जज्बे को सलाम / 12वीं के साथ ही पंकज ने देश सेवा के लिए शुरू कर दी थी सेना में जाने की तैयारी, पहली बार में ही हुआ भर्ती



कोहला में शहीद पंकज की मां का ढांढस बंधाती परिवार की महिला। कोहला में शहीद पंकज की मां का ढांढस बंधाती परिवार की महिला।
X
कोहला में शहीद पंकज की मां का ढांढस बंधाती परिवार की महिला।कोहला में शहीद पंकज की मां का ढांढस बंधाती परिवार की महिला।

  • देश सेवा के जज्बे के चलते ही वह पहली बार में सभी परीक्षाएं पास कर सेना में भर्ती हो गया
  • अरुणाचल प्रदेश में क्रैश हुए वायु सेना के विमान में सोनीपत के जवान भी शहीद

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 04:36 AM IST

गोहाना. अरुणाचल प्रदेश में वायु सेना के क्रैश हुए विमान में शहीद हुए कोहला गांव के पंकज सांगवान ने सेना में अधिकारी बनकर देश सेवा करना का सपना बचपन में ही देख लिया था। 12वीं के साथ सेना में जाने के लिए टेस्ट की तैयारी करता था। लगन और देश सेवा के जज्बे के चलते ही वह पहली बार में सभी परीक्षाएं पास कर सेना में भर्ती हो गया। विमान के उड़ान भरने से एक दिन पहले भी पंकज ने मां से फोन पर काफी देर तक बातचीत की थी। उसने बताया था कि यहां पर मौसम खराब रहता है। मौसम साफ रहा तो वह भी जाएगा। 

 

विमान लापता होने के बाद से मां सुनीता का रो-रोकर बुरा हाल है। उन्हें उम्मीद थी कि बेटा सकुशल वापस लौटेगा। वायुसेना के अधिकारियों ने सैनिकों के जीवित नहीं होने की सूचना दी तो वह उम्मीद भी टूट गई। इस सूचना के बाद गांव में माहौल गमगीन हो गया। परिवार के सदस्यों को सांत्वना देने के लिए ग्रामीण भी पहुंचे। सभी ने परिवार को हौसला दिया।

 

28 जून को एक माह की छुट्‌टी पर आना था घर :
पंकज का परिवार खेती करता है। उन्हें 28 जून को एक माह की छुट्टी पर आना था। पंकज ने कहा था कि छुट्टियां मंजूर हो चुकी हैं। आकर धान की रोपाई भी करा दूंगा।

 

जुलाई 2015 में किया था जॉइन :
सेना में पंकज को दिसंबर 2014 में जॉइन कराना था, लेकिन उससे पहले अधिक उम्र के जवानों को जॉइन कराना था, इसलिए उसे 7 माह तक इंतजार करना पड़ा था। जुलाई 2015 में जॉइन किया। असम के जोरहाट में उनकी पहली पोस्टिंग थी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना