पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नशे में प्रयोग होने वाली 25 हजार टेबलेट के साथ गिरफ्तार केमिस्ट को 10 साल का कारावास

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हिसार/हांसी | एडीएसजे रेणु राण की अदालत ने नशे में प्रयोग होने वाली 25 हजार टेबलेट रखने के मामले में दोषी करार केमिस्ट पटेल नगर वासी वेद प्रकाश उर्फ विजय को 10 साल कैद, एक लाख रुपये जुर्माना भरने की सजा सुनाई है। यह राशि नहीं भरने पर छह माह की अतिरिक्त सजा काटनी होगी। अदालत में चले अभियोग के अनुसार 11 अप्रैल 2017 को सिटी हांसी थाना में एएसआई कर्मबीर की शिकायत पर मादक पदार्थ अधिनियम के तहत केस दर्ज हुआ था। शिकायत के अनुसार हांसी बस स्टैंड के पास पटेल नगर वासी वेदप्रकाश उर्फ विजय का भगवती मेडिकल स्टोर था। पुलिस को सूचना मिली थी कि वह अपनी दुकान पर बाहर से नशीली दवाई लाकर बेचता है। ऐसे में पुलिस टीम का गठन करके मेडिकल स्टोर पर छापा मार दिया था। तब वेद प्रकाश गत्ते का डिब्बा उठाकर जाता दिख रहा था। उसने पुलिस टीम को देखकर डिब्बा वहीं छोड़ दिया और भागने लगा।

टीम ने दौड़कर उसे काबू कर लिया था। जब डिब्बा खोलकर देखा तो उसमें नशे में प्रयोग होने वाली दवाइयों के पैकेट मिले। उनकी 25 हजार टेबलेट थीं। इस मामले की सूचना ड्रग कंट्रोलर को देकर बुला लिया था। उन्होंने बताया कि इतनी तादाद में बिना बिल व रिकॉर्ड के टेबलेट रखना मादक पदार्थ अधिनियम के तहत जुर्म हैं। डिब्बे में एल्को-आई एल्पराजोलम टेबलेट थीं। आरोपी के खिलाफ पुलिस ने मादक पदार्थ अधिनियम के तहत केस दर्ज करके गिरफ्तार कर लिया था। इसे बीते बुधवार को अदालत ने दोषी मानते हुए शनिवार को सजा सुनाई है।
खबरें और भी हैं...