फरीदाबाद लोकसभा सीट / बूथ-88 का दूसरा वीडियो भी जांच में सही मिला, पीठासीन अधिकारी समेत दो गिरफ्तार

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 07:56 AM IST



Two arrested including Presiding Officer in faridabad
X
Two arrested including Presiding Officer in faridabad

पलवल. लोकसभा आम चुनाव के दौरान 12 मई को फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र के गांव असावटी के मतदान केंद्र-88 में हुई गड़बड़ी के मामले में कर्मचारियों पर गाज गिरना जारी है। इसी मतदान केंद्र का एक और वीडियो जारी होने पर हुई जांच में वह सही पाया गया। 

 

मामले में गांव के सरपंच कर्ण उर्फ कंछिद सिंह को निलंबित कर दिया गया है। जबकि पीठासीन अधिकारी अमित अत्री और वीडियो में दिख रहे दूसरे व्यक्ति विजय कुमार के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। हालांकि दोनों को कोर्ट से जमानत मिल गई है। असावटी गांव में लोकसभा चुनावों के दौरान जारी हुई दूसरी वीडियो की एसडीएम जितेंद्र कुमार व सदर थाना प्रभारी कुलदीप सिंह ने जांच पड़ताल करने व गांव के मौजिज लोगों से पूछताछ करने के बाद पीठासीन अधिकारी व एक अन्य व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया।

 

पृथला विधानसभा के असावटी गांव के बूथ नंबर- 88 पर पहले एक वीडियो जारी हुआ था, जिसमें दोषी पाए जाने पर एक एजेंट गिर्राज व पीठासीन अधिकारी अमित अत्री को गिरफ्तार किया गया था। इसी दौरान इसी बूथ नंबर-88 का एक ओर वीडियो चुनाव अधिकारी के संज्ञान में आया, जिसकी जांच सहायक निर्वाचन अधिकारी एवं एसडीएम पलवल जितेंद्र कुमार को सौंपी गई। उन्होंने जांच पाया कि बूथ पर जो व्यक्ति बटन दबाता हुआ दिखाई दे रहा है, वह असावटी निवासी विजय रावत है। इस संबंध में जांच अधिकारी ने गांव के सरपंच, नंबरदार व गणमान्य लोगों के बयान दर्ज कर वीडियो में दिखाई दे रहे व्यक्ति की पुष्टि करने के बाद सदर थाना पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई है।


संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. इंद्रजीत ने कहा कि मामले की जांच के बाद पीठासीन अधिकारी अमित अत्री और संबंधित व्यक्ति विजय के खिलाफ केस दर्ज करा दिया है। अब असावटी के बूथ नंबर-88 पर 19 मई को दोबारा मतदान होगा। सदर थाना प्रभारी कुलदीप सिंह ने बताया कि जांच के बाद उन्होंने मंगलवार देर रात आरोपी विजय व बूथ नंबर 88 के पीठासीन अधिकारी अमित अत्री के खिलाफ 134, 135 आरपी एक्ट, 171 सी व 188 आईपीसी के तहत मामला दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

 

थाना प्रभारी ने कहा कि पीठासीन अधिकारी अमित अत्री इससे पूर्व जारी हुई वीडियो में भी दोषी पाया गया था, जिसमें उसे गिरफ्तार किया गया था, लेकिन उसकी जमानत हो गई थी। पुलिस ने अब आरोपी विजय व अमित अत्री को गिरफ्तार कर बुधवार को अदालत में पेश किया, जहां से दोनों को जमानत मिल गई। 

COMMENT