जीएसटी में 500 कराेड़ की फर्जी बिलिंग का मामला

Panipat News - जीएसटी में करीब 500 कराेड़ रुपए की फर्जी बिलिंग के मामले में इनपुट क्रेडिट लेने वाली 350 कंपनियाें काे सेल टैक्स विभाग...

Jun 14, 2019, 08:20 AM IST
जीएसटी में करीब 500 कराेड़ रुपए की फर्जी बिलिंग के मामले में इनपुट क्रेडिट लेने वाली 350 कंपनियाें काे सेल टैक्स विभाग ने नाेटिस जारी किए हैं। इनसे करीब 20 कराेड़ रुपए की रिकवरी की जाएगी। नाेटिस के तुरंत बाद दाे कंपनियाें ने 88 लाख रुपए जमा भी कर दिए हैं। एक ने 68 लाख अाैर दूसरी ने 20 लाख रुपए जमा कराए हैं।

सीअाईए-2 ने 4 जून काे एक गिराेह का खुलासा किया था। गिराेह के सदस्याें ने 20 फर्जी फर्म रजिस्टर्ड करवाकर करीब 500 कराेड़ रुपए की फर्जी बिलिंग की थी। यह बिलिंग 350 कंपनियाें के साथ हुई है। उन्हीं काे नाेटिस जारी हुए हैं। सेल्स टैक्स विभाग की जांच में कई अाैर फर्जी फर्में सामने अाई हैं, इनके खिलाफ एफअाईअार दर्ज कराने की तैयारी चल रही है। एेसा पहली बार हुआ है कि विभाग ने एक साथ 350 कंपनियाें को नोटिस भेजा है। 80 से ज्यादा प्रतिशत कंपनियां पानीपत की हैं। वहीं विभागीय अफसरों का कहना है कि पड़ताल अभी जारी है।


19 फर्जी फर्मों से बिलिंग दिखाने वाली 350 कंपनियाें काे नाेटिस जारी, सभी से की जाएगी 20 करोड़ की रिकवरी, दो फर्मों ने जमा कराए 88 लाख रुपए

इस साल 45 फर्जी फर्म सामने अा चुकी

सेल टैक्स विभाग ने करीब 7 माह पहले इस तरह की फर्मों की जांच की थी। जनवरी में 25 फर्जी फर्माें पर केस दर्ज हुए थे, उनसे 13 कराेड़ की रिकवरी हाे चुकी है। 25 फर्माें से फर्जी बिलिंग कर 18 करोड़ का इनपुट क्रेडिट गलत तरीके से लेने वाली हैं, उससे पहले ही फर्जीवाड़ा पकड़ा गया था। अब 20 फर्जी फर्म अाैर सामने अा गई। सीअाईए ने 19 फर्जी फर्माें की डिटेल सेल टैक्स विभाग काे दी है। अभी तक जांच और रिकवरी का काम केवल स्टेट जीएसटी टीम कर रही थी। लेकिन विभाग ने योजना बनाई है कि अब जांच और रिकवरी का काम संबंधित जीएसटी टीम करेगी।

रिकवरी शुरू कर दी है : राजाराम

डीईटीसी सेल्स टैक्स राजाराम नैन का कहना है कि हमारी टीम पिछले सात महीने से लगातार प्रयास कर रही है और उसी के चलते ये फर्जीवाड़े सामने आए हैं। इनसे जुड़ी 350 फर्मों को नोटिस दे दिए हैं और उनसे रिकवरी भी शुरू कर दी गई है। आगे इस तरह का फर्जीवाड़ा न हो उसके लिए हम कारगर कदम उठा रहे हैं। पिछले सात माह में हमने बड़ी रिकवरी करने में भी सफलता प्राप्त की है और इस तरह की फर्म रिकवरी जमा नहीं करवाएगी उस पर क़ानूनी कार्रवाई करवाई जाएगी।

मास्टरमाइंड राजेश काे जेल भेजा

4 जून काे सीअाईए-2 ने राजेश मित्तल पुत्र सोमदत निवासी देशराज कालोनी, इंद्रप्रताप सिंह पुत्र रमेश चन्द्र निवासी देशराज कालोनी अाैर मनीष पुत्र महेन्द्र सिंह निवासी अलुपुर मतलाैडा काे गिरफ्तार किया है। उनसे 19 फर्जी फर्म का खुलासा हुअा। पुलिस ने वकील सतनारायण काे गिरफ्तार किया था। रिमांड पर चल रहे मास्टरमाइंड राजेश मित्तल से एक अाैर फर्जी फर्म साेनिया टेक्सटाइल बरसत राेड का खुलासा हुअा। जलमाना की साेनिया व उसका भाई संजीव अाराेपी मित्तल के पास काम करते थे। उन्हीं के दस्तावेज में अाराेपी ने फर्म बनाई थी। गुरुवार काे अाराेपी राजेश काे जेल भेज दिया गया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना