हरियाणा रिजल्ट / 2 टॉपर ने टाइम टेबल से की तैयारी, एक के पिता हैं कारपेंटर तो दूसरी के करते हैं मजदूरी

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 09:40 PM IST


Haryana board bhiwani 10th class topper interview who achieved success with hard time table
Haryana board bhiwani 10th class topper interview who achieved success with hard time table
Haryana board bhiwani 10th class topper interview who achieved success with hard time table
X
Haryana board bhiwani 10th class topper interview who achieved success with hard time table
Haryana board bhiwani 10th class topper interview who achieved success with hard time table
Haryana board bhiwani 10th class topper interview who achieved success with hard time table

  • हरियाणा बोर्ड ने शुक्रवार को घोषित किया 10वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम

समालखा (पानीपत)/कैथल. हरियाणा बोर्ड ने शुक्रवार को 10वीं का परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया। 4 छात्रों ने 497 अंक लिए और संयुक्त रुप से पहला स्थान हासिल किया। इनमें से 2 छात्राओं संजू और ईशा देवी का कहना है कि टफ टाइम टेबल की वजह से उन्होंने ये उपलब्धि हासिल की।

कारपेंटर हैं संजू के पिता, बोले- बेटी को कभी कहने की जरूरत नहीं पड़ी की पढ़ ले

  1. पानीपत के करहंस गांव की रहने वाली आशादीप आदर्श हाईस्कूल की छात्रा है। उसका कहना है कि मैंने कोई ट्यूशन नहीं ली बस स्कूल में जो काम मिलता था उसे मन लगाकर पूरा किया। टाइम टेबल बनाकर हररोज 8 घंटे पढ़ाई की। संजू के पसंदीदा विषयों में सोशल साइंस शामिल है। उसका सपना है कि वह यूपीएससी क्लीयर करे। 

  2. संजू के पिता रामपाल गांव में ही कारपेंटर का काम करते हैं। उनका कहना है कि संजू का नाम ही लड़कों वाला नहीं है बल्कि वो तो हमारे बेटी की तरह ही है। मैंने भले ही मेहनत मजदूरी करता हूं लेकिन मैंने अपनी बेटी को अच्छे स्कूल में पढ़ाया। आज संजू ने टॉप करके मेरी मेहनत को सफल बना दिया। रामपाल कहते हैं कि उसकी बेटी ने 7 से 8 घंटे पढ़ाई की लेकिन उन्हें कभी कहने की जरूरत नहीं पड़ी की बेटी पढ़ाई कर ले। रामपाल का बेटा अमित भी ब्लॉक में टॉपर रह चुका है। 
     

  3. मजदूरी करते हैं ईशा देवी के पिता, टेलीविजन और इंटरनेट से है दूरी

    कैथल के बरटा गांव की ईशा देवी सांघन गांव के शिव शिक्षा निकेतन स्कूल की छात्रा है। ईशा का कहना है कि यदि सोशल मीडिया से दूरी हो और स्कूल की पढ़ाई को अच्छे से करें तो हर कोई नंबर ला सकता है। ईशा दिन में 8 से 10 घंटे पढ़ती थी। वह टेलीविजन नहीं देखती है और घर में फीचर फोन है, तो इंटरनेट भी इस्तेमाल नहीं करती है। 

  4. ईशा नॉन मेडिकल से आगे की पढ़ाई करेगी और देश का प्रधानमंत्री बनना उसका सपना है। ईशा के पिता धर्मेंद्र कुमार मजदूरी करते हैं और उसकी मां राजरानी गृहिणी है। एक बड़ा भाई है जो बीए की पढ़ाई कर रहा है।

COMMENT