विधानसभा चुनाव / भाजपा से गठबंधन में देरी पर अकाली दल ने 30 सीटों पर तैयार किया पैनल



कुरुक्षेत्र में सोमवार को हुई मीटिंग में पंजाब के साथ लगते जिलों से आए टिकट के आवेदक। साथ लाए समर्थकों का हुजूम। कुरुक्षेत्र में सोमवार को हुई मीटिंग में पंजाब के साथ लगते जिलों से आए टिकट के आवेदक। साथ लाए समर्थकों का हुजूम।
X
कुरुक्षेत्र में सोमवार को हुई मीटिंग में पंजाब के साथ लगते जिलों से आए टिकट के आवेदक। साथ लाए समर्थकों का हुजूम।कुरुक्षेत्र में सोमवार को हुई मीटिंग में पंजाब के साथ लगते जिलों से आए टिकट के आवेदक। साथ लाए समर्थकों का हुजूम।

  • भाजपा की ओर से कोई निर्णय न लिए जाने पर शिरोमणि अकाली दल ने दबाव बनाना शुरू कर दिया है
  • अकाली नेताओं का दावा उसी वक्त यह तय हुआ था कि विधानसभा मिलकर लड़ा जाएगा

Dainik Bhaskar

Sep 24, 2019, 07:11 AM IST

कुरुक्षेत्र. गठबंधन को लेकर भाजपा की ओर से कोई निर्णय न लिए जाने पर शिरोमणि अकाली दल ने दबाव बनाना शुरू कर दिया है। लोकसभा चुनाव से पहले नरवाना में अकाली नेताओं के साथ मुख्यमंत्री मनोहर लाल की मीटिंग हुई थी, जिसके बाद ही अकाली दल की ओर से सहयोग करने की घोषणा हुई थी।

 

अकाली नेताओं का दावा है कि उसी वक्त यह तय हुआ था कि विधानसभा मिलकर लड़ा जाएगा। अकाली दल ने बैठक कर प्रत्याशियों की सूची बनाने की बात कहकर भाजपा को हल्की चेतावनी दी थी और सोमवार को हरियाणा की तीस सीटों पर प्रत्याशियों की स्क्रिनिंग पूरी कर दी है। अकाली नेता प्रदेश भाजपा की बजाए सीधे केंद्रीय नेतृत्व से बातचीत कर रहा है।

 

नेता गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा के संपर्क में है। दिन भर केंद्रीय नेतृत्व की ओर से अकाली को दो सीटें दिए जाने की चर्चाओं के बीच अकाली नेताओं की कुरुक्षेत्र में दिन भर मीटिंग चलती रही। अकाली दल दो-तीन दिन में भाजपा की ओर से कोई संकते न मिलने पर अकेले चुनाव लड़ने का एलान कर सकता है। जिसके अनुसार वह कम से कम तीस सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगा। पार्टी के पास जिन तीस विधानसभा सीटों से आवेदन आए हैं, वे सीटें यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, अम्बाला, फतेहाबाद, सिरसा और कैथल से हैं। यानि पंजाब से जड़े जिलों में पार्टी का कुछ वोट बैंक है। 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना