पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • After 3 Days Of Birth, A 3 And A Half Year Old Girl, Who Was Separated From Her Parents, Was Making A Big Bang In The Da

जन्म के 2 दिन बाद अपनाें से बिछड़ी साढ़े 3 साल की बच्ची डांस में मचा रही धमाल

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डांस में कमाल कर रही मनीषा।
  • महज सात दिन की ट्रेनिंग के बाद बाल महाेत्सव में पाया पहला स्थान, अब जाेनल स्तरीय महाेत्सव में कर रही भागीदारी
  • जन्म के बाद से यह बच्ची लगभग तीन साल सोनीपत की एडॉप्शन एजेंसी में रही
Advertisement
Advertisement

झज्जर (देवेंद्र शुक्ला). अगर आप में प्रतिभा है ताे परिस्थितियां मायने नहीं रखती। यह साबित कर दिखाया है एडाप्शन एजेंसी में रहने वाली महज साढ़े तीन साल की बच्ची मनीषा ने। जन्म के दो दिनाें बाद ही कोई अपना नहीं होने की वजह से यह बच्ची सरकारी एडप्शन एजेंसी में आ गई थी। तब से यह यहीं पल रही है। अब एडाप्शन एजेंसी ही इसका घर है और स्टाफ परिवार है।
 
इस बच्ची ने 6 से 9 नवंबर काे हुए जिलास्तरीय बाल उत्सव में प्रथम स्थान हासिल किया। अब मनीषा झज्जर के बाल भवन में हरियाणा स्टेट काउंसिल फॉर चाइल्ड वेलफेयर की जोनल स्तरीय प्रतियोगिता में अपनी डांस परफॉर्मेंस दे रही है। जन्म के बाद से यह बच्ची लगभग तीन साल सोनीपत की एडॉप्शन एजेंसी में रही। अब दो माह से झज्जर भेजा गया है। जिला बाल कल्याण अधिकारी ओमप्रकाश ने बताया कि स्पेशल 7 दिन टीचर रखकर डांस की प्रैक्टिस करवाई गई। छोटी सी प्रैक्टिस के बाद बच्ची डांस में प्रथम आई है।

अकेले कमरे में म्यूजिक पर थिरकते देखा तो लगा यह बच्ची कुछ खास है
हाउस मदर पूनम ने बताया कि आम तौर पर बच्चों को मनोरंजन देने के लिए वाे म्यूजिक सिस्टम चला देती हैं। बच्चे अपने हिसाब से डांस करते हैं लेकिन मनीषा कभी भी किसी बच्चे के साथ नहीं नाचती थी लेकिन वो जब भी म्यूजिक चलता तो बाल भवन के किसी कोने में जाकर अपने मन से डांस करने लग जाती थी। पूनम ने कहा कि जब उसने कई बार यह महसूस हुआ कि मनीषा को डांस का शौक तो है लेकिन सबके सामने करने की िझझक है। तब खुद उसके साथ डांस करके उसकी यही झिझक दूर करने लगी। उसने तय कर लिया कि मनीषा काे पहली बार जिला बाल महाेत्सव के लिए मंच पर उतारा जाएगा। तब उसके लिए एक स्पेशल डांस टीचर की तैनाती महज 7 दिनाें के लिए की गई और उसी का परिणाम रहा कि 6 से 9 नवंबर तक जिला बाल महोत्सव हुआ।

बच्ची सबके दिल के करीब, ऊंचाइयों पर ले जाने कोशिश
बाल भवन की हाउस मदर पूनम का कहना है कि वैसे तो बाल भवन में 18 साल तक के बच्चे मौजूद हैं और सभी बच्चे उनके लिए एक समान हैं, लेकिन मनीषा उसके दिल के काफी करीब है। बाकी बच्चे तो उसे आंटी कहते हैं लेकिन यह बच्ची उसे मम्मा कहकर बुलाती है। पूनम ने भावुक होते हुए कहा कि उसे पूरा भराेसा है िक यह बच्ची आगे जाकर अपनी प्रतिभा की नई ऊंचाइयों को पहुंचाने का काम करेगी। पूनम ने बताया कि उसकी भी कोशिश है कि मनीषा काे अागे भी इसी तरह टैलेंट का मंच प्रदान हाेता रहे।
 

मंच पर डांस करते देखा तो जिला बाल कल्याण अधिकारी ने छूए पैर
मनीषा को मंच मिला और उसने सभी काे अपनी डांस प्रस्तुति से प्रभावित िकया। लाेगाें अाैर मुख्यातिथि की ताली की गड़गड़ाहट के बीच जिला बाल कल्याण अधिकारी बहुत भावुक हुए। वह सीधे मंच पर गए और मनीषा के पैरों की ओर नतमस्तक हो गए। उन्होंने कहा यह बच्ची वाकई नाम रोशन करेगी।
 
 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement