--Advertisement--

मौसम / हरियाणा में अबकी बार ज्यादा धुंध के आसार, अगले 60 दिन रहें सावधान



Haryana Weather Fog in next 60 Days expected stay alert
X
Haryana Weather Fog in next 60 Days expected stay alert

  • मौसम ओवर स्पीड से होते हैं 21 फीसदी हादसे, मरने वालों में सर्वाधिक 17 से 44 साल के ज्यादा
     

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 12:37 PM IST

चंडीगढ़। प्रदेश में अगले 60 दिनों तक धुंध का छाए रहने की संभावना है। दिसंबर-जनवरी में धुंध अधिक रहती है, कई बार यह 15 फरवरी तक असर दिखाती है। अबकी बार ज्यादा बरसात हुई है तो धुंध का असर लंबे समय तक रह सकता है। हरियाणा पुलिस ने यातायात एडवाइजरी जारी कर सावधानी बरतने को कहा है। डीजीपी ने कहा कि सभी मौसम को ध्यान में रखकर यात्रा करें। मौसम विभाग ने भी कहा कि अगले दो से तीन दिनों में धुंध का बढ़ सकती है। अबकी बार जमीन में नमी खूब है, इससे भी धुंध लंबी चल सकती है।

 

ट्रक-टेंपो व ट्रैक्टर से होते हैं अधिक हादसे : प्रदेश के हाइवे पर ट्रक-टेंपो व ट्रैक्टर से सबसे अधिक 35.38 फीसदी हादसे होते हैं, इससे 37.42 फीसदी डेथ होती हैं। कार-जीप व टैक्सी से 31.60 फीसदी हादसे होते हैं और 35.46 फीसदी डेथ होती है। दो पहिया वाहन से 16.38 हादसे व 11.80 फीसदी डेथ, ऑटो रिक्शा से 5.25 फीसदी हादसे व 3.90 फीसदी डेथ होती हैं। बसों से 5.95 फीसदी हादसे व 6.30 फीसदी डेथ, अन्य से 5.44 फीसदी हादसे व 5.12 फीसदी डेथ हो जाती हैं।

 

तेज गति से होते हैं 20 % हादसेः हरियाणा में तेज गति के कारण 20.86 फीसदी सड़क हादसे हो रहे हैं। इसका कुल डेथ में 22.15 फीसदी हिस्सा है। शराब पीकर 4.70 फीसदी हादसे होते हैं और 3.28 फीसदी डेथ प्रतिशत है। ओवर लोडिंग के कारण 17.01 फीसदी हादसे और 17.47 फीसदी डेथ प्रतिशत है। अन्य हादसों में 57.43 फीसदी कारण हैं और इनमें 57.10 फीसदी डेथ औसत है। करीब 5000 व्यक्ति हर साल सड़क हादसों में जान गवां देते हैं । इनमें 17 साल तक के 5.26 फीसदी, 17 से 44 साल के 59.05 फीसदी व 45 साल से अधिक के 35.69 फीसदी लोगों की मौत हो रही है। 17 से 44 साल के लोग सबसे अधिक मर रहे हैं, इनका डेथ औसत करीब 50 फीसदी है।

 

शाम 6 बजे होते हैं 29.82 % हादसेः हरियाणा में नेशनल हाइवे पर सबसे अधिक 31.78 फीसदी हादसे होते हैं, जबकि स्टेट हाइवे पर 25.69, एक्सप्रेस हाइवे पर 2.19 फीसदी हादसे होते हैं। अन्य सड़कों पर 40.34 फीसदी हादसे होते हैं। सुबह 6 से 12 बजे तक 24.77, दोपहर 12 से शाम छह बजे तक 29.82, शाम छह से रात 12 बजे तक 29.50 व रात 12 से सुबह 6 बजे तक 15.08 फीसदी हादसे हो रहे हैं। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..