एंटी रैबीज वैक्सीन का स्टॉक खत्म, मेडिकल स्टोर पर भी उपलब्ध नहीं

Hisar News - कुत्तों और बंदरों के काटने से होने वाले रैबीज इंफेक्शन से बचाने वाली एंटी रैबीज वैक्सीन सरकारी अस्पतालों में...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:45 AM IST
Hisar News - haryana news anti rabies vaccine stock finish not available at medical stores
कुत्तों और बंदरों के काटने से होने वाले रैबीज इंफेक्शन से बचाने वाली एंटी रैबीज वैक्सीन सरकारी अस्पतालों में खत्म होने के बाद अब मेडिकल स्टोर और ड्रग एजेंसियों पर भी आसानी से उपलब्ध नहीं हो रही है। अगर किसी के पास है तो ब्लैक में बेचकर 50 या 100 रुपये ज्यादा वसूल रहे हैं। हिसार ही नहीं बल्कि प्रदेश भर में यही हालात बने हुए हैं, जिससे पीड़ितों को ज्यादा परेशानी उठानी पड़ रही है। इसका अंदाजा पटेल नगर वासी विनोद की वैक्सीन की खोज को लेकर हुई भागदौड़ से लगा सकते हैं। मानसिक परेशानी के साथ ब्लैक मार्केटिंग का शिकार भी होना पड़ा है। विनोद ने बताया कि उसके पुत्र को कुत्ते ने काट लिया। ऐसे में सिविल अस्पताल में इंजेक्शन लगवाने पहुंचे तो पता चला कि खत्म हो चुके हैं। मेडिकल स्टोर्स पर जाकर पूछा तो मना कर दिया। इसके बाद ड्रग एजेंसियों के पास गया तो उन्होंने भी कहा कि कंपनी से माल ही नहीं आ रहा है। शहर के तमाम मेडिकल स्टोर्स व ड्रग एजेंसियों पर वैक्सीन नहीं मिली तो अपने परिचितों से संपर्क करना शुरू किया। देर शाम को अग्रोहा के एक मेडिकल स्टोर में वैक्सीन मिली लेकिन उसके लिए 50 रुपये अतिरिक्त चुकाने पड़े। विनोद ही नहीं इस दिक्कत का सामना रोजाना करीब 200 पीड़ितों को करना पड़ रहा है। जिला स्वास्थ्य विभाग वैक्सीन की उपलब्धता के लिए लगातार हेडक्वार्टर रिमाइंडर भेज रहा है। पर, जब दवा कंपनियां ही माल सप्लाई नहीं करेंगी तो अस्पतालों में कैसे पहुंचेंगी।

एक साल से सप्लाई में कमी, ब्लैक मार्केटिंग बढ़ी

दवा कंपनियों ने करीब एक साल से पहले ही वैक्सीन की सप्लाई में कटौती करनी शुरू कर दी थी, जोकि पिछले एक-दो माह से बंद है। यह बात केमिस्ट्स और ड्रग एजेंसी संचालक जानते थे, जिसके चलते उन्होंने वैक्सीन को स्टोर करना शुरू कर दिया था। डिमांड बढ़ते ही कुछ केमिस्ट्स ने वैक्सीन की ब्लैक मार्केटिंग करनी शुरू कर दी। जो एंटी रैबीज वैक्सीन 250 या 300 रुपये में बेचा करते थे, वह अब 300 या 350 रुपये में बेच रहें। फिलहाल वैक्सीन का संकट गहरा गया है। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग भी मामले में शांत है।

सिविल अस्पताल में रोजाना चाहिए 150 वैक्सीन

सिविल अस्पताल में कुत्तों के काटने पर रोजाना 80 के करीब केस आते हैं। कभी-कभार यह संख्या बढ़कर 120 से 150 तक पहुंच जाती है। ऐसे में फिलहाल 150 वैक्सीन रोजाना चाहिए। अस्पताल में सामान्य वर्ग से 100 रुपये और गरीब एवं एससी वर्ग को निशुल्क एंटी रैबीज वैक्सीन लगाई जाती है। हर माह 1500 वैक्सीन की जरूरत पड़ती है। अगर जिले के अन्य हेल्थ सेंटर्स में वैक्सीन खत्म हो जाती है तो उक्त वैक्सीनेशन की खपत बढ़कर 2500 तक पहुंच जाती है।

X
Hisar News - haryana news anti rabies vaccine stock finish not available at medical stores
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना