भास्कर खास / डीजीपी को कंपनी का अतिरिक्त चार्ज, 1972 में बनी कंपनी के पास फिलहाल काम नहीं



additional charge to DGP of company
X
additional charge to DGP of company

  • पहली बार आईपीएस बना कंपनी का मैनेजिंग डायरेक्टर
  • कंपनी के चार्ज का फायदा-दिल्ली में रजिस्टर्ड होने से मिल जाता है सरकारी मकान

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 07:06 AM IST

राजधानी हरियाणा (मनोज कुमार). प्रदेश के डीजीपी मनोज यादव अब एक कमरे के ऑफिस वाली सरकार की हरियाणा मिनरल्स लिमिटेड कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर का भी अतिरिक्त कार्यभार संभालेंगे। 


मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा की ओर से उनके अतिरिक्त कार्यभार दिए जाने के आदेश दिए हैं। सबसे खास बात यह है कि ऐसा पहली बार होगा, जब कोई आईपीएस इस कंपनी के एमडी का कार्यभार देखेगा। 1972 में बनी इस कंपनी में अब तक सीनियर आईएएस के पास ही चार्ज रहा है। डीजीपी से पहले इसका कार्यभार सीनियर आईएएस सुनील कुमार गुलाटी के पास चार्ज था।

 

हालांकि इस कंपनी का अभी कोई बड़ा काम नहीं है, लेकिन कागजों में चलाई जा रही है। इसके एमडी का चार्ज मिलने का एक ही फायदा है। कंपनी दिल्ली में रजिस्टर्ड होने से हरियाणा सरकार की ओर से एमडी को दिल्ली में भी सरकार मकान अलॉट हो जाता है। ऐसे में डीजीपी मनोज यादव को भी दिल्ली में सरकारी मकान मिल जाएगा। हालांकि डीजीपी मनोज यादव अभी पंचकूला में पुलिस लाइन में रह रहे हैं। सुनील गुलाटी ने पिछले साल अप्रैल में एमडी का अतिरिक्त चार्ज मिला था। 


कंपनी के पास नहीं कोई काम, सिर्फ श्रमिकों का केस कोर्ट में 
मिली जानकारी के अनुसार महेंद्रगढ़-रेवाड़ी जिले में पहले खानों से स्लेट निकाली जाती थी। जिनसे टाइल्स आदि बनती थी। इसके लिए ही हरियाणा सरकार की ओर से 1972 में यह कंपनी बनाई गई थी, लेकिन इसका काम 1989 तक लगभग बंद हो गया था। यह खनन कार्य भी अब नहीं चल रहा है। सूत्रों का कहना है कि कंपनी के पास कोई काम नहीं है। सिर्फ उस वक्त काम कर रहे 300 श्रमिकों का केस कोर्ट में चल रहा है। हालांकि कंपनी होने के कारण इसकी एनुअल जनरल मीटिंग आदि भी होती है।


दिल्ली-गुड़गांव में एक-एक कमरे में है ऑफिस, कुल तीन कर्मचारी 
हरियाणा मिनरल्स लिमिटेड कंपनी के ऑफिस की खुद की कोई बिल्डिंग नहीं है। यह कंपनी एचएसआईआईडीसी से जुड़ी हुई है। दिल्ली के बाबा खड़ग सिंह मार्ग पर एचएसआईआईडीसी के ऑफिस में इस कंपनी का एक कमरे का ऑफिस है। वहां कोई इसका स्टाफ नहीं है। हालांकि कंपनी का एक कमरे का आॅफिस गुड़गांव में है, जिसमें एक पीयन, एक डाटा एंट्री ऑपरेटर और एक क्लर्क है। इसके अलावा कंपनी के कर्मचारियों का केस कोर्ट में चल रहा है। हालांकि इस मामले में सुनवाई चल रही है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना