 22 प्रत्याशी हैं। ऐसी स्थिति बन गई है कि प्रशासन को 204 बूथों में हर बूथ पर एक-एक ईवीएम अतिरिक्त लगानी होगी।

एक बैलेट मशीन पर 16 बटन होते हैं। 15 प्रत्याशियों के लिए प्रयोग होते हैं। इस बार नोटा का भी प्रयोग हो रहा है। ऐसे में 14 प्रत्याशियों के लिए प्रबंध थे। अब मेयर के लिए 22 प्रत्याशी मैदान में आ गए हैं। मेयर नामांकन के समय ही ईवीएम को लेकर प्रशासन की चिंता बढ़ गई थी। 24 प्रत्याशियों ने मेयर के लिए नामांकन किया था। प्रशासन मेयर पद के लिए करीब 10 प्रत्याशियों के बैठने की उम्मीद जता रहा था, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। जिनमें से एक का नामांकन रद्द हा़े गया। यानि अब 23 बचे थे अब मैदान में 22 प्रत्याशी हैं। ऐसी स्थिति बन गई है कि प्रशासन को 204 बूथों में हर बूथ पर एक-एक ईवीएम अतिरिक्त लगानी होगी।

X
Hisar News - chair scissor and wardrobe mark were many contenders draws out distribution marks
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..