--Advertisement--

हरियाणा / मेडल विजेताओं को जल्द मिलेगी नौकरी, खेल विभाग ने भेजी 50 खिलाड़ियों की सूची



Medal winners will get jobs in Haryana
X
Medal winners will get jobs in Haryana

  • मुख्य सचिव ने प्रशासनिक विभाग को दी भर्ती की जिम्मेदार
  • मेरिट कम चॉइस पर बदलेंगे नियम
  • आरक्षित कोटे के अनुसार की जाएगी सीटों 
    की व्यवस्था

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2018, 03:51 AM IST

पानीपत. प्रदेश सरकार की ओर से खिलाड़ियों को नौकरी देने के लिए बनाई पॉलिसी के तहत अब आवेदकों को नौकरी के लिए लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। सरकार ने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है। खिलाड़ियों को खेल कोटे से सरकारी नौकरी देने के लिए प्रशासनिक विभाग को मुख्य सचिव की ओर से चिट्‌ठी जारी दी है।

 

सूत्रों का कहना है कि खेल विभाग की ओर से मिले आवेदनों में पहले चरण में की गई जांच में 50 खिलाड़ियों की सूची मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली कमेटी को सौंप दी है। इसके बाद मुख्य सचिव ने प्रक्रिया आगे बढ़ाई है। उन्होंने सभी मेडल विजेताओं को नौकरी देने की जिम्मेदारी प्रशासनिक विभाग को सौंपते हुए भर्तियों को काउंसिलिंग और मेरिट कम चॉइस के आधार पर करने को कहा है।

 

आदेश दिए कि वे विभागीय नियमों में बदलाव कर सकते हैं। आरक्षित कोटे के अनुसार जो सीटों की व्यवस्था कर खिलाड़ियों को नियुक्ति देने के लिए कहा गया है। प्रशासनिक विभाग सुनिश्चित करेगा कि खिलाड़ियों को उनकी पसंद और पात्रता के अनुसार ही नौकरी मिले। मुख्य सचिव ने आदेश दिए कि प्रशासनि सचिव की ओर से एचएसएससी और एचपीएससी के नियमों को भी ध्यान रखे। 

 

कांग्रेस के वक्त बनी थी पदक लाओ नौकरी पाओ नीति :
कांग्रेस सरकार में खिलाड़ियों को नौकरी देने के लिए पॉलिसी बनाई गई थी, जिसे पदक लाओ नौकरी पाओ नीति नाम दिया गया था। दावा किया जाता रहा है कि हुड्‌डा सरकार में 200 से ज्यादा खिलाड़ियों को नौकरी दी गई। ममता सौदा, योगेश्वर दत्त व जोगेंद्र शर्मा को डीएसपी स्तर की नौकरी जरूर मिली है।

 

भाजपा सरकार ने कोर्ट के आदेश पर दी 3 नौकरियां :
भाजपा सरकार के कार्यकाल में अभी तक तीन खिलाड़ियों को नौकरी मिली है। यह नौकरी भी कोर्ट के आदेश पर मिली है। फिलहाल जो नीति बनाई है, वह सरकार की ड्रीम पॉलिसी है, क्योंकि किसी भी प्रदेश में खिलाड़ियों को मेडल के अनुसार एचसीएस और एचपीएस स्तर की नौकरी नहीं दी जा रही है।

 

शैक्षणिक योग्यता पर नियमानुसार होंगे प्रमोशन : 
पॉलिसी के अनुसार मेडल अनुसार नौकरी मिलेगी। जैसे ओलिंपिक गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने पर आठ वर्ष की सीनियाॅरिटी के साथ एचसीएस या एचपीएस की नौकरी मिलेगी। खास बात यह है कि खिलाड़ियों के लिए कोई शैक्षणिक योग्यता नहीं है। यदि वे शैक्षणिक योग्यता पूरी करते हैं तो उन्हें नियमानुसार आगे भी प्रमोशन मिल सकता है। यदि यह योग्यता नहीं है तो उसी पद पर रहेंगे, जिस पर जॉइन करेंगे। 
 

फेडरेशन से कराना होगा प्रमाणित :
आवेदन करने वाले कुछ खिलाड़ियों के आवेदन रिजेक्ट भी हुए हैं। सूत्रों का कहना है कि 20 से ज्यादा खिलाड़ियों के आवेदन रिजेक्ट किए गए हैं। अभी उनके दस्तावेजों की कमी है, क्योंकि जो भी अावेदन करेगा, उसे संबंधित खेल फेडरेशन से यह प्रमाणित करा कर लाना होगा कि वह जिस खेल में मेडल जीतकर लाया है, वह सही है। 
 

खिलाड़ियों को जल्द मिलेंगी नियुिक्तयां:

खिलाड़ियों को नौकरी देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। 50 खिलाड़ियों की सूची मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली कमेटी को भेजी जा चुकी है। यह खिलाड़ी सभी मानकों पर खरा उतरे हैं। इन खिलाड़ियों को जल्द नियुक्तियां मिल जाएंगी। -अनिल विज, खेल मंत्री, हरियाणा।

 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..