पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भैरव अष्टमी पर मंत्रोच्चारण के साथ भगवान शिव का जलाभिषेक किया

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मोती बाजार स्थित श्री हनुमान मन्दिर में काल भैरव अष्टमी पर्व पर पूजा का आयोजन किया गया। काल भैरव अष्टमी के उपलक्ष्य में मंदिर के शिवालय में भगवान शंकर का चांदी कवच एवं पुष्पों द्वारा भव्य शृंगार किया गया। भगवान शंकर के साथ ही उनके काल भैरव अवतार की भी पूजा की गई। मंत्रोच्चारण के साथ भगवान शिव का जलाभिषेक किया गया। मंदिर के प्रधान रमेश कुमार लोहिया ने श्री हनुमान मन्दिर मूर्ति ट्रस्ट के ट्रस्टियों के साथ शिवालय एवं भैरव मंदिर में विशेष मंगल आरती करके प्रशाद वितरण किया।

श्री हनुमान मन्दिर मूर्ति ट्रस्ट मंदिर के पुजारी पं. राजेश शास्त्री ने बताया कि भगवान भैरव की महिमा कई शास्त्रों में मिलती है। भैरव भगवान शिव के गण के रूप में जाने जाते हैं। इस दिन भगवान शिव ने काल भैरव का अवतार लिया था। भगवान भैरव अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करके, उनके जीवन को अपने आशीर्वाद से खुशहाल बनाते हैं। भैरव उपासना जल्दी फल देने के साथ-साथ क्रूर ग्रहों के प्रभाव को भी शांत करती है। राहु-केतु के उपायों के लिए भी इनका पूजन लाभदायक है। भैरव कवच पाठ करने से असामयिक मृत्यु से बचा जा सकता है।

इस अवसर पर मंदिर के महासचिव सज्जन गुप्ता, महेन्द्र बंसल, अमित गुप्ता, अनिल जिंदल, हरीश चंद्र, श्याम स्वरूप मित्तल, सुभाष बंसल, श्याम बिहारी सिंगल, त्रिलोक नाथ अग्रवाल, परसराम, रोशनलाल गोयल, शामलाल, त्रिलोक चंद डालमिया, सुदेश सोनी, कैलाश अग्रवाल, संजीव शर्मा, सुभाष सोनी, इंद्रसेन, विनोद बंसल, ओपी गर्ग, सुरेन्द्र जैन, युगल चौधरी, पवन बंसल, वीरभान बंसल, विनोद गुप्ता, डा. सुभाष शर्मा उपस्थित रहे।

मोती बाजार के हनुमान मन्दिर में शिवालय व काल भैरव की आरती करते मंदिर ट्रस्ट के प्रधान रमेश कुमार लोहिया व अन्य।

खबरें और भी हैं...