हरियाणा / विधानसभा में 5 साल में सत्ता पक्ष से 15 घंटे ज्यादा बोले विपक्षी, पूछे कुल 1726 सवाल



फाइल फोटो फाइल फोटो
X
फाइल फोटोफाइल फोटो

  • हुड्‌डा और सुरजेवाला ने एक भी नहीं लगाया, दलाल ने पूछे सबसे ज्यादा 153
  • विधानसभा में कुल 15 सत्र में हुई 84 सीटिंग, रघुवीर कादियान और आनंद सिंह दांगी ने भी नहीं पूछा एक भी सवाल

Dainik Bhaskar

Aug 08, 2019, 01:27 AM IST

पानीपत ( मनोज कुमार ). भाजपा सरकार के कार्यकाल के 58 महीनों में हरियाणा विधानसभा के चले सत्रों में विपक्ष ने सत्ता पक्ष से ज्यादा अपनी बात रखी। 15 सत्रों में कुल हुई 84 सीटिंग में विपक्ष के विधायकों ने 69 घंटे बोलकर न केवल अपनी बात रखी, बल्कि सरकार को भी घेरा। निर्दलीय विधायकों ने अपनी बात रखने में 4 घंटे का वक्त लिया, जबकि सत्ता पक्ष भाजपाई विधायकों को बोलने का 54 घंटे का समय मिला। इसमें मंत्रियों ने न केवल सरकार की उपलब्धियां रखी बल्कि विपक्ष के हमलों का जवाब भी दिया।

 

इनमें छह घंटे मुख्यमंत्री ने विपक्ष के हर सवाल का जवाब देने को लिए, जबकि कांग्रेस के दस साल के कार्यकाल में सत्ता पक्ष 107 घंटे बोला, जबकि विपक्ष दलों के विधायकों को बोलने के लिए 32 घंटे मिले। 17 घंटे निर्दलीयों को मिले। इनेलो के शासनकाल में पांच साल में सत्ता पक्ष और विपक्ष को बराबर 46-46 घंटे अपनी बात रखने का समय मिला था। इधर, खास बात यह है कि भाजपा, कांग्रेस, इनेलो, बसपा, शिरोमणि अकाली दल और निर्दलीय विधायकों ने विधानसभा में सरकार से तारांकित और अतारांकित मिलाकर 1726 सवाल पूछे। सबसे ज्यादा सवाल पलवल से कांग्रेस के विधायक करण दलाल और भाजपा में शामिल हो चुके इनेलो के पूर्व विधायक रहे परमिंद्र सिंह ढुल ने पूछे हैं, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा, रणदीप सुरजेवाला, रघुवीर कादयान और आनंद सिंह दांगी ने एक भी सवाल नहीं लगाया। 

 

ये सबसे ज्यादा पूछने वाले
सबसे ज्यादा 153 सवाल पलवल से कांग्रेसी विधायक करण दलाल ने पूछे। जबकि दूसरे नंबर पर परमिंद्र सिंह ढुल रहे। उन्होंने 128 सवाल पूछे। इनके अलावा पूर्व विधायक हरिचंद मिड्‌ढा सवाल पूछने वाले विधायकों मे तीसरे नंबर पर रहे। उन्होंने 100 सवाल पूछे। इनेलो से बागी हो चुके राजदीप फौगाट ने 85, पिरथी नंबरदार ने 67,  कांग्रेसी विधायक जगबीर सिंह मिले ने 69, इनेलो के पूर्व विधायक केहर सिंह ने 57, इनेलो विधायक वेद नारंग ने 52 सवाल पूछे। जबकि रविंद्र बलियाला, रामचंद्र कंबोज और जसबीर देशवाल ने 47-47 सवाल सरकार से पूछकर अपने इलाकों की आवाज उठाई।
 

 

अपनी पार्टी का नेतृत्व करने वाले विपक्षी पार्टियों के नेताओं की स्थिति :

कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी ने हालांकि सवाल तो सबसे ज्यादा विधानसभा में सवाल भेजे, लेकिन सूची में कम ही शामिल हुए। उनके 224 सवाल एडमिट तो हुए, लेकिन सूची में 40 सवाल आए, जबकि अतारांकित सवाल 2 भेजे और दोनों शामिल हुए। उनके कुल 33 सवाल सूची में शामिल हुए। इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला सभी प्रकार के 17 सवाल एडमिट हुए, जबकि लिस्टेड 14 सवाल हुए। कुलदीप बिश्नोई ने सिर्फ तीन सवाल ही पूछे। रेणुका बिश्नोई ने 23 सवाल पूछे। 

 

यह पहला मौका है, जब विपक्ष को अच्छा मौका मिला: कंवरपाल गुर्जर
पांच साल अच्छी तरह से सदन चला। यह पहला मौका है जब विपक्ष को बोलने का ज्यादा मौका दिया गया। विपक्षी विधायकों ने बेहतर तरीके से अपनी बात रखी है। जो सवाल एडमिट हुए, उनमें प्राथमिकता के आधार पर ही सवाल लिस्टेड किए गए थे।  -कंवरपाल गुर्जर, स्पीकर, विधानसभा, हरियाणा

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना