पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजली कर्मचारी को लगा करंट विरोध में यूनियन ने खोला मोर्चा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हांसी | बिजली निगम के कर्मचारी बिजेंद्र को करंट लगने के मामले में यूनियन ने अधिकारियों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। यूनियन का कहना है कि बिजेंद्र का तबादला एक्सईएन के दबाव में आकर एसडीओ की तरफ से किया गया। उसे अकेला छोड़ दिया गया, जिसके चलते वह हादसे का शिकार हो गया। करंट से झुलसे कर्मचारी का हिसार के प्राइवेट अस्पताल में उपचार चल रहा है। मामले में एसएसईबी यूनियन के सर्कल स्तर पर पदाधिकारियों की मीटिंग का आयोजन किया गया। इसमें हांसी, हिसार के पदाधिकारियों ने शिरकत की। मीटिंग में महजद में हुई दुर्घटना में एक्सईएन और एसडीओ की भूमिका की चर्चा करके निंदा की गई। मीटिंग में यूनियन के सर्कल सचिव विनोद दुहन ने बताया कि शुक्रवार शाम को सहायक लाइनमैन बिजेंद्र का एक्सीडेंट एसडीओ के तबादला करने की वजह से हुआ। दुहन ने कहा कि शिकायत केंद्र महजद में यह कर्मचारी अकेला रह गया और दुर्घटना का शिकार हो गया। नियमानुसार किसी बिजली कर्मचारी को अकेला नहीं छोड़ा जाता है। यूनियन के प्रतिनिधिमंडल ने एसई से मिलकर दोनों अधिकारियों को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड करने व दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाकर निष्पक्ष जांच की मांग की। यूनियन ने कहा कि अगर समय रहते दी गई मांग पर कार्रवाई नहीं की गई तो आंदोलन करने पर बाध्य होगी।
खबरें और भी हैं...