करनाल / सीएम ने कहा- मैंने प्रदेश की राजनीतिक परंपरा को बदला, अंतिम व्यक्ति के पास सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचा



करनाल : दि करनाल सहकारी चीनी मिल के विस्तारीकरण के दौरान सीएम मनोहर लाल ने किसान नेता रतन मान से कहा मांग तो मान ली अब इसमें गन्ने की पोरी किससे गिरओगे। करनाल : दि करनाल सहकारी चीनी मिल के विस्तारीकरण के दौरान सीएम मनोहर लाल ने किसान नेता रतन मान से कहा मांग तो मान ली अब इसमें गन्ने की पोरी किससे गिरओगे।
X
करनाल : दि करनाल सहकारी चीनी मिल के विस्तारीकरण के दौरान सीएम मनोहर लाल ने किसान नेता रतन मान से कहा मांग तो मान ली अब इसमें गन्ने की पोरी किससे गिरओगे।करनाल : दि करनाल सहकारी चीनी मिल के विस्तारीकरण के दौरान सीएम मनोहर लाल ने किसान नेता रतन मान से कहा मांग तो मान ली अब इसमें गन्ने की पोरी किससे गिरओगे।

  • सीएम ने करनाल, पंचकूला व जींद जिले की 56 परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया
  • मुख्यमंत्री ने 263 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले करनाल शुगर मिल के विस्तारीकरण कार्य का भी भूमि पूजन किया

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 07:01 AM IST

करनाल. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हमारी सरकार ने पिछले 5 साल में व्यवस्था परिवर्तन करने का काम किया है। ऐसी योजनाएं बनाई हैं जिसका पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति को भी लाभ मिले। गुरुवार को करनाल के डाॅ. मंगल सैन ऑडिटोरियम से 1363 करोड़ रुपए की करनाल, पंचकूला व जींद जिले की 56 परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया। इन परियोजनाओं में पंचकूला जिले की 4 परियोजनाओं पर करीब 705 करोड़ रुपए, करनाल जिले की 47 परियोजनाओं पर 585 करोड़ रुपए और जींद जिले की 4 परियोजनाओं पर 73 करोड़ रुपए खर्च शामिल हैं।

 

मुख्यमंत्री ने वीरवार को करनाल के डाॅ. मंगलसैन ऑडिटोरियम से पंचकूला व जींद जिले की परियोजनाओं का वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से और करनाल जिले की परियोजनाओं का मौके पर अनावरण किया। मुख्यमंत्री ने 263 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले करनाल शुगर मिल के विस्तारीकरण कार्य का भी भूमि पूजन किया।

 

मैं राजा महाराजा नहीं, जनता का सेवक हूं, मुझे मुकुट नहीं, मेरा एक फूल देकर भी स्वागत कर सकते हैं
सीएम मनोहर लाल जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान चांदी का मुकुट पहनाने वाले पर नाराज हो जाते हैं। सोशल मीडिया पर यह वीडियो चल रहा है। इस बारे में सीएम ने कहा कि मैं राजा महाराजा नहीं हूं, जनता का सेवक हूं। सोना और चांदी के मुकुट पहनाने का जमाना चला गया। यह पिछली सरकारों में चलता था। इस परंपरा को बदला है। जिस व्यक्ति ने मुकुट पहनाया था, वह हमारे साथ जुड़ा है। अच्छा कार्यकर्ता है, लेकिन मैं सोना और चांदी के मुकुट लेने का पक्षधर नहीं हूं। एक फूल देकर भी स्वागत किया जा सकता है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना