फिर एक्शन मोड में विज / कष्ट निवारण समिति की बैठक में 2 अफसर और 2 पुलिसकर्मी किए सस्पेंड

मंत्री अनिल विज। मंत्री अनिल विज।
X
मंत्री अनिल विज।मंत्री अनिल विज।

  • हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के दो अफसर किए गए हैं सस्पेंड

Jun 28, 2019, 08:38 PM IST

पानीपत। 9 माह बाद हुई जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज एक बार फिर एक्शन मोड में नजर आए। उन्होंने हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एचएसवीपी) के दो अफसरों और 2 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया। 
 

ये हैं 3 केस, जिसमें 4 अफसर निलंबित हुए 

1. एचएसवीपी : 29 साल पहले खरीदी जमीन पर बने घर गिरा दिए 
सेक्टर-24 में रहने वाली राजरानी की शिकायत थी कि 1989 में उसके पिता ने 100 वर्ग गज प्लॉट लिया। साथ में 200 वर्ग गज प्लॉट भी है। एचएसवीपी के अफसरों ने बिना किसी पूर्व नोटिस के 23 जुलाई 2018 को 100 वर्ग गज में बने मकान यह कहकर तोड़ दिया कि यह कब्जा है। बाद में डीलरों को कब्जा करा दिया।

 

ईओ योगेश रंगा से बोले विज, तोड़ने की इतनी क्या जल्दी थी :
अनिल विज एचएसवीपी के ईओ योगेश रंगा से नाराज दिखे। बोले-आपने अधिकार का दुरुपयोग किया है। लोगों की शिकायत पर विभाग तो काम करता नहीं, मकान गिराने की क्यों जल्दी थी। विज ने एसडीओ देवेंद्र कुमार मलिक और पटवारी-चौकीदार-जेई कर्मबीर को सस्पेंड करने का आदेश दिया। शिकायतकर्ता को अफसरों पर हर्जाने का केस डालने को भी कहा।
 

उग्राखेड़ी के संदीप मलिक की शिकायत थी कि 16 अप्रैल 2014 को कांग्रेस नेता जगदेव मलिक के भाई जगदीप मलिक सहित पांच लोगों ने मारपीट कर उसे अधमरा कर दिया। अग्रसेन अस्पताल में चांदनी बाग थाना का एएसआई सतपाल बयान लिया, लेकिन राजनीतिक दबाव में बयान फाड़कर लिख दिया कि पीड़ित संदीप ने कोई बयान नहीं दिया और अपने बयान के आधार पर हल्का केस दर्ज कर लिया। बाद में केस की जांच सफीदों के डीएसपी हरिंद्र कुमार से कराई गई। जिसने सतपाल को दोषी पाया।

 

 

मंत्री ने पुलिस कार्रवाई का बचाव कर रहे डीएसपी सतीश वत्स से कहा कि एएसआई ने अपराध किया है, लापरवाही नहीं। एएसआई को तत्काल सस्पेंड करने का आदेश दिया। साथ ही जिला अटॉर्नी राजेश कुमार से सलाह लेने के बाद सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने को कहा। संदीप ने कांग्रेस नेता जगदेव मलिक के भाई उग्राखेड़ी के जगदीप मलिक, राहुल व गौरव के साथ ही सिवाह के रोहतास और गोहाना के कल्लू को आरोपी बताया है। इस बारे में जगदेव मलिक ने कहा कि संदीप डिफॉल्टर है। झूठे केस में सबको फंसा रहा है। मंत्री के ही कह देने से नहीं होता है। उसके भी अफसर हैं। आगे जाएंगे।

पाथरी की राधा रानी की शिकायत है कि परिजनों के डर से वह दूसरी जगह बच्चों के साथ रह रही है। पुलिस बजाय मदद करने के आरोपियों का साथ दे रही है। महिला का आरोप है कि उसके गेट का ताला तोड़कर सूरजभान आदि को घर घर के बीच से रास्ता दे दिया। मारपीट कर उसके फोन भी छीन लिए। आरोपियों का एक रिश्तेदार महेंद्र इंस्पेक्टर है। इसलिए उरलाना चौकी में तैनात एएसआई कप्तान सिंह आरोपियों का साथ दे रह हैं। दहशत के मारे वह बच्चों के साथ दर-दर भटक रही है।
 

मंत्री अनिल विज ने कहा कि इंस्पेक्टर महेंद्र को कम से कम 150 किलोमीटर दूर ट्रांसफर करो। साथ ही एएसआई कप्तान सिंह को सस्पेंड करते हुए एफआईआर करो। एफआईआर की कॉपी शुक्रवार शाम तक भेजने का आदेश दिया। साथ ही कहा कि जो भी आरोपी है उसको गिरफ्तार किया जाए। मंत्री ने अगली बैठक में पुलिस सुरक्षा में महिला को बैठक में लाने का आदेश दिया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना