घर के अखाड़े में जीत का दांव

Hisar News - काेराेना के चलते स्टेडियम और बाहरी मैदानाें में प्रैक्टिस पर राेक लगा दी है। मगर देश की झाेली में मेडल दिलाने के...

Mar 27, 2020, 07:42 AM IST
Hisar News - haryana news winning bet in the arena

काेराेना के चलते स्टेडियम और बाहरी मैदानाें में प्रैक्टिस पर राेक लगा दी है। मगर देश की झाेली में मेडल दिलाने के लिए ओलिंपिक से लेकर नेशनल स्तर पर मेडल हासिल करने वाले कुश्ती, जूडाे और वुशू खिलाड़ियों ने घर पर ही अपने भाई, चाचा और अन्य काे गुरु बनाकर प्रैक्टिस शुरू कर दी है। काेच भी खिलाड़ियाें की आॅनलाइन फेसबुक, व्हाट्सएप से टिप्स दे रहे हैं। खिलाड़ियों का कहना है कि उनका लक्ष्य हर हाल में देश की झाेली में मेडल डालना है। भास्कर रिपोर्टर ने घर पर रहकर प्रैक्टिस करने वाले खिलाड़ियों के प्रैक्टिस करने के तरीकाें के बारे में जाना।

घर में चाचा के साथ प्रैक्टिस कर रहा सुमित

साेनीपत के नसीरपुर बांगड गांव का सुमित कुमार डेफ ओलिंपिक से लेकर नेशनल स्तर पर दस से अधिक मेडल जीत चुका है। वर्ष 2017 में तुर्की में हुए डेफ ओलिंपिक में 97 किग्रा भार वर्ग में ब्रांज मेडल जीता। हैदराबाद, रांची, केरला में हुई नेशनल चैंपियनशिप में गाेल्ड मेडल जीते। अब वह 1 जून से तुर्की में हाेने वाली अंतरराष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के लिए घर पर ही अपने चाचा संजय के साथ तैयारी कर रहा है। घर में ही उखाड़ा बनाया है।

भाई की मदद से वुशू की प्रैक्टिस कर रहा राेहताश

जगाण के राेहताश वुशू के नेशनल स्तरीय खिलाड़ी है। वर्ष 2018 में चंडीगढ़ में हुई अाॅल इंडिया यूनिवर्सिटी वुशू चैंपियनशिप में ब्रांज मेडल हासिल किया था। इसके अलावा पानीपत में हुई प्रदेश स्तरीय वुशू चैंपियनशिप में गाेल्ड मेडल हासिल किया था। राेहताश ने बताया कि स्टेडियम में प्रैक्टिस बंद हाेने के कारण वह भाई पवन के साथ घर पर ही तैयारी कर रहा है।

यू ट्यूब पर वीडियो से घर में ही सीख रहे जूडो के गुर

बडवाली ढाणी के सामाजिक कार्यकर्ता कृष्ण का बेटा हितेष सैनी जूडाे का नेशनल खिलाड़ी हैं। हितेष ने वर्ष 2019 में इटली में हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी हिस्सा लिया था। हितेश ने बताया कि उसकी प्रैक्टिस न छूटे, इसके लिए वह पिता का सहयाेग लेकर प्रैक्टिस कर रहा है। यहीं नहीं प्रैक्टिस के लिए यू ट्यूब पर अंतरराष्ट्रीय खिलाडिय़ों के वीडियाे देख टिप्स ले रहा है।

अखाड़े में प्रतिदिन बहाया जा रहा पसीना

उमरा के पहलवान राकेश कुमार ने अहमदाबाद, पटना में वर्ष 2018 और 2019 में हुई चैंपियनशिप में गाेल्ड मेडल जीता था। काेराेना के डर से प्रैक्टिस बंद हाेने बाद परिजनाें ने सहयाेग कर घर में ही अखाड़ा बनवाया। अब वह अपने बड़े भाई मीनू के साथ प्रतिदिन प्रैक्टिस कर रहा है। मीनू भी कुश्ती खिलाड़ी रहा है। यू ट्यूब पर वीडियो में भी खिलाड़ियों के दांव देख रहा है।

काेई भाई ताे काेई चाचा काे गुरु मानकर घर में कर रहे कुश्ती, वुशू, जूडाे की प्रैक्टिस, काेच आनॅलाइन दे रहे टिप्स

काेच ने भी मदद को बनाए व्हाट्सएप ग्रुप

बाॅलीवाल काेच अनूप कुमार कस्वा, कुश्ती काेच सुभाष कुमार मलिक ने बताया कि प्रैक्टिस बंद हाने के बाद खिलाड़ियों काे किसी तरह की परेशान न हाे, इसके लिए व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं जिसमें खिलाड़ियों और काेच काे जाेड़ा गया है। आनॅलाइन भी खिलाड़ियों काे टिप्स दिए जा रहे हैं।

साेनीपत में तैयारी करता खिलाड़ी सुमित कुमार।

X
Hisar News - haryana news winning bet in the arena

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना