पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यूनिवर्सिटी गेट पर हाथ धुलवा सेनिटाइज किए जा रहे कर्मचारी

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस से बचाव के लिए हर घर हर गली में पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। शहरवासियों को हरियाणा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी व गुरु जंभेश्वर विज्ञान एंव प्रौद्योगिकी विवि में भी बाहरी लोगों के आने जाने पर रोक लगा दी है। जिसके चलते सिक्योरिटी द्वारा कई कर्मचारियों को भी एंट्री नहीं दी
जा रही।

कुलपति टंकेश्वर कुमार ने कहा कि सिक्योरिटी अभी केवल विवि द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन कर रही है। उन्हें यह क्लियर किया जाएगा कि वे विवि में अन्य संस्थान में कार्य करने वाले कर्मचारियों को भी सुरक्षा के साथ अंदर आने की अनुमति दे। वहीं उन्होंने कहा कि लोग अन्य पोस्ट अॉफिस में जाकर अपना कार्य करें व विवि के प्रशासन का सहयोग करें।

जीजेयू में पोस्ट अॉफिस के कर्मचारियों को भी नहीं मिल पा रही एंट्री


जीजेयू के मेन गेट पर ही सभी कर्मचारियों व अन्य लोगों को रोका जा रहा है। गेट पर पानी से हाथ धोने के बाद सेनिटाइजर से साफ करवाया जा रहा है। किसी भी शहरवासी व बाहरी व्यक्ति को प्रवेश नहीं दिया जा रहा। शनिवार को हालात ये भी रहे कि विवि में पोस्ट ऑफिस में काम कर रहे कर्मचारियों को भी अंदर जाने की परमिशन नहीं दी गई। पोस्ट अॉफिस में सभी क्लाइंट्स के अकाउंट में राशि जमा करने गए एजेंट पंकज गुप्ता ने बताया कि उन्हें गेट पर ही रोक लिया गया व पोस्ट अॉफिस के हेड अॉफिसर से बात करवाने के बाद भी उन्हें अंदर नहीं जाने दिया, जिसके कारण वे कैश जमा नहीं करवा पाए व उन्हें पैनल्टी भुगतनी पड़ेगी।


हेल्थ सेंटरों की मदद के लिए गेस्ट हाउस के 23 कमरों को आइसोलेशन वार्ड बनाने की तैयारी

एचएयू व जीजेयू के गेस्ट हाउस में कोरोना के मरीजों के लिए होम क्वारेंटाइन बनाया गया है। फिलहाल दोनो गेस्ट हाउस पर ताला लगा है। जीजेयू के कुलपति प्रो. टंकेश्वर कुमार ने बताया कि गेस्ट हाउस में कुल 23 कमरे हैं जिन्हें आइसोलेशन के लिए तैयार किया गया है। सिविल अस्पताल व विवि के हेल्थ सेंटर के डॉक्टर्स की मदद से इसे तैयार किया है। अभी तक इससे संबंधित कोई भी व्यक्ति नहीं आया है।
खबरें और भी हैं...