लोकसभा चुनाव / नामांकन करने निकले थे चरणजीत रोडी, किसानों ने रोका रास्ता, अभय ने मिनते की तो 20 मिनट बाद जाने दिया

सड़क पर बीच में ट्रैक्टर लगाकर जाम लगाए खड़े किसान। सड़क पर बीच में ट्रैक्टर लगाकर जाम लगाए खड़े किसान।
अभय सिंह चौटाला किसानों से मिन्नत करते हुए। अभय सिंह चौटाला किसानों से मिन्नत करते हुए।
किसानों ने बड़ी मुश्किल से जाने दिया काफिला। किसानों ने बड़ी मुश्किल से जाने दिया काफिला।
रोड शो करते हुए नामांकन करने जा रहे थे चरणजीत सिंह रोडी। रोड शो करते हुए नामांकन करने जा रहे थे चरणजीत सिंह रोडी।
X
सड़क पर बीच में ट्रैक्टर लगाकर जाम लगाए खड़े किसान।सड़क पर बीच में ट्रैक्टर लगाकर जाम लगाए खड़े किसान।
अभय सिंह चौटाला किसानों से मिन्नत करते हुए।अभय सिंह चौटाला किसानों से मिन्नत करते हुए।
किसानों ने बड़ी मुश्किल से जाने दिया काफिला।किसानों ने बड़ी मुश्किल से जाने दिया काफिला।
रोड शो करते हुए नामांकन करने जा रहे थे चरणजीत सिंह रोडी।रोड शो करते हुए नामांकन करने जा रहे थे चरणजीत सिंह रोडी।

  •  हैफेड द्वारा सरसो खरीद रोक दिए जाने से नाराज किसानों ने किया था डबवाली रोड जाम
  • चौटाला हाउस से 200 मीटर दूर ही गए थे अभय और चरणजीत रोडी, रास्ते में काफिले को रोका
     

Apr 22, 2019, 07:02 PM IST

सिरसा। इनेलो प्रत्याशी चरणजीत सिंह रोडी के नामांकन के दौरान एक नाटकीय घटनाक्रम हुआ। चौटाला हाउस से रोड शो करते हुए अभय चौटाला के साथ निकले चरणजीत सिंह रोडी का काफिला महज 200 मीटर दूर ही गया था कि किसानों ने उनका रास्ता रोक लिया। दरअसल किसान हैफेड द्वारा सरसो की सरकारी खरीद रोक दिए जाने के बाद प्रदर्शन कर रहे थे। अभय की कई मिन्नतों के बाद किसानों ने 20 मिनट बाद महज एक गाड़ी को जाने दिया। इसके बाद चरणजीत रोडी 2 बजे नामांकन कर पाए। 

कार्यकर्ताओं से किसानों की हुई बहस

दोपहर को अभय चौटाला अपने सिरसा उम्मीदवार चरणजीत सिंह रोडी को रोड शो करते हुए नामांकन करवाने के लिए लेकर निकले थे। उन्हें डबवाली रोड से जाना था। इसी दौरान डबवाली रोड पर हैफेड ने सरसो की सरकारी खरीद बंद कर दी, जिससे गुस्साए किसानों ने प्रदर्शन करते हुए डबवाली रोड पर जाम लगा दिया।
 

तभी चरणजीत रोडी का काफिला वहां पहुंच गया। अभय चौटाला ने वहां से काफिले को निकलने देने की रिक्वेस्ट की लेकिन किसान नहीं माने। उन्होंने कहा कि आपको किसानों के साथ बैठना चाहिए और उनकी धरने का समर्थन करना चाहिए। अभय चौटाला ने कहा कि उन्हें नामांकन करने के लिए जाना है, इसलिए काफिले को जाने दे।

किसानों ने उनकी बात नहीं मानी। अभय चौटाला ने कई बार रिक्वेस्ट की तो किसानों ने अभय चौटाला और चरणजीत सिंह रोडी वाली एक गाड़ी को जाने दिया। बाकी समर्थकों की गाड़ी वहीं रोक दी गई। इससे समर्थकों और किसानों के बीच बहस हो गई।

काफी देर बहस होने के बाद काफिले की दूसरी गाड़ियों को जाने दिया गया। बहस के दौरान साहुवाला प्रथम के किसानों ने इनेलो समर्थकों को कहा कि चुनाव हैं, उनके गांव में भी वोट मांगने आओगे, हम तब देखेंगे, जो आप किसानों की अनदेखी कर रहे हो। इसके बाद चरणजीत सिंह रोडी ने नामांकन किया।

धरने की सूचना प्रशासन को मिली तो डीएफएससी मौके पर पहुंचे और उन्होंने एफसीआई की तरफ से सरसो की खरीद शुरू करवाई। इसके बाद किसानों ने धरना समाप्त किया।
 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना