एनएचएम हड़ताल / अफसरों से बातचीत में मिला सिर्फ आश्वासन, नहीं माने कर्मचारी, 2 दिन और बढ़ाई

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2019, 01:04 AM IST


रेवाड़ी. नागरिक अस्पताल में हड़ताल पर बैठे कर्मचारी। रेवाड़ी. नागरिक अस्पताल में हड़ताल पर बैठे कर्मचारी।
X
रेवाड़ी. नागरिक अस्पताल में हड़ताल पर बैठे कर्मचारी।रेवाड़ी. नागरिक अस्पताल में हड़ताल पर बैठे कर्मचारी।
  • comment

  • एनएचएम कर्मियों और आंगनवाड़ी वर्कर यूनियन की अफसरों से वार्ता विफल
  • दोनों वार्ताओं में अफसरों से मिले आश्वासन पर कर्मचारी नहीं माने

पानीपत. प्रदेश में 5 फरवरी से चल रही एनएचएम कर्मचारियों की हड़ताल और आंगनबाड़ी वर्कर एवं हेल्पर के चल रहे धरने खत्म कराने के सरकारी अफसरों के प्रयास सफल नहीं हो पाए। दोनों वार्ताओं में अफसरों से मिले आश्वासन पर कर्मचारी नहीं माने। एनएचएम कर्मचारियों ने प्रदेश भर में सोमवार को मुंडन कराकर विरोध जताया।

 

वहीं, हड़ताल भी 2 दिन और बढ़ा दी। आंगनबाड़ी वर्कर्स ने धरने जारी रखने की घोषणा करते हुए 14 फरवरी को रोहतक में अगले आंदोलन के लिए प्रदेश कार्यकारिणी की मीटिंग बुलाई है। एनएचएम कर्मचारी प्रधानमंत्री के आगमन पर मंगलवार को फेसबुक पर लाइव होकर उनसे नियमतिकरण की मांग करेंगे।  

 

अफसरों-एनएचएम कर्मियों के बीच मांगें पर हुई बातचीत -

Q. सेवा सुरक्षा दी जाए। 
A. हमारे हाथ में नहीं, सरकार से बातचीत करेंगे। 

 

Q. 7वां वेतन आयोग लागू किया जाए। 
A. प्रक्रिया चल रही है। 

Q. जो सेवा नियम बने हैं, वह लागू किए जाएं। 8 महीने बीत चुके हैं। 
A. कार्रवाई चल रही है। 

 

Q. एनएचएम में ठेकेदारी प्रथा खत्म हो। 
A. अभी यह खत्म नहीं हो सकती।

 

आंगनबाड़ी वर्कर आैर हेल्पर वर्करों से बातचीत -

Q. सितंबर में केंद्र की ओर से की मानदेय बढ़ोतरी लागू की जाए। 
A. फाइल प्रक्रिया में है। हम देश में सबसे ज्यादा दे रहे हैं। 

 

Q. सरकार की घोषणा अनुसार कुशल-अर्द्ध कुशल का दर्जा दिया जाए। 
A. फाइल चली हुई है। 

 

Q. आंगनबाड़ी भवनों का किराया दिया जाए, लंबे समय से नहीं मिला। बढ़ाया भी जाए। 
A. अभी बजट खत्म हो गया। डिमांड भेजी हुई है। किराया बढ़ाने को लेकर असेस्मेंट कराएं। 

 

Q. एक से डेढ़ महीने तक राशन नहीं आता। पिछले एक महीने बाद 3-4 दिन पहले राशन आया है। गड़बड़ी भी हो रही है। 
A. ऐसा क्यों हो रहा है। जांच कराएंगे।

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन