पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अब खाली वक्त है आपके पास तो करें गर्मी के फूलों की पौध तैयार

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना को हराना है....

सिटी रिपोर्टर } कोरोना इफेक्ट की वजह से स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटीज बंद हैं। वहीं आईटी कम्पनीज ने वर्क फ्रॉम होम के ऑर्डर दिए हैं। ऐसे में लोगों के पास घर में बिताने के लिए काफी वक्त है। इस खाली वक्त का इस्तेमाल आप घर में रंग-बिरंगे फूलों की पौध तैयार करने में कर सकते हैं।

वैसे तो गर्मी के मौसम में कड़क धूप की वजह से फूल वाले पौधों को बचाना सबसे मुश्किल हो जाता है। फ्लोरा नर्सरी के ऑनर हार्टिकल्चरिस्ट डॉ. विवेक कुमार ने बताया कि 20 फरवरी से 30 मार्च तक का समय गर्मी की पौध तैयार करने का परफेक्ट समय है।

गर्मियों में लगा सकते ये खास पौधे

गर्मियों में गार्डन की सुंदरता बढ़ाने के लिए आप लिसियेंथेस, जीनिया, गमफेरेना, कॉसमस, कलेडिया गेलार्डिया, कोचिया, नौरंग, पोरचुलाका, स्नेक प्लांट, मनी प्लांट, ऐलोवेरा, बालसम और सनफ्लावर पौधों को उगा सकती है।

बीज संग्रह का भी सटीक समय

इस मौसम में जहां एक तरफ गर्मी के फूलों की पौध तैयार करने का है, वहीं सर्दियों के विभिन्न पौधों के बीज संग्रहण का भी। सर्दियों के सभी पौधों में बीज आने शुरू हो गए हैं। इन्हें आप अगले वर्ष के लिए सहेज सकती हैं। गुलाब और गुलदाउदी के पौधों की कटिंग करने का भी यही मौसम है।

थोड़ा धैर्य रखें बार-बार पौधे को हिलाकर डिस्टर्ब न करें और पौधे ऐसे चुनें जो तपिश को सहन कर सके


गर्मी के मौसम में ज्यादा नाजुक पौधे नहीं चल पाते हैं इसलिए इस मौसम के लिए ऐसे पौधे चाहिए जो गर्म हवा और मौसम की तपिश को सहन कर सकें। गर्मी के लिए पौध तैयार करने का यही सही सीजन है। पौध तैयार करते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना रखें। बीज के साइज के अनुरूप ही गड्ढा हो और उसकी आवश्यकता के हिसाब से उसमें मिट्टी डाली जाए। वहीं अगर गमले में पौधे लगा रहे हैं तो थोड़ा धैर्य रखें बार-बार पौधे को हाथ लगाकर डिस्टर्ब न करें।

{उत्तम सजावट: जब फूल के पौधे 45 दिन से अधिक पुराने हो जाये, तो पौधे के आसपास मिट्टी में मुट्ठी भर वर्मीकम्पोस्ट मिलाएं।

{बुआई : इसके 35-50 दिनों के बाद खूबसूरत फूल आना शुरू हो जाएंगे और घर की खूबसूरती भी बढ़ेगी।

{खाद डालना: बीज बोने से पहले 2:1 अनुपात के साथ मिट्टी में अच्छी गुणवत्ता वाली जैविक खाद डालें। जैविक खाद अच्छी तरह से सड़ी हुई गोबर की खाद, खेत की खाद, या वर्मीकम्पोस्ट हो सकती है।

{पानी देने की तकनीक: गर्मियों में हर दिन फूल के पौधे को पानी दें, प्लांट को पानी देते समय यह सुनिश्चित कर ले की पानी प्लांट के ऊपर बौछार के रूप में करना है न की तेज धार के रूप में।

{सूरज की रोशनी: गर्मियों के इन पौधों को धूप में ही रखा जाना चाहिए।

{पत्तों की देखभाल: किसी भी कीट/फंगल/किसी अन्य संक्रमण के शुरुआती लक्षणों की तलाश करें। ऐसे लक्षण दिखते ही उचित दवाओं का छिड़काव करें।
खबरें और भी हैं...