• Hindi News
  • Haryana
  • Hisar
  • Hisar News haryana news lord krishna has forgiven 100 mistakes of shishupala can we not forgive even a single mistake

शिशुपाल की 100 भूलों को भगवान श्रीकृष्ण ने माफ किया तो क्या हम एक भी भूल को माफ नहीं कर सकते

Hisar News - तीनों लोकों में सबसे बड़ा महादान है क्षमादान। अापकाे सुखी जीवन चाहिए तो हर उस व्यक्ति से क्षमा मांग लो जो यह समझता...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 07:53 AM IST
Hisar News - haryana news lord krishna has forgiven 100 mistakes of shishupala can we not forgive even a single mistake
तीनों लोकों में सबसे बड़ा महादान है क्षमादान। अापकाे सुखी जीवन चाहिए तो हर उस व्यक्ति से क्षमा मांग लो जो यह समझता है कि आप उसके अपराधी हैं। चाहे आपने कोई अपराध न किया हो और हर उस व्यक्ति को क्षमा कर दो जो आपका अपराधी है। ये उद्गार प्रजापिता ब्रह्माकुमारीज ईश्वरीय विश्वविद्यालय के मुख्यालय माउंट आबू से पधारे डॉ. ब्रह्मकुमार सूरज भाई ने व्यक्त किए। वह बालसमंद रोड स्थित पीस पैलेस में आयोजित कार्यक्रम के दूसरे दिन श्रोताओं काे संबाेधित कर रहे थे। शास्त्रों के अनुसार जब भगवान श्रीकृष्ण शिशुपाल की 100 भूलों को माफ कर सकते हैं तो क्या आप अपने चाहने वालों व अपने आस-पास रहने वालों की एक भूल को माफ नहीं कर सकते। विज्ञान का नियम है कि क्रिया की प्रतिक्रिया जरूर होती है। जैसा आप करेंगे आपको भी वैसा ही मिलेगा। कहते हैं न कि जैसा बीज बोएंगे वैसा ही फल मिलेगा।

माउंट आबू से पधारी बीके गीता बहन ने कहा कि सुख-दुख हमारे कर्मों की वजह से होता है। बचाव करो टकराव नहीं। हर एक को नोंक-झोंक से, तेरी-मेरी से बचना चाहिए। यदि कभी भी किसी से कहासुनी या टकराव की स्थिति बन जाए और सामने वाला गलत भी हो तो भी आप उसे सही साबित करके निकल लें तो आप स्वयं देखेंगे कि उसे स्वयं ही अहसास होगा कि वह गलत था। इस मौके पर डॉ. बीबी बांगा, एडवोकेट रीटा नागपाल, पीएनबी के मैनेजर कुकड़ेजा, डॉ. रमेश जिंदल, सतपाल कासनियां डीएसपी जेल, डॉ. राजेंद्र शर्मा अादि माैजूद रहे।

ईश्वर का उपासक कभी भी विचलित नहीं होता: साेमदेव शास्त्री

भास्कर न्यूज| हिसार

ईश्वर की उपासना का फल है कि पर्वत जैसी विपत्ति भी आ जाए तो ईश्वर का उपासक विचलित नहीं होता। आज हर प्रकार से सम्पन्न व्यक्ति भी आत्महत्या कर रहा है, उसका कारण है ईश्वर भक्ति से दूर होना। यह बात अाचार्य साेमदेव शास्त्री ने कही।

वह माॅडल टाउन आर्य समाज में हवन यज्ञ के बाद श्रद्धालुओं काे संबंधित कर रहे थे। माॅडल टाउन में वार्षिकोत्सव के तीसरे दिन की शुरुआत हवन से हुई। अरविंद बंसल, मनोज माहेश्वरी, आशीष गोयल व संदीप जैन सप|ीक यजमान के रूप में उपस्थित हुए। शास्त्री ने कहा कि संध्या का अर्थ है संधि बेला में अच्छे प्रकार से ईश्वर का ध्यान करना। भजनोपदेशक पं. नरेश दत्त आर्य ने सुंदर भजन सुनाए। मंच संचालन करते हुए आचार्य सूर्यदेव वेदांशु ने सारी दुनिया झुकती उस इंसान के आगे, जिस आदमी का सिर झुके भगवान के आगे भजन सुनाया। भजन गायिका कल्याणी आर्या ने भी भजन से अपना कार्यक्रम शुरू किया। इस अवसर पर स्वामी सुचेतनानंद, स्वामी ब्रह्मानंद, जगदीश प्रसाद आर्य, पं. रामजीलाल, गंगादत अहलावत, पवन रावलवासिया, ओमसिंह लाम्बा, वीरेन्द्र आर्य, रामपाल, मदन वासुदेवा, आचार्य राजमल, चौ. दलबीर, ओमप्रकाश, निर्मला देवी, संतोश आर्या, सिम्मी काठपाल, सविता वेदांशु अादि माैजूद थे।

अार्य समाज के कार्यक्रम में उपस्थित शहर के गणमान्य लाेग।

X
Hisar News - haryana news lord krishna has forgiven 100 mistakes of shishupala can we not forgive even a single mistake
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना