पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गृहमंत्री से सीएम ने रात में वापस लिया सीआईडी विभाग, विज बोले- मुझे ब्रीफिंग शुरू, डिपार्टमेंट किसी के पास बना रहे

7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि मैं फैसले से संतुष्ट हूं।
  • गृह मंत्री अनिल विज और सीएम मनोहर लाल खट्टर के बीच सीआईडी को लेकर चल रही थी कंट्रोवर्सी
  • विवाद बढ़ने पर विज ने कहा था- सीआईडी तो गृह विभाग के आंख और कान
Advertisement
Advertisement

1) सुबह सीआईडी एसपी ने अंबाला पहुंचकर विज को ब्रीफिंग की थी

सुबह ही सीआईडी एसपी ने अंबाला पहुंचकर विज को ब्रीफिंग भी की थी। दोपहर बाद विज के महकमे नगर निकाय से मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी उमाशंकर से प्रधान सचिव का चार्ज भी वापस ले लिया गया था। ऐसे में दिन भर यही माना जा रहा था कि हाईकमान के सामने विज की ओर से अपना पक्ष रखने के बाद उनकी सुनी गई लेकिन देर रात अचानक जिस सीआईडी को विज होम डिपार्टमेंट के अधीन बता रहे थे, वह मुख्यमंत्री के पोर्टफोलियो में शामिल गया। दोपहर बाद विधानसभा में चल रहा विधायकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम खत्म हुआ। बताया गया है कि इसके बाद मुख्यमंत्री दिल्ली के लिए रवाना हो गए थे। वे तीन दिन से दिल्ली जा रहे हैं। इसके बाद रात सीआईडी को लेकर राज्यपाल ऑफिस की ओर से आदेश जारी हो गए।

ऐसे में अब चर्चा है कि सरकार में विवाद और बढ़ना तय है। क्योंकि गृह मंत्री पहले ही कह चुके हैं कि सीआईडी के बिना पुलिस डिपार्टमेंट बिना कान, नाक और आंख वाले इंसान की तरह है। ऐसे में अब विज के अगले कदम पर सभी की नजर रहेगी। सूत्रों का कहना है कि दो दिन पहले ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा से मुख्यमंत्री और गृह मंत्री ने मुलाकात की थी। उसके 36 घंटे बाद ही एक्शन दिखने लगा जबकि पहले सीआईडी अफसर ने विज को ब्रीफ्रिंग की और शाम को जैसा वह चाह रहे थे, उसके अनुसार वी उमाशंकर को उनके विभाग से हटाया। उनके स्वास्थ्य विभाग में एनएचएम में निदेशक भी लगाया गया था।

गृहमंत्री अनिल विज और सीएम मनोहर लाल के बीच करीब डेढ़ माह से चला आ रहे विवाद की शुरुआत सीएमओ के दो अफसरों को विज के विभागों में लगाए जाने से हुई थी। सरकार ने सीएम के प्रिंसिपल सेक्रेटरी राजेश कुमार खुल्लर को गृह विभाग में अतिरिक्त मुख्य सचिव और सीएम के एडिशनल प्रिंसिपल सेक्रेटरी वी. उमाशंकर को नगर निकाय में प्रधान सचिव का कार्यभार दिया था। ऐसे में ये अफसर विज के विभागों को कम समय दे पा रहे थे। साथ ही विज से मिलना-जुलना भी कम था। 

सीएमओ के अफसरों को अपने महकमे में लगाए जाने से विज नाराज हुए और यहीं से विवाद शुरू हुआ। सूत्रों कहना है कि इस मामले को विज ने हाईकमान के सामने रखा था। इसके बाद खुल्लर को तो गृह विभाग से पहले ही हटा दिया, लेकिन वी. उमाशंकर नगर निकाय विभाग में बने हुए थे। सूत्रों के अनुसार, सोमवार रात पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा से मुलाकात के दौरान विज ने यह मामला रखा था। साथ ही सीआईडी की ब्रीफिंग न मिलने व उनके अन्य विभागों में अफसरों की तैनाती न होने की बात भी रखी थी।

इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि उनके महकमों में अफसरों की तैनाती सीएमओ की ओर से रोकी हुई है। अब 36 घंटे बाद ही इसका असर दिखा। बुधवार को राज्य सरकार ने वी. उमाशंकर को नगर निकाय विभाग से हटा दिया। जबकि इससे पहले सीआईडी के एसपी ने भी अम्बाला में विज के आवास पर जाकर ब्रीफिंग की। इससे देर शाम तक विज के तेवर भी नरम हो गए  थे। सूत्रों का कहना है कि विज ने सीआईडी अफसर से यह भी कहा है कि यदि वे चंडीगढ़ आते हैं तो उन्हें वहां भी ब्रीफिंग की जा सकती है। अम्बाला रोज पहुंचने की जरूरत भी नहीं है।

सीएम की अतिरिक्त प्रधान सचिव अशिमा बराड़ ने 28 दिसंबर को सीएम का आदेश बता 9 आईपीएस अफसरों के तबादले की लिस्ट तत्कालीन एसीएस होम आरके खुल्लर को भेजी। इसकी कॉपी गृह मंत्री विज को भी ईमेल की गई थी। विज ने लिखा कि किस आईपीएस को कहां लगाना है, इसका फैसला मैं करूंगा। मैं विभाग का मंत्री हूं। लेकिन खुल्लर ने विज से बिना चर्चा किए 9 आईपीएस के तबादले की लिस्ट जारी कर दी। लिस्ट जारी करने के कुछ देर बाद ही खुल्लर को एसीएस होम के पद से हटा दिया गया। विज ने सीएम को 9 आईपीएस के तबादलों की लिस्ट रद्द करने को लिखा, लेकिन यह वापस नहीं हुई।

इससे पहले विज ने 11 दिसंबर को सीआईडी चीफ से चुनाव में किए गए विश्लेषण की रिपोर्ट मांगी। 25 को रिमांइडर भेजा, लेकिन रिपोर्ट नहीं मिली। 30 दिसंबर को उन्होंने सूचना न देने की वजह जानने के लिए सीआईडी चीफ से स्पष्टीकरण मांगा। इसी दिन उन्होंने गृह मंत्री को एक रिपोर्ट भेजी, जिससे वे संतुष्ट नहीं हुए। बाद में सीआईडी चीफ ने जवाब दिया कि चुनाव को लेकर कोई विश्लेषण नहीं किया। इससे विज संतुष्ट हाे गए, लेकिन ब्रीफिंग न करने पर उन्होंने पिछले सप्ताह ही एसीएस होम को आदेश दिए कि सीआईडी चीफ को चार्जशीट कर बदला जाए।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement