खराब रिजल्ट की जिम्मेदार सरकार की नीतियां : हसला

Hisar News - हरियाणा स्कूल लेक्चरर एसोसिएशन (हसला) ने सरकार से आग्रह किया है कि ब्यूरोक्रेट्स एवं शिक्षा विभाग के आला...

Feb 15, 2020, 07:46 AM IST

हरियाणा स्कूल लेक्चरर एसोसिएशन (हसला) ने सरकार से आग्रह किया है कि ब्यूरोक्रेट्स एवं शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों का व्यवहार शिक्षकों के प्रति शालीन, गरिमापूर्ण एवं दोस्ताना सुनिश्चित करवाए।

हसला के प्रदेश उपाध्यक्ष भगवान दत्त ने बताया कि हसला राज्य कार्यकारिणी की मीटिंग राज्य प्रधान दयानंद दलाल की अध्यक्षता में भिवानी में हुई। दत्त ने बताया कि 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड कक्षाओं के परिणाम को लेकर अधिकारी बार-बार आदेश दे रहे हैं कि 70 फीसदी रिजल्ट आना चाहिए वरना प्राध्यापक भुगतेंगे। फरमान जारी किए जा रहे हैं कि लो परफॉर्मिंग शिक्षकों की एपीआर व इंक्रीमेंट आदि पर बुरा प्रभाव पड़ेगा । बार-बार शिक्षकों को रिजल्ट के नाम पर डराया और धमकाया जा रहा है। जबकि सत्य यह है कि बोर्ड रिजल्ट के लिए प्राध्यापक वर्ग जिम्मेवार नहीं है। पहली से आठवीं तक फेल न करने की नीति के चलते ही सरकारी स्कूलों में पढ़ाई का स्तर गिरा है। नौवीं कक्षा में जब विद्यार्थी प्रवेश लेता है तो तीन चौथाई विद्यार्थियों का लर्निंग लेवल तीसरी-चौथी कक्षा के समकक्ष ही होता है। ऐसे में बोर्ड के रिजल्ट के लिए केवल सरकार की नीतियां ही जिम्मेदार हैं। इसलिए मीटिंग में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया कि यदि कोई अधिकारी अनावश्यक किसी भी प्राध्यापक से अशोभनीय भाषा में आदेश देता है या किसी भी प्रकार से शारीरिक व मानसिक प्रताड़ित करने की कोशिश करता है तो पूरा प्राध्यापक वर्ग अन्य शिक्षक संगठनों से तालमेल करके आंदोलन करेगा एवं इसका मुंह तोड़ जवाब देगा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना