अनाज मंडी / कंबाइन से कटी फसल का ‌200 रुपए प्रति क्विंटल कम भाव लगा रहे हैं व्यापारी



गोहाना. नई अनाज मंडी में फसल की नमी सुखाने के लिए परिसर में फैलाते मजदूर। गोहाना. नई अनाज मंडी में फसल की नमी सुखाने के लिए परिसर में फैलाते मजदूर।
X
गोहाना. नई अनाज मंडी में फसल की नमी सुखाने के लिए परिसर में फैलाते मजदूर।गोहाना. नई अनाज मंडी में फसल की नमी सुखाने के लिए परिसर में फैलाते मजदूर।

  • किसानों ने रेट बढ़ाने की मांग की, मंडी में करीब 49433 क्विंटल पहुंच चुका है धान

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 05:11 AM IST

गोहाना. नई अनाज मंडी में धान की आवक बढ़ रही है। अधिकांश किसान कंबाइन मशीन से फसल कटवाकर लेकर आ रहे हैं। मंडी में व्यापारी फसल का जो भाव लगा रहे हैं, किसान उनसे संतुष्ट नहीं हैं। किसानों का कहना है कि व्यापारी कंबाइन से कटी हुई फसल का भाव 200 रुपए तक कम लगा रहे हैं।


अनाज मंडी में विभिन्न किस्म के करीब 49433 क्विंटल धान की आवक हो चुकी है। किसान सुरेंद्र, विक्रम, सत्यवान, कृष्ण, संदीप का कहना है कि कंबाइन मशीन से कटवाई गई फसल का भाव व्यापारी बहुत कम लगा रहे हैं। हाथ से कटी हुई फसल और कंबाइन से कटी हुई फसल के भाव में 200 रुपए प्रति क्विंटल का अंतर है। यह अंतर बहुत अधिक है। इससे किसानों को हजारों रुपए का नुकसान हो रहा है। किसानों का कहना है कि व्यापारी मशीन से कटी हुई फसल में नमी की मात्रा अधिक बता रहे हैं। जबकि किसान फसल पूरी तरह पकने और खेत में सुखाने के बाद मंडी में लेकर आ रहे हैं। किसानों ने प्रशासन से फसलों का सभी भाव दिए जाने की मांग की।


बीते वर्ष से आधी है धान की आवक
अनाज मंडी में बीते वर्ष की अपेक्षा इस बार धान की आवक कम हो रही है। बीते वर्ष मंडी में 93034 क्विंटल धान की आवक हुई थी। इस बार मंडी में 43601 क्विंटल कम आवक हुई है। मार्केट कमेटी अधिकारियों के अनुसार मंडी में अबतक 49433 क्विंटल धान की आवक हुई है।


नमी बता रहे हैं व्यापारी
मंडी में दो एकड़ की फसल लेकर आया हूं। फसल कंबाइन से कटवाई है। व्यापारी फसल को देख नमी की मात्रा अधिक बता रहे हैं। नमी के कारण व्यापारी भाव भी बहुत कम लगा रहे हैं। इससे उनका खर्च पूरा नहीं होगा। रणबीर, किसान।
किसान कंबाइन से फसल कटवाकर सीधे ही मंडी में लेकर आते हैं। इससे फसल में नमी अधिक रहती है। किसान फसल को अच्छी तरह से सुखाकर ही मंडी में लेकर आएं। मापदंडों पर खरी उतरने वाली फसलों का किसानों को सही भाव मिलेगा। परमजीत नांदल, सचिव, मार्केट कमेटी, गोहाना।


भाव में बहुत अधिक अंतर है
मंडी में तीन एकड़ की फसल डाल रखी है। व्यापारी हाथ से कटी हुई फसल का भाव कंबाइन से कटी हुई फसल से 200 रुपए तक कम लगा रहे हैं। कम भाव में फसल बेचने से उसे नुकसान होगा। मार्केट कमेटी अधिकारियों को व्यापारियों की मनमानी पर रोक लगानी चाहिए। राजबीर, किसान।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना