149 साल बाद राहु की दृष्टि अाैर शनि, चंद्र, केतु की युति में

Panipat News - 149 साल बाद राहु की दृष्टि अाैर चंद्र, केतु और शनि की युति में गुरु पूर्णिमा पर 16 व 17 जुलाई की दरमियानी रात चंद्रग्रहण...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:15 AM IST
Panipat News - haryana news 149 years after the sight of rahu and in the company of saturn moon ketu
149 साल बाद राहु की दृष्टि अाैर चंद्र, केतु और शनि की युति में गुरु पूर्णिमा पर 16 व 17 जुलाई की दरमियानी रात चंद्रग्रहण होगा। चंद्रग्रहण ऐसे ग्रह-योगों में हो रहा है, जिनके कारण ज्योतिषियों को प्राकृतिक आपदाओं, राजनीतिक उथल-पुथल की आशंका है। विभिन्न राशियों के अनुसार भी इसका असर दिखाई देगा। 12 जुलाई 1870 को 149 साल पहले भी गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण था। शास्त्रों के अनुसार उस समय भी शनि, केतु, चंद्र के साथ धनु राशि में एवं सूर्य, राहु के साथ मिथुन राशि में स्थित था। शनि एवं केतु ग्रहण के समय चंद्र के साथ धनु राशि में ही रहेंगे। इससे इस ग्रहण का प्रभाव ओर बढ़ जाएगा। सूर्य के साथ राहु एवं शुक्र रहेंगे। यानि की सूर्य एवं चंद्र को चार विपरीत ग्रह शुक्र, शनि, राहु एवं केतु घेरे रहेंगे। मंगल नीच का रहेगा। नवांश में मंगल की दृष्टि राहु पर रहेगी। नक्षत्र का स्वामी सूर्य रहेगा। उसके ऊपर भी ग्रहण का असर रहेगा। इन कारणों से देश में तनाव, राजनीति में उथल पथल, भूकंपन का खतरा रहेगा। बाढ़, तूफान एवं अन्य प्राकृतिक आपदाओं से भारी नुकसान होने की भी आशंका रहेगी।

शाम 4:30 बजे शुरू होगा ग्रहण

2018 में भी गुरु पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण था लेकिन उस समय ऐसे ग्रह-योग नहीं थे। आषाढ़ शुक्ल पक्ष की रात खंडग्रास चंद्रग्रहण भारत के अलावा आॅस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप तथा दक्षिण अमेरिका में दिखाई देगा। भारतीय समयानुसार का ग्रहण 16 जुलाई की रात 1 बजकर 30 मिनट से शुरू होगा और सुबह 4 बजकर 32 मिनट पर समाप्त होगा। इसका सूतक काल 16 जुलाई की शाम 4.30 बजे से शुरू हाे जाएगा। जाे कि ग्रहण के माेक्ष काल सुबह 4 बजकर 32 मिनट तक रहेगा। ज्योतिषाचार्य एवं शास्त्रियों के मुताबिक 16 जुलाई को गुरु पूर्णिमा होने से गुरु पूजन दोपहर 1.30 बजे से पहले ही होगा। उसके बाद सूतक काल शुरू हो जाने से पूूजन नहीं होगा। चंद्रग्रहण का सूतक, ग्रहण के स्पर्श से 9 घंटे पहले एवं सूर्य ग्रहण का सूतक स्पर्श के समय से 12 घंटे पहले से माना जाता है।

149 साल बाद चंद्रग्रहण में विशेष याेग राशियाें पर इस तरह का रहेगा असर

राशि असर उपाए

मेष शरीर कष्ट चावल अाैर चीनी का दान करें।

वृषभ चिंता दूध, दही अाैर चावल दान करें।

मिथुन शत्रु भय हरी चीजाें का दान करें, जैसे मूंग की दाल।

कर्क स्त्री अाैर पुरुष में झगड़ा सफेद चीजाें का दान करें।

सिंह गुप्त चिंता गुड़ अाैर गेहूं का दान करें।

कन्या खर्च अधिक हरी चीजाें का दान करें।

तुला कार्यसिद्धी सफेद चीजाें का दान करें।

वृश्चिक धन लाभ काला कपड़ा, तिल अाैर उड़द दान करें।

धनु धन हानि अाैर चाेट पीली चीजाें का दान करें।

मकर शरीर कष्ट काला कपड़ा, तिल अाैर उड़द दान करें।

कुंभ धन लाभ काला कपड़ा, तिल अाैर उड़द दान करें।

मीन धन लाभ पीली चीजाें का दान करें।

नाेट : चंद्रग्रहण हाेने के कारण हर राशि वाले पहला दान सफेद चीज के रूप में कर सकते हैं। जैसा कि पंडित रामप्रकाश पाठक ने बताया...

X
Panipat News - haryana news 149 years after the sight of rahu and in the company of saturn moon ketu
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना