अल्ट्रासाउंड केंद्र में मरीजाें ने अाधे घंटे किया हंगामा

Panipat News - सिविल अस्पताल के अल्ट्रासाउंड केंद्र में बुधवार काे गर्भवती महिला व अन्य मरीजाें ने अाधे घंटे तक हंगामा किया।...

Jan 16, 2020, 08:25 AM IST
Panipat News - haryana news patients spent half an hour in the ultrasound center
सिविल अस्पताल के अल्ट्रासाउंड केंद्र में बुधवार काे गर्भवती महिला व अन्य मरीजाें ने अाधे घंटे तक हंगामा किया। मरीजाें का अाराेप था कि स्टाफ अपने लाेगाें का पहले अल्ट्रासाउंड कर रहा था। वाे सुबह 9 बजे से अल्ट्रासाउंड केंद्र के बाहर बैठे थे, लेकिन दाे-दाे घंटे तक भी उनका अल्ट्रासाउंड नहीं हाे रहा है। स्टाफ काे कुछ कहे ताे कमरे का दरवाजा बंद कर लेते हैं। इस बात काे लेकर अाधे घंटे तक अल्ट्रासाउंड केंद्र के बाहर मरीज हंगामा करते रहे। कई मरीजाें ने डाॅक्टर व स्टाफ के सदस्याें की वीडियाे बनाकर भी वायरल कर दी। ताे वहीं कई मरीजाें ने फेसबुक लाइव भी की। स्टाफ का अाराेप है कि मरीजाें ने अाधे घंटे तक डाॅक्टर, स्टाफ, सिक्याेरिटी गार्ड के साथ बदसलूकी की है।

अाराेप
पानीपत. सिविल अस्पताल के अल्ट्रासाउंड केंद्र में हंगामा करते मरीज। फोटो | भास्कर

ये है अल्ट्रासाउंड करने की प्रक्रिया

अस्पताल में सुबह 9 से दाेपहर 3 बजे तक अल्ट्रासाउंड किए जाते हैं। सबसे पहले केंद्र में गर्भवती महिलाअाें का फार्म भरा जाता है। इसके बाद उन्हें टाेकन नंबर दिया जाता है। इसके बाद अल्ट्रासाउंड किए जाते हैं। डाॅक्टराें के मुताबिक एक गर्भवती का अल्ट्रसाउंड करने में 15 से 30 मिनट तक लग जाते हैं। इन्हीं बीच में इमरजेंसी मरीज या लड़ाई-झगड़ें वाले मरीज भी अा जाते है। बुधवार काे भी एेसा ही हुअा था। एेसे में मरीजाें काे धैर्य बनाने की जरूरत है। जिनके फार्म भरते जाते है उसे दिन सभी के अल्ट्रासाउंड किए जाते हैं।

हमें काेई शिकायत नहीं मिली : एसएमओ

एसएमअाे डाॅ. श्यामलाल ने बताया कि बुधवार काे एमएस डाॅ. अालाेक जैन मीटिंग में गए हुए थे। लेकिन तब वाे अस्पताल में रहे उन्हें काेई शिकायत नहीं मिली।

ये है वीडियाे के मुख्य अंश

सिक्याेरिटी गार्ड ने जैसे ही दरवाजा बंद कर रही है ताे गर्भवती महिलाएं दरवाजे पर धक्का-मुक्की करके उसे खुलवा रही हैं, अाैर कहा रहे कि बनाअाे वीडियाे। सिक्याेरिटी गार्ड ने कहा कि ये पागल है क्या। मरीजाें ने कहा हां हम पागल हैं जाे सुबह से यहां खड़े हैं। ताे वहीं रेडियाेलाॅजिस्ट डाॅ. राजीव व स्टाफ नर्स मीना ने कहा वीडियाे काे बंद करिए, जिनके फाॅर्म भरे गए हैं, सबके अल्ट्रासाउंड किए जाएंगे। इतने अस्पताल का एक कर्मचारी गेट पर अाकर वीडियाे बंद करवाने की बात कहकर महिलाअाें काे बाहर करता है। तभी गर्भवती महिलाएं कहती है कि अापने हमें हाथ कैसे लगा दिया अाैर गर्भवती काे धक्का मारना अापकाे शाेभा नहीं देता। इसपर अाैर हंगामा शुरू हाे जाता है। करीब 30 मिनट के बाद दाेबारा प्रक्रिया शुरू हुई।

X
Panipat News - haryana news patients spent half an hour in the ultrasound center
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना