• Hindi News
  • Haryana
  • Panipat
  • Panipat News haryana news hitch away 100 bed mch wing to be built by demolishing old hospital building rs 13 crore got a budget of

अड़चन दूर : अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग काे गिराकर बनेगा 100 बिस्तर का एमसीएच विंग, 13 करोड़ रु. का बजट मिला

Panipat News - स्वास्थ्य विभाग अाैर ईएसआई अस्पताल के बीच कई सालाें से चला अा रहा जमीन विवाद मंगलवार काे सुलझ गया है। इसमें...

Jan 22, 2020, 08:15 AM IST
Panipat News - haryana news hitch away 100 bed mch wing to be built by demolishing old hospital building rs 13 crore got a budget of
स्वास्थ्य विभाग अाैर ईएसआई अस्पताल के बीच कई सालाें से चला अा रहा जमीन विवाद मंगलवार काे सुलझ गया है। इसमें स्वास्थ्य विभाग काे 14 एकड़ अाैर ईएसआई विभाग काे 8.2 एकड़ भूमि दी गई है। इसी विवाद को खत्म करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के एसीएस के निर्देशों पर डिप्टी डायरेक्टर मेडिकल अाॅफिसर डॉ. यशपाल ‌मंगलवार काे अस्पताल पहुंचे थे। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग व ईएसआई के एमएस डाॅ. शिवकुमार के साथ अस्पताल परिसर का दौरा किया अाैर जमीन की पूरी जानकारी ली। ये पूरी प्रक्रिया स्वास्थ्य विभाग के एमसीएच विंग प्रोजेक्ट को लेकर हो रहा है, क्योंकि विभाग जल्द ही इस बिल्डिंग काे गिराकर 100 बिस्तर का एमसीएम विंग (जच्चा-बच्चा केंद्र) बनाना चाहता है। जबकि ईएसआई का कहना है था कि ये भूमि उनको दी जाए, क्योंकि सिविल अस्पताल प्रशासन ने 60 प्रतिशत से अधिक क्षेत्र को अपने कब्जे में ले लिया है।

2 विभागों का जमीन विवाद सुलझा
दाेनाें विभाग का अपना-अपना तर्क

ईएसअाई विभाग का तर्क ये था : ईएसआई विभाग का कहना था कि अस्पताल परिसर का 60 प्रतिशत हिस्सा स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत आता है, जबकि 40 प्रतिशत हिस्सा ईएसआई के अंतर्गत आता है। जबकि स्वास्थ्य विभाग ने 60 प्रतिशत से बाहर अाकर पार्क व पार्किंग बनवाई है। स्वास्थ्य विभाग उनकी जगह पर जच्चा-बच्चा केंद्र बनाना चाहते है, जिससे उनके अाने वाले प्राेजेक्ट बनाने में परेशानी हाेगी। उनकी मांग थी कि स्वास्थ्य विभाग पुरानी बिल्डिंग को ईएसआई काे दे दे।

स्वास्थ्य विभाग का तर्क ये था : स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि पूरी भूमि स्वास्थ्य विभाग के नाम पर है। विभाग ने अपनी जमीन पर ही निर्माण करवाया है। अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग भी उनकी है। इसलिए पुरानी बिल्डिंग की जगह ही एमसीएच विंग बननी चाहिए।

डिप्टी डायरेक्टर डॉ. यशपाल जमीन के कागजात देखते हुए।

जानिए... कैसे निकाला हल : मंगलवार काे दोनों विभाग के इस विवाद को सुलझाने के लिए मीटिंग हुई। इस मीटिंग में डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. नवीन सुनेजा, एमएस डॉ. आलोक जैन, डिप्टी एमएस डाॅ. अमित पाेरिया, ईएसआई से एमएस डॉ. शिवकुमार माैजूद रहे। मीटिंग में डिप्टी डायरेक्टर डॉ. यशपाल ने दाेनाें विभाग के पक्षाें का सुना। इसके बाद उन्हाेंने 14 एकड़ काे स्वास्थ्य विभाग काे अाैर 8.2 एकड़ ईएसआई काे दिया।

2018 में किए थे 20 कराेड़ मंजूर

सरकार ने पुरानी बिल्डिंग काे एमसीएच (मदर एंड चाइल्ड हेल्थ केयर) विंग बनाने के लिए 30 अक्टूबर 2018 काे 20 कराेड़ रुपए मंजूर किए गए थे। 8 मार्च 2019 अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भी प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने दाेबारा इस एमसीएच विंग बनाने की घाेषणा की थी। यह प्रोजेक्ट 2021 में पूरा होगा।

पैसे पीडब्ल्यूडी को भेजे : डॉ. आलोक

एमएस डाॅ. अालाेक जैन ने बताया कि भूमि विवाद सुलझ गया है। इसमें विभाग काे 14 अाैर ईएसआई काे 8.2 एकड़ जमीन मिली है। वहीं एमसीएच विंग के लिए सरकार की अाेर से बजट अा गया है। विभाग द्वारा 13 कराेड़ रुपए पीडब्ल्यूडी काे भेजे गए हैं। जल्द ही इससे गिराकर एमसीएच विंग बनाया जाएगा।

X
Panipat News - haryana news hitch away 100 bed mch wing to be built by demolishing old hospital building rs 13 crore got a budget of
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना