मान-मनौव्वल / रोडवेज के 92 टर्मिनेट कर्मचारी होंगे बहाल, 1146 पर एस्मा कार्रवाई भी रद्द



प्रतीकात्मक प्रतीकात्मक
X
प्रतीकात्मकप्रतीकात्मक

  • रोडवेज की तालमेल कमेटी व परिवहन विभाग के अधिकारियों में बातचीत
  • किलोमीटर स्कीम, हड़ताल के दिनों को अवकाश में किया जाएगा मर्ज

Dainik Bhaskar

Sep 14, 2019, 06:55 AM IST

पानीपत. प्रदेश में लंबे समय से नाराज चल रहे रोडवेज कर्मचारियों को मनाने के लिए विभाग की ओर कई निर्णय लिए गए हैं। 18 दिन चली हड़ताल और इससे पहले हुए आंदोलन एस्मा के तहत 1146 कर्मचारियों की खिलाफ की गई कार्रवाई को रद्द कर दिया गया है। साथ ही हड़तालों के दौरान अनुपस्थित रहे कर्मचारियों को राहत देने देते हुए अवकाश में मर्ज करने का निर्णय लिया गया है, जिन 92 कर्मचारियों को टर्मिनेट किया गया, वह आदेश भी निरस्त किए जाएंगे। ये कर्मचारी जल्द ही बहाल होकर ड्यूटी पर लौटेंगे। हड़ताल के दौरान निलंबन, बर्खास्तगी व अन्य सभी कार्यवाही निरस्त की जाएगी। हालांकि परिवहन विभाग और कर्मचारी नेता किलोमीटर स्कीम पर अड़े हुए हैं। अधिकारियों ने यह स्कीम उनके अधिकार क्षेत्र से होने से इनकार करते हुए रद्द करने से मना कर दिया, जबकि कर्मचारियों ने स्पष्ट किया कि वे इसका लगातार विरोध करेंगे।

 

शुक्रवार को तालमेल कमेटी के साथ विभाग के एसीएस टीसी गुप्ता और निदेशक वीरेंद्र सिंह दहिया की चंडीगढ़ में लंबी मीटिंग चली। जिसमें अनेक मुद्दे उठे। हालांकि एसीएस टीसी गुप्ता ने कर्मचारी नेताओं की ओर से किलोमीटर स्कीम को रद्द करने की उठाई गई मांग पर स्पष्ट किया कि यह उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं है। यह निर्णय कैबिनेट ने लिया है। इसलिए वे कुछ नहीं कर सकते। जिस पर कमेटी सदस्यों ने कहा कि इस स्कीम को लेकर उनका विरोध लगातार जारी रहेगा। मीटिंग में निर्णय लिया गया कि 4 और 5 सितंबर-2018, 16 अक्टूबर से 2 नवंबर, 2018 और 8 व 9 जनवरी, 2019 की हड़ताल के दौरान हुई कार्यवाही को भी वापस लिया जा सकता है। मामला कोर्ट में है। इसलिए इसके लिए एडवोकेट जनरल को पत्र लिखा जाएगा। मीटिंग में कमेटी की ओर से वीरेंद्र सिंह धनखड़, अनूप सहरावत, इंद्रसिंह बधाना, दलबीर किरमारा, सरबत पूनिया, पहल सिंह तंवर, विजय अहलावत और आजाद गिल आदि मौजूद रहे। बता दें कि प्रदेश में पिछले साल 16 अक्टूबर से 2 नवंबर तक 18 दिन हड़ताल चलने से रोडवेज को करोड़ों रुपए का घाटा होने के साथ हर दिन 13 लाख लोग परेशान हो रहे थे।

 

रोडवेज कर्मियों को मिला प्रमोशन का आश्वासन
तालमेल कमेटी के सदस्य वीरेंद्र सिंह धनखड़ ने कहा कि विभागीय अधिकारियों ने उनकी कई मांगे मान ली है। जिसमें हड़ताल के दौरान की गई कार्यवाही वापस लेना सबसे महत्वपूर्ण है। इसके अलावा विभाग की ओरसे 55 हेड मैकेनिक को एसएसआई, 21 ड्राइवर को यार्ड मास्टर के पद पर प्रमोट किया जाएगा। इसके अलावा 400 उपनिरीक्षक से निरीक्षक के पद पर प्रमोट करने के लिए भी प्रकिया शुरू होगी। उन्होंने बताया कि विभागीय अधिकारियों ने 867 सरकारी बसें बेड़े में शामिल करने का भी आश्वासन दिया गया है। कमेटी के सदस्य सरबत पूनिया ने बताया कि जो मांगे नहीं मानी गई, उन्हें लेकर जल्द ही कमेटी मीटिंग कर रणनीति बनाएगी।
 

 

किलोमीटर स्कीम, पक्का करने समेत कई मांगों पर नहीं बन पाई सहमति
मीटिंग में कमेटी की ओर से रखी गई कई मांगों पर सहमति नहीं बनी है। इनमें किलोमीटर स्कीम रद्द करने के अलावा 1992 से 2003 के बीच लगे कर्मचारियों को नियुक्ति तिथी से पक्का करने, तकनीकी कर्मचारियों को तकनीकी वेतनमान देने, राजपत्रित अवकाश की कटौती बहाल करने की मांग शामिल है। बता दें कि इन मांगों को लेकर सरकार और कर्मचारियों के बीच कई बार बातचीत हो चुकी है, लेकिन सहमति नहीं बन पाई।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना